Look Inside
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana
Aadhunikata Aur Hindi Aalochana

Aadhunikata Aur Hindi Aalochana

Regular price Rs. 460
Sale price Rs. 460 Regular price Rs. 495
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aadhunikata Aur Hindi Aalochana

Aadhunikata Aur Hindi Aalochana

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

बीसवीं सदी में आलोचना की अनेक धारणाओं का विकास हुआ है जिनमें भाषागत और शैलीगत आलोचना, अस्तित्ववादी आलोचना, मिथकीय आलोचना को गिना जाता है। इनके मूल में आधुनिकता की चुनौती है और इनमें आपसी विरोध भी है। हर धारणा की अपनी-अपनी उपलब्धियाँ और सीमाएँ भी हैं जिनका विश्लेषण और विवेचन अनेक दृष्टियों से किया गया है।
आलोचना की इन धारणाओं और दृष्टियों का अपना-अपना इतिहास और विकास है जिनकी राह से गुज़रकर एक बात रोशन होने लगती है कि इनका विकास कविता को लेकर अधिक हुआ है, उपन्यास, कहानी और नाटक को लेकर कम। यह शायद इसलिए कि कविता में आधुनिकता की चुनौती का अधिक सामना किया गया है और इसकी आलोचना की परम्परा भी अधिक लम्बी है। नाटक की आलोचना की परम्परा भी काफ़ी पुरानी है। उपन्यास और कहानी की विधा हाल की है और हाल में उपन्यास और कहानी की आलोचना के अन्दाज़ और मिज़ाज भी बदले हैं।
आधुनिकता के बोध ने अरस्तू आदि के सिद्धान्तों पर नई रोशनी भी डाली है; लेकिन भारतीय काव्यशास्त्र पर रोमांटिक बोध की छाप तो लग चुकी है, आधुनिकता की दृष्टि से इसका फिर से आँका जाना अभी शेष है। इस तरह आलोचना फिर से अपने अस्तित्व को क़ायम रखने के लिए, अपनी अस्मिता को जानने-पहचानने के लिए अनेक दिशाओं में भटकने की गवाही दे रही है।
इस पुस्तक में समकालीन आलोचना में आधुनिकता की खोज, उसे समझने और रेखांकित करने के प्रयासों का जायज़ा लिया गया है। चार प्रमुख साहित्यिक विधाओं की आलोचना का ऐतिहासिक और वैचारिक विश्लेषण करते हुए यह जानने की कोशिश की गई है, कि हिन्दी की आलोचना आधुनिकता को किस रूप में और किस हद तक पहचान पा रही है। Bisvin sadi mein aalochna ki anek dharnaon ka vikas hua hai jinmen bhashagat aur shailigat aalochna, astitvvadi aalochna, mithkiy aalochna ko gina jata hai. Inke mul mein aadhunikta ki chunauti hai aur inmen aapsi virodh bhi hai. Har dharna ki apni-apni uplabdhiyan aur simayen bhi hain jinka vishleshan aur vivechan anek drishtiyon se kiya gaya hai. Aalochna ki in dharnaon aur drishtiyon ka apna-apna itihas aur vikas hai jinki raah se guzarkar ek baat roshan hone lagti hai ki inka vikas kavita ko lekar adhik hua hai, upanyas, kahani aur natak ko lekar kam. Ye shayad isaliye ki kavita mein aadhunikta ki chunauti ka adhik samna kiya gaya hai aur iski aalochna ki parampra bhi adhik lambi hai. Natak ki aalochna ki parampra bhi kafi purani hai. Upanyas aur kahani ki vidha haal ki hai aur haal mein upanyas aur kahani ki aalochna ke andaz aur mizaj bhi badle hain.
Aadhunikta ke bodh ne arastu aadi ke siddhanton par nai roshni bhi dali hai; lekin bhartiy kavyshastr par romantik bodh ki chhap to lag chuki hai, aadhunikta ki drishti se iska phir se aanka jana abhi shesh hai. Is tarah aalochna phir se apne astitv ko qayam rakhne ke liye, apni asmita ko janne-pahchanne ke liye anek dishaon mein bhatakne ki gavahi de rahi hai.
Is pustak mein samkalin aalochna mein aadhunikta ki khoj, use samajhne aur rekhankit karne ke pryason ka jayza liya gaya hai. Char prmukh sahityik vidhaon ki aalochna ka aitihasik aur vaicharik vishleshan karte hue ye janne ki koshish ki gai hai, ki hindi ki aalochna aadhunikta ko kis rup mein aur kis had tak pahchan pa rahi hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products