Look Inside
5 Pills Depression-Stress Se Mukti Ke Liye
5 Pills Depression-Stress Se Mukti Ke Liye
5 Pills Depression-Stress Se Mukti Ke Liye
5 Pills Depression-Stress Se Mukti Ke Liye

5 Pills Depression-Stress Se Mukti Ke Liye

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

5 Pills Depression-Stress Se Mukti Ke Liye

5 Pills Depression-Stress Se Mukti Ke Liye

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

निराशा के समन्दर में गोते लगाते लोग अक्सर यह भूल जाते हैं कि ईश्वर ने हमें एक अद्वितीय मस्तिष्क दिया है, जो हमें कुछ भी प्राप्त करवा सकता है। हाँ, कुछ भी, जो भी हम पाना चाहें। अपनी क्षमताओं को शून्य मानकर स्वयं पर आई हुई मुसीबतों के बारे में सोच-सोचकर उनके सामने घुटने टेक देने को ही अवसाद कहते हैं और आजकल हम मनुष्यों में यह घुटने टेकने की प्रवृत्ति ही बढ़ती जा रही है।
हम परेशान हैं, हम चिन्तित हैं, हम तनाव में हैं, हम अवसाद में हैं, हम चिड़चिड़े हो गए हैं, हम क्रोधित छवि बना चुके हैं...क्यों? क्योंकि हम ख़ुद से कभी नहीं पूछते कि 'आख़िर क्यों हम इन सब समस्याओं में उलझ गए?' यह किताब इन्हीं सवालों का जवाब देने के लिए लिखी गई है। तनाव और डिप्रेशन से यह किताब बिना किसी पिल्स (गोलियों) के ही मुक्ति दिलवाने में सक्षम है। यह कपोल कल्पना नहीं वरन् एक अत्यन्त व्यावहारिक पुस्तक है जो कि लेखक द्वारा हज़ारों रोगियों को दिए गए सफल क्लिनिकल परामर्शों से प्राप्त अनुभव पर आधारित है। Nirasha ke samandar mein gote lagate log aksar ye bhul jate hain ki iishvar ne hamein ek advitiy mastishk diya hai, jo hamein kuchh bhi prapt karva sakta hai. Han, kuchh bhi, jo bhi hum pana chahen. Apni kshamtaon ko shunya mankar svayan par aai hui musibton ke bare mein soch-sochkar unke samne ghutne tek dene ko hi avsad kahte hain aur aajkal hum manushyon mein ye ghutne tekne ki prvritti hi badhti ja rahi hai. Hum pareshan hain, hum chintit hain, hum tanav mein hain, hum avsad mein hain, hum chidachide ho ge hain, hum krodhit chhavi bana chuke hain. . . Kyon? kyonki hum khud se kabhi nahin puchhte ki akhir kyon hum in sab samasyaon mein ulajh ge? ye kitab inhin savalon ka javab dene ke liye likhi gai hai. Tanav aur dipreshan se ye kitab bina kisi pils (goliyon) ke hi mukti dilvane mein saksham hai. Ye kapol kalpna nahin varan ek atyant vyavharik pustak hai jo ki lekhak dvara hazaron rogiyon ko diye ge saphal klinikal paramarshon se prapt anubhav par aadharit hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products