Look Inside
Aadhunik Bharatiya Natya Vimarsh
Aadhunik Bharatiya Natya Vimarsh
Aadhunik Bharatiya Natya Vimarsh
Aadhunik Bharatiya Natya Vimarsh

Aadhunik Bharatiya Natya Vimarsh

Regular price Rs. 929
Sale price Rs. 929 Regular price Rs. 999
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

Aadhunik Bharatiya Natya Vimarsh

Aadhunik Bharatiya Natya Vimarsh

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

वरिष्ठ नाट्य-समीक्षक जयदेव तनेजा की इस नई पुस्तक ‘आधुनिक भारतीय नाट्य-विमर्श’ में ऐसे नाटककारों और नाटकों की समीक्षा की गई है जो पिछले लगभग सौ वर्षों से अपनी सार्थकता एवं प्रासंगिकता बनाए हुए हैं। यही नहीं, संस्कृत नाट्य-काल से लेकर इक्कीसवीं सदी के प्रथम दशक में उभरे/उभर रहे उन युवा नाटककारों की चर्चा भी इस पुस्तक में है, जिन्हें समीक्षक ने भावी भारतीय नाट्य-कर्म की समृद्ध सम्भावना के रूप में पहचाना है। नाटककार और निर्देशक परस्पर पूरक और समानधर्मा सृजनकर्मी हैं। यहाँ उन भारतीय नाटककारों की चर्चा-समीक्षा की गई है, जिनका आधुनिक नाट्य-परिदृश्य को बनाने में कमोबेश महत्त्वपूर्ण योगदान रहा है। दीर्घजीवी अथवा लगभग कालजयी उन श्रेष्ठ नाट्यालेखों को समीक्षा के लिए चुना गया है, जो अपनी बहुमंचीयता से अपनी महत्ता, प्रासंगिकता और बहुअर्थगर्भी सार्थकता सिद्ध कर चुके हैं और जिनकी सम्भावनाएँ अभी चुकी नहीं हैं।
यह पुस्तक पुरानी नाट्य-कृतियों को साहित्य-रंगमंच सम्पृक्त नई दृष्टि से विश्लेषित एवं पुनर्मूल्यांकित करती है और अपेक्षाकृत नई कृतियों की समृद्ध सम्भावनाओं के उद्घाटन द्वारा भावी नाट्य-परिदृश्य का संकेत भी देती है। आलोचक का उद्देश्य मूल आलेख की आत्मा की रक्षा करते हुए यहाँ बहुसंख्य महत्त्वपूर्ण भारतीय रचनाकारों एवं उनके उपलिब्धपूर्ण कुछ चुने हुए नाटकों की सामर्थ्य और सीमाओं को रेखांकित करने का प्रयास करना है। संस्कृत, लोक, पारसी और प्रसाद के नाटकों के आधुनिक रंग-प्रयोगों की चर्चा तथा उनकी समकालीनता की जाँच-परख इस पुस्तक का एक नया आयाम है। आशा करनी चाहिए कि लेखक की पूर्ववर्ती पुस्तकों की तरह यह भी अपनी उपयोगिता सिद्ध करेगी और सभी वर्गों के प्रबुद्ध पाठक खुले दिल से इसका स्वागत करेंगे। Varishth natya-samikshak jaydev taneja ki is nai pustak ‘adhunik bhartiy natya-vimarsh’ mein aise natakkaron aur natkon ki samiksha ki gai hai jo pichhle lagbhag sau varshon se apni sarthakta evan prasangikta banaye hue hain. Yahi nahin, sanskrit natya-kal se lekar ikkisvin sadi ke prtham dashak mein ubhre/ubhar rahe un yuva natakkaron ki charcha bhi is pustak mein hai, jinhen samikshak ne bhavi bhartiy natya-karm ki samriddh sambhavna ke rup mein pahchana hai. Natakkar aur nirdeshak paraspar purak aur samandharma srijankarmi hain. Yahan un bhartiy natakkaron ki charcha-samiksha ki gai hai, jinka aadhunik natya-paridrishya ko banane mein kamobesh mahattvpurn yogdan raha hai. Dirghjivi athva lagbhag kalajyi un shreshth natyalekhon ko samiksha ke liye chuna gaya hai, jo apni bahumanchiyta se apni mahatta, prasangikta aur bahuarthgarbhi sarthakta siddh kar chuke hain aur jinki sambhavnayen abhi chuki nahin hain. Ye pustak purani natya-kritiyon ko sahitya-rangmanch samprikt nai drishti se vishleshit evan punarmulyankit karti hai aur apekshakrit nai kritiyon ki samriddh sambhavnaon ke udghatan dvara bhavi natya-paridrishya ka sanket bhi deti hai. Aalochak ka uddeshya mul aalekh ki aatma ki raksha karte hue yahan bahusankhya mahattvpurn bhartiy rachnakaron evan unke uplibdhpurn kuchh chune hue natkon ki samarthya aur simaon ko rekhankit karne ka pryas karna hai. Sanskrit, lok, parsi aur prsad ke natkon ke aadhunik rang-pryogon ki charcha tatha unki samkalinta ki janch-parakh is pustak ka ek naya aayam hai. Aasha karni chahiye ki lekhak ki purvvarti pustkon ki tarah ye bhi apni upyogita siddh karegi aur sabhi vargon ke prbuddh pathak khule dil se iska svagat karenge.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products