BackBack

Aacharya Hazariprasad Dwivedi ke Shresth Nibandh

Hazariprasad Dwivedi, Ed. Vinod Tiwari

Rs. 550

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी का रचना-संसार वैविध्यपूर्ण और साहित्यिक व्यक्तित्व बहुआयामी था। वे संस्कृत के शास्‍त्री थे, ज्योतिष के आचार्य। कवि, आलोचक, उपन्यासकार, निबन्धकार, सम्पादक, अनुवादक और भी न जाने क्या-क्या थे। वे पंडित भी थे और प्रोफ़ेसर भी, आचार्य तो थे ही। वे अपने समय के एक बहुत ही अच्छे... Read More

readsample_tab

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी का रचना-संसार वैविध्यपूर्ण और साहित्यिक व्यक्तित्व बहुआयामी था। वे संस्कृत के शास्‍त्री थे, ज्योतिष के आचार्य। कवि, आलोचक, उपन्यासकार, निबन्धकार, सम्पादक, अनुवादक और भी न जाने क्या-क्या थे। वे पंडित भी थे और प्रोफ़ेसर भी, आचार्य तो थे ही। वे अपने समय के एक बहुत ही अच्छे वक्ता थे। सबसे बड़ी बात यह थी कि वे एक कुशल अध्यापक और सच्चे जिज्ञासु अनुसन्‍धाता थे। बलराज साहनी ने उनकी इस अनुसंधान वृति को लक्षित करते हुए लिखा है, ‘‘सूई से लेकर सोशिलिज्म तक सभी वस्तुओं का अनुसन्‍धान करने के लिए वे उत्सुक रहते।’’ तभी तो वे, बालू से भी तेल निकाल लेने की बात करते हैं, अगर सही और ठीक ढंग का बालू मिल जाए। उनके इस अनुसन्धान और अध्ययन-मनन की सबसे बड़ी ताक़त थी एक साथ कई भाषाओं और परम्पराओं की जानकारी। वे जहाँ संस्कृत, पालि, प्राकृत और अपभ्रंश जैसी प्राचीन भारतीय भाषाओं के साथ भारतीय साहित्य, दर्शन चिन्तन की ज्ञान-परम्पराओं को अपनी सांस्कृतिक-चेतना में धारण किए हुए थे, वहीं हिन्दी, अंग्रेज़ी, बांग्ला और पंजाबी जैसी आधुनिक भारतीय व विदेशी भाषाओं के साथ आधुनिक ज्ञान-परम्परा को भी। परम्परा और आधुनिकता का ऐसा मेल कम ही साहित्यकारों में देखने को मिलता है। परम्परा और आधुनिकता के इस प्रीतिकर मेल से उन्होंने हिन्दी साहित्य-शास्त्र को मूल्यांकन का एक नया आयाम दिया। लोक और शास्त्र को जिस इतिहास-बोध से द्विवेदी जी ने मूल्यांकित किया है, वह इस नाते महत्‍त्‍वपूर्ण है कि उसमें किसी तरह का महिमामंडन या भाव-विह्वल गौरव गान नहीं मिलता, बल्कि एक वैज्ञानिक चेतना सम्‍पन्न सामाजिक-सांस्कृतिक दृष्टि मिलती है, जिसका पहला और आख़िरी लक्ष्य मनुष्य है—उसका मृत्य, उसकी मबीता और उसका श्रम है। Aacharya hajariprsad dvivedi ka rachna-sansar vaividhypurn aur sahityik vyaktitv bahuayami tha. Ve sanskrit ke shas‍tri the, jyotish ke aacharya. Kavi, aalochak, upanyaskar, nibandhkar, sampadak, anuvadak aur bhi na jane kya-kya the. Ve pandit bhi the aur profesar bhi, aacharya to the hi. Ve apne samay ke ek bahut hi achchhe vakta the. Sabse badi baat ye thi ki ve ek kushal adhyapak aur sachche jigyasu anusan‍dhata the. Balraj sahni ne unki is anusandhan vriti ko lakshit karte hue likha hai, ‘‘sui se lekar soshilijm tak sabhi vastuon ka anusan‍dhan karne ke liye ve utsuk rahte. ’’ tabhi to ve, balu se bhi tel nikal lene ki baat karte hain, agar sahi aur thik dhang ka balu mil jaye. Unke is anusandhan aur adhyyan-manan ki sabse badi taqat thi ek saath kai bhashaon aur parampraon ki jankari. Ve jahan sanskrit, pali, prakrit aur apabhransh jaisi prachin bhartiy bhashaon ke saath bhartiy sahitya, darshan chintan ki gyan-parampraon ko apni sanskritik-chetna mein dharan kiye hue the, vahin hindi, angrezi, bangla aur panjabi jaisi aadhunik bhartiy va videshi bhashaon ke saath aadhunik gyan-parampra ko bhi. Parampra aur aadhunikta ka aisa mel kam hi sahitykaron mein dekhne ko milta hai. Parampra aur aadhunikta ke is pritikar mel se unhonne hindi sahitya-shastr ko mulyankan ka ek naya aayam diya. Lok aur shastr ko jis itihas-bodh se dvivedi ji ne mulyankit kiya hai, vah is nate mahat‍‍vapurn hai ki usmen kisi tarah ka mahimamandan ya bhav-vihval gaurav gaan nahin milta, balki ek vaigyanik chetna sam‍pann samajik-sanskritik drishti milti hai, jiska pahla aur aakhiri lakshya manushya hai—uska mritya, uski mabita aur uska shram hai.

Description

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी का रचना-संसार वैविध्यपूर्ण और साहित्यिक व्यक्तित्व बहुआयामी था। वे संस्कृत के शास्‍त्री थे, ज्योतिष के आचार्य। कवि, आलोचक, उपन्यासकार, निबन्धकार, सम्पादक, अनुवादक और भी न जाने क्या-क्या थे। वे पंडित भी थे और प्रोफ़ेसर भी, आचार्य तो थे ही। वे अपने समय के एक बहुत ही अच्छे वक्ता थे। सबसे बड़ी बात यह थी कि वे एक कुशल अध्यापक और सच्चे जिज्ञासु अनुसन्‍धाता थे। बलराज साहनी ने उनकी इस अनुसंधान वृति को लक्षित करते हुए लिखा है, ‘‘सूई से लेकर सोशिलिज्म तक सभी वस्तुओं का अनुसन्‍धान करने के लिए वे उत्सुक रहते।’’ तभी तो वे, बालू से भी तेल निकाल लेने की बात करते हैं, अगर सही और ठीक ढंग का बालू मिल जाए। उनके इस अनुसन्धान और अध्ययन-मनन की सबसे बड़ी ताक़त थी एक साथ कई भाषाओं और परम्पराओं की जानकारी। वे जहाँ संस्कृत, पालि, प्राकृत और अपभ्रंश जैसी प्राचीन भारतीय भाषाओं के साथ भारतीय साहित्य, दर्शन चिन्तन की ज्ञान-परम्पराओं को अपनी सांस्कृतिक-चेतना में धारण किए हुए थे, वहीं हिन्दी, अंग्रेज़ी, बांग्ला और पंजाबी जैसी आधुनिक भारतीय व विदेशी भाषाओं के साथ आधुनिक ज्ञान-परम्परा को भी। परम्परा और आधुनिकता का ऐसा मेल कम ही साहित्यकारों में देखने को मिलता है। परम्परा और आधुनिकता के इस प्रीतिकर मेल से उन्होंने हिन्दी साहित्य-शास्त्र को मूल्यांकन का एक नया आयाम दिया। लोक और शास्त्र को जिस इतिहास-बोध से द्विवेदी जी ने मूल्यांकित किया है, वह इस नाते महत्‍त्‍वपूर्ण है कि उसमें किसी तरह का महिमामंडन या भाव-विह्वल गौरव गान नहीं मिलता, बल्कि एक वैज्ञानिक चेतना सम्‍पन्न सामाजिक-सांस्कृतिक दृष्टि मिलती है, जिसका पहला और आख़िरी लक्ष्य मनुष्य है—उसका मृत्य, उसकी मबीता और उसका श्रम है। Aacharya hajariprsad dvivedi ka rachna-sansar vaividhypurn aur sahityik vyaktitv bahuayami tha. Ve sanskrit ke shas‍tri the, jyotish ke aacharya. Kavi, aalochak, upanyaskar, nibandhkar, sampadak, anuvadak aur bhi na jane kya-kya the. Ve pandit bhi the aur profesar bhi, aacharya to the hi. Ve apne samay ke ek bahut hi achchhe vakta the. Sabse badi baat ye thi ki ve ek kushal adhyapak aur sachche jigyasu anusan‍dhata the. Balraj sahni ne unki is anusandhan vriti ko lakshit karte hue likha hai, ‘‘sui se lekar soshilijm tak sabhi vastuon ka anusan‍dhan karne ke liye ve utsuk rahte. ’’ tabhi to ve, balu se bhi tel nikal lene ki baat karte hain, agar sahi aur thik dhang ka balu mil jaye. Unke is anusandhan aur adhyyan-manan ki sabse badi taqat thi ek saath kai bhashaon aur parampraon ki jankari. Ve jahan sanskrit, pali, prakrit aur apabhransh jaisi prachin bhartiy bhashaon ke saath bhartiy sahitya, darshan chintan ki gyan-parampraon ko apni sanskritik-chetna mein dharan kiye hue the, vahin hindi, angrezi, bangla aur panjabi jaisi aadhunik bhartiy va videshi bhashaon ke saath aadhunik gyan-parampra ko bhi. Parampra aur aadhunikta ka aisa mel kam hi sahitykaron mein dekhne ko milta hai. Parampra aur aadhunikta ke is pritikar mel se unhonne hindi sahitya-shastr ko mulyankan ka ek naya aayam diya. Lok aur shastr ko jis itihas-bodh se dvivedi ji ne mulyankit kiya hai, vah is nate mahat‍‍vapurn hai ki usmen kisi tarah ka mahimamandan ya bhav-vihval gaurav gaan nahin milta, balki ek vaigyanik chetna sam‍pann samajik-sanskritik drishti milti hai, jiska pahla aur aakhiri lakshya manushya hai—uska mritya, uski mabita aur uska shram hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Lokbharti Prakashan
Language Hindi
ISBN 9789386863867
Pages 222p
Publishing Year 2018

Aacharya Hazariprasad Dwivedi ke Shresth Nibandh

आचार्य हजारीप्रसाद द्विवेदी का रचना-संसार वैविध्यपूर्ण और साहित्यिक व्यक्तित्व बहुआयामी था। वे संस्कृत के शास्‍त्री थे, ज्योतिष के आचार्य। कवि, आलोचक, उपन्यासकार, निबन्धकार, सम्पादक, अनुवादक और भी न जाने क्या-क्या थे। वे पंडित भी थे और प्रोफ़ेसर भी, आचार्य तो थे ही। वे अपने समय के एक बहुत ही अच्छे वक्ता थे। सबसे बड़ी बात यह थी कि वे एक कुशल अध्यापक और सच्चे जिज्ञासु अनुसन्‍धाता थे। बलराज साहनी ने उनकी इस अनुसंधान वृति को लक्षित करते हुए लिखा है, ‘‘सूई से लेकर सोशिलिज्म तक सभी वस्तुओं का अनुसन्‍धान करने के लिए वे उत्सुक रहते।’’ तभी तो वे, बालू से भी तेल निकाल लेने की बात करते हैं, अगर सही और ठीक ढंग का बालू मिल जाए। उनके इस अनुसन्धान और अध्ययन-मनन की सबसे बड़ी ताक़त थी एक साथ कई भाषाओं और परम्पराओं की जानकारी। वे जहाँ संस्कृत, पालि, प्राकृत और अपभ्रंश जैसी प्राचीन भारतीय भाषाओं के साथ भारतीय साहित्य, दर्शन चिन्तन की ज्ञान-परम्पराओं को अपनी सांस्कृतिक-चेतना में धारण किए हुए थे, वहीं हिन्दी, अंग्रेज़ी, बांग्ला और पंजाबी जैसी आधुनिक भारतीय व विदेशी भाषाओं के साथ आधुनिक ज्ञान-परम्परा को भी। परम्परा और आधुनिकता का ऐसा मेल कम ही साहित्यकारों में देखने को मिलता है। परम्परा और आधुनिकता के इस प्रीतिकर मेल से उन्होंने हिन्दी साहित्य-शास्त्र को मूल्यांकन का एक नया आयाम दिया। लोक और शास्त्र को जिस इतिहास-बोध से द्विवेदी जी ने मूल्यांकित किया है, वह इस नाते महत्‍त्‍वपूर्ण है कि उसमें किसी तरह का महिमामंडन या भाव-विह्वल गौरव गान नहीं मिलता, बल्कि एक वैज्ञानिक चेतना सम्‍पन्न सामाजिक-सांस्कृतिक दृष्टि मिलती है, जिसका पहला और आख़िरी लक्ष्य मनुष्य है—उसका मृत्य, उसकी मबीता और उसका श्रम है। Aacharya hajariprsad dvivedi ka rachna-sansar vaividhypurn aur sahityik vyaktitv bahuayami tha. Ve sanskrit ke shas‍tri the, jyotish ke aacharya. Kavi, aalochak, upanyaskar, nibandhkar, sampadak, anuvadak aur bhi na jane kya-kya the. Ve pandit bhi the aur profesar bhi, aacharya to the hi. Ve apne samay ke ek bahut hi achchhe vakta the. Sabse badi baat ye thi ki ve ek kushal adhyapak aur sachche jigyasu anusan‍dhata the. Balraj sahni ne unki is anusandhan vriti ko lakshit karte hue likha hai, ‘‘sui se lekar soshilijm tak sabhi vastuon ka anusan‍dhan karne ke liye ve utsuk rahte. ’’ tabhi to ve, balu se bhi tel nikal lene ki baat karte hain, agar sahi aur thik dhang ka balu mil jaye. Unke is anusandhan aur adhyyan-manan ki sabse badi taqat thi ek saath kai bhashaon aur parampraon ki jankari. Ve jahan sanskrit, pali, prakrit aur apabhransh jaisi prachin bhartiy bhashaon ke saath bhartiy sahitya, darshan chintan ki gyan-parampraon ko apni sanskritik-chetna mein dharan kiye hue the, vahin hindi, angrezi, bangla aur panjabi jaisi aadhunik bhartiy va videshi bhashaon ke saath aadhunik gyan-parampra ko bhi. Parampra aur aadhunikta ka aisa mel kam hi sahitykaron mein dekhne ko milta hai. Parampra aur aadhunikta ke is pritikar mel se unhonne hindi sahitya-shastr ko mulyankan ka ek naya aayam diya. Lok aur shastr ko jis itihas-bodh se dvivedi ji ne mulyankit kiya hai, vah is nate mahat‍‍vapurn hai ki usmen kisi tarah ka mahimamandan ya bhav-vihval gaurav gaan nahin milta, balki ek vaigyanik chetna sam‍pann samajik-sanskritik drishti milti hai, jiska pahla aur aakhiri lakshya manushya hai—uska mritya, uski mabita aur uska shram hai.