BackBack
-11%

Aadhunik Hindi Upanyaas : Vol. 1

Ed. Bhishma Sahini, Ramji Mishra, Bhagwati Prasad Nadariya

Rs. 995 Rs. 886

प्रेमचन्द ने पहली बार इस सत्य को पहचाना कि उपन्यास सोद्देश्य होने चाहिए अर्थात् उपन्यास या कोई भी साहित्यिक विधा मनोरंजन के लिए नहीं होती वरन् वह मानव-जीवन को शक्ति और सुन्दरता प्रदान करनेवाली सोद्देश्य रचना होती है। प्रेमचन्द में यथार्थ के जिन दो आयामों (सामाजिक और मनोवैज्ञानिक) का उद्घाटन... Read More

Description

प्रेमचन्द ने पहली बार इस सत्य को पहचाना कि उपन्यास सोद्देश्य होने चाहिए अर्थात् उपन्यास या कोई भी साहित्यिक विधा मनोरंजन के लिए नहीं होती वरन् वह मानव-जीवन को शक्ति और सुन्दरता प्रदान करनेवाली सोद्देश्य रचना होती है।
प्रेमचन्द में यथार्थ के जिन दो आयामों (सामाजिक और मनोवैज्ञानिक) का उद्घाटन हुआ, वे प्रेमचन्द के बाद अलग-अलग धाराओं में बँटकर तथा अपनी-अपनी धारा की अन्य अनेक सूक्ष्म बातों में संश्लिष्ट होकर बहुत तीव्र और विशिष्ट रूप में विकसित होते गए। एक ओर मनोविज्ञान की धारा बही, दूसरी ओर समाजवाद की।
प्रेमचन्दोत्तर सामाजिक उपन्यासों में मार्क्सवाद का स्वर प्रधान न भी रहा हो, किन्तु उसका प्रभाव निश्चय ही अन्तर्निहित रहा है। उसके प्रभाव के कारण ही निर्मम भाव से सामाजिक विसंगतियों को उद्घाटित किया गया। आंचलिक उपन्यासों की भी जन-चेतना उन्हें प्रेमचन्द से जोड़ती है, किन्तु अपने स्वरूप और दृष्टि में ये बहुत भिन्न हैं। इन्हें उपन्यास की एक नई विधा के रूप में ही स्वीकारना चाहिए।
यह आकस्मिक नहीं है कि स्वाधीनता प्राप्ति के बाद उपन्यास तो बहुत सारे लिखे गए किन्तु उपलब्धि के शिखरों को वे ही छू सके जो सामाजिक जीवन के अनुभवों के प्रति समर्पित रहे, जिनकी दृष्टि की आधुनिकता एक मुद्रा या तेवर की तरह टँगी नहीं रही, बल्कि सघन जीवन-यथार्थ के अनुभवों के बीच एक रचनात्मक शक्ति बनकर व्याप्त रही।
'आधुनिक हिन्दी उपन्यास' के सफ़र पर केन्द्रित यह पुस्तक 'गोदान' से लेकर आठवें दशक तक के महत्त्वपूर्ण उपन्यासों तक आती है। उल्लेखनीय है कि चालीस से अधिक जो उपन्यास इस चर्चा के केन्द्र में हैं; उनमें से अधिकांश हिन्दी के 'क्लासिक्स' के रूप में प्रतिष्ठित हुए। यह पुस्तक केवल समीक्षा-संकलन नहीं है; सन्दर्भित उपन्यासों के रचनाकारों के आत्मकथ्य इसे एक रचनात्मक आयाम भी देते हैं जिनसे हमें इन उपन्यासों की रचना-प्रक्रिया का पता चलता है। Premchand ne pahli baar is satya ko pahchana ki upanyas soddeshya hone chahiye arthat upanyas ya koi bhi sahityik vidha manoranjan ke liye nahin hoti varan vah manav-jivan ko shakti aur sundarta prdan karnevali soddeshya rachna hoti hai. Premchand mein yatharth ke jin do aayamon (samajik aur manovaigyanik) ka udghatan hua, ve premchand ke baad alag-alag dharaon mein bantakar tatha apni-apni dhara ki anya anek sukshm baton mein sanshlisht hokar bahut tivr aur vishisht rup mein viksit hote ge. Ek or manovigyan ki dhara bahi, dusri or samajvad ki.
Premchandottar samajik upanyason mein marksvad ka svar prdhan na bhi raha ho, kintu uska prbhav nishchay hi antarnihit raha hai. Uske prbhav ke karan hi nirmam bhav se samajik visangatiyon ko udghatit kiya gaya. Aanchlik upanyason ki bhi jan-chetna unhen premchand se jodti hai, kintu apne svrup aur drishti mein ye bahut bhinn hain. Inhen upanyas ki ek nai vidha ke rup mein hi svikarna chahiye.
Ye aakasmik nahin hai ki svadhinta prapti ke baad upanyas to bahut sare likhe ge kintu uplabdhi ke shikhron ko ve hi chhu sake jo samajik jivan ke anubhvon ke prati samarpit rahe, jinki drishti ki aadhunikta ek mudra ya tevar ki tarah tangi nahin rahi, balki saghan jivan-yatharth ke anubhvon ke bich ek rachnatmak shakti bankar vyapt rahi.
Adhunik hindi upanyas ke safar par kendrit ye pustak godan se lekar aathven dashak tak ke mahattvpurn upanyason tak aati hai. Ullekhniy hai ki chalis se adhik jo upanyas is charcha ke kendr mein hain; unmen se adhikansh hindi ke klasiks ke rup mein prtishthit hue. Ye pustak keval samiksha-sanklan nahin hai; sandarbhit upanyason ke rachnakaron ke aatmkathya ise ek rachnatmak aayam bhi dete hain jinse hamein in upanyason ki rachna-prakriya ka pata chalta hai.