BackBack
-11%

Aadhe-Adhoore

Mohan Rakesh

Rs. 399 Rs. 355

‘आधे-अधूरे’ आज के जीवन के एक गहन अनुभव–खंड को मूर्त करता है। इसके लिए हिन्दी के जीवन्‍त मुहावरे को पकड़ने की सार्थक, प्रभावशाली कोशिश की गई है। ...इस नाटक की एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण विशेषता इसकी भाषा है। इसमें वह सामर्थ्य है जो समकालीन जीवन के तनाव को पकड़ सके। शब्दों... Read More

BlackBlack
Description

‘आधे-अधूरे’ आज के जीवन के एक गहन अनुभव–खंड को मूर्त करता है। इसके लिए हिन्दी के जीवन्‍त मुहावरे को पकड़ने की सार्थक, प्रभावशाली कोशिश की गई है।
...इस नाटक की एक अत्यंत महत्त्वपूर्ण विशेषता इसकी भाषा है। इसमें वह सामर्थ्य है जो समकालीन जीवन के तनाव को पकड़ सके। शब्दों का चयन, उनका क्रम, उनका संयोजन—सबकुछ ऐसा है जो बहुत सम्‍पूर्णता से अभिप्रेत को अभिव्यक्त करता है। लिखित शब्द की यही शक्ति और उच्चारित ध्वनि–समूह का यही बल है, जिसके कारण यह नाट्य–रचना बन्‍द और खुले, दोनों प्रकार के मंचों पर अपना सम्मोहन बनाए रख सकी।
...यह नाट्यलेख, एक स्तर पर स्त्री–पुरुष के बीच के लगाव और तनाव का दस्तावेज़ है...दूसरे स्तर पर पारिवारिक विघटन की गाथा है। एक अन्य स्तर पर यह नाट्य–रचना मानवीय संतोष के अधूरेपन का रेखांकन है। जो लोग ज़ि‍न्‍दगी से बहुत कुछ चाहते हैं, उनकी तृप्ति अधूरी ही रहती है।
एक ही अभिनेता द्वारा पाँच पृथक् भूमिकाएँ निभाए जाने की दिलचस्प रंगयुक्ति का सहारा इस नाटक की एक और विशेषता है।
संक्षेप में कहें तो ‘आधे–अधूरे’ समकालीन ज़िन्दगी का पहला सार्थक हिन्दी नाटक है। इसका गठन सुदृढ़ एवं रंगोपयुक्त है। पूरे नाटक की अवधारणा के पीछे सूक्ष्म रंगचेतना निहित है। ‘adhe-adhure’ aaj ke jivan ke ek gahan anubhav–khand ko murt karta hai. Iske liye hindi ke jivan‍ta muhavre ko pakadne ki sarthak, prbhavshali koshish ki gai hai. . . . Is natak ki ek atyant mahattvpurn visheshta iski bhasha hai. Ismen vah samarthya hai jo samkalin jivan ke tanav ko pakad sake. Shabdon ka chayan, unka kram, unka sanyojan—sabkuchh aisa hai jo bahut sam‍purnta se abhipret ko abhivyakt karta hai. Likhit shabd ki yahi shakti aur uchcharit dhvani–samuh ka yahi bal hai, jiske karan ye natya–rachna ban‍da aur khule, donon prkar ke manchon par apna sammohan banaye rakh saki.
. . . Ye natylekh, ek star par stri–purush ke bich ke lagav aur tanav ka dastavez hai. . . Dusre star par parivarik vightan ki gatha hai. Ek anya star par ye natya–rachna manviy santosh ke adhurepan ka rekhankan hai. Jo log zi‍‍dagi se bahut kuchh chahte hain, unki tripti adhuri hi rahti hai.
Ek hi abhineta dvara panch prithak bhumikayen nibhaye jane ki dilchasp rangyukti ka sahara is natak ki ek aur visheshta hai.
Sankshep mein kahen to ‘adhe–adhure’ samkalin zindagi ka pahla sarthak hindi natak hai. Iska gathan sudridh evan rangopyukt hai. Pure natak ki avdharna ke pichhe sukshm rangchetna nihit hai.