Look Inside
21vin Shati Ka Hindi Upanyas
21vin Shati Ka Hindi Upanyas
21vin Shati Ka Hindi Upanyas
21vin Shati Ka Hindi Upanyas

21vin Shati Ka Hindi Upanyas

Regular price Rs. 1,297
Sale price Rs. 1,297 Regular price Rs. 1,395
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Pay On Delivery Available

Rekhta Certified

7 Day Easy Return Policy

21vin Shati Ka Hindi Upanyas

21vin Shati Ka Hindi Upanyas

Cash-On-Delivery

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7-Days-Replacement

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

एक ही अध्येता द्वारा उपन्यास-साहित्य के समग्र का परीक्षण कर विशिष्ट कृति के मूल्यांकन की परम्‍परा का प्रायः अभाव है। एकाध प्रयत्न को छोड़कर उपन्यास-आलोचना में बड़ा शून्य है। इसी शून्य को भरने का प्रयास सुप्रसिद्ध वरिष्ठ आलोचक डॉ. पुष्पपाल सिंह प्रणीत इस ग्रन्थ में हुआ है जिसमें 21वीं शती के उपन्यास-साहित्य की समग्रता में प्रवेश कर, 2013 (के मध्य तक) के प्रकाशित उपन्यासों पर गम्‍भीरता से विचार का सुचिन्तित निष्कर्ष प्रतिपादित किए गए हैं। उपन्यासों के कथ्य की विराट चेतना पर विचार करते हुए दर्शाया गया है कि आज उपन्यास का क्षितिज कितना विस्तृत हो चुका है। भूमंडल की कदाचित् कोई ही ऐसी समस्या होगी जिस पर हिन्दी उपन्यास में विचार नहीं हुआ हो। भूमंडलीकृत आर्थिकता (इकॉनमी) तथा अमेरिकी संस्कृति के वर्चस्व ने न केवल भारत अपितु पूरी दुनिया में जो खलबली मचा रखी है, उस सबका सशक्त आकलन ‘21वीं शती का हिन्दी उपन्यास’ प्रस्तुत करता है। उपन्यास का चिन्तन और विमर्श-पक्ष इतना सशक्त है कि उस सबके चुनौतीपूर्ण अध्ययन में पुष्पपाल सिंह अपने पूरे आलोचकीय औज़ारों और पैनी भाषा-शैली के साथ प्रवृत्त होते हैं।
उपन्यास के ढाँचे, रूपाकार में भी इतने व्यापक प्रयोग इस काल-खंड के उपन्यास में हुए हैं जिन्होंने उपन्यास की धज ही पूरी तरह बदल दी है। उपन्यास की शैल्पिक संरचना पर हिन्दी में ‘न’ के बराबर विचार हुआ है। प्रस्ततु अध्ययन में विद्वान लेखक ने उपन्यास की शैल्पिक संरचना के परिवर्तनों का भी सोदाहरण विवेचन कर विषय के साथ पूर्ण न्याय किया है। लेखक ने उपन्यास के विपुल का अध्ययन कर उसके श्रेष्ठ के रेखांकन का प्रयास किया है किन्तु फिर भी अपने निष्कर्षों पर अड़े रहने का आग्रह उनमें नहीं है, वे सर्वत्र एक बहस को आहूत करते हैं। उपन्यास-आलोचना के सम्मुख जो चुनौतियाँ हैं, उन पर भी प्रकाश डालते हुए एक विचारोत्तेजक बहस का अवसर दिया गया है। पुस्तक के दूसरे खंड—विशिष्ठ उपन्यास खंड—में वर्षानुक्रम से अड़तीस विशिष्ट उपन्यासों का अध्ययन प्रस्तुत किया गया है। इन उपन्यासों की समीक्षा-शैली में इतना वैविध्य है कि वह अपने ढंग से हिन्दी आलोचना की नई समृद्धि प्रदान करता हुआ लेखकीय गौरव की अभिवृद्धि करता है। पुष्पपाल सिंह की यह कृति निश्चय ही हिन्दी आलोचना के लिए एक अत्यन्‍त महत्वपूर्ण अवदान है। Ek hi adhyeta dvara upanyas-sahitya ke samagr ka parikshan kar vishisht kriti ke mulyankan ki param‍para ka prayः abhav hai. Ekadh pryatn ko chhodkar upanyas-alochna mein bada shunya hai. Isi shunya ko bharne ka pryas suprsiddh varishth aalochak dau. Pushppal sinh prnit is granth mein hua hai jismen 21vin shati ke upanyas-sahitya ki samagrta mein prvesh kar, 2013 (ke madhya tak) ke prkashit upanyason par gam‍bhirta se vichar ka suchintit nishkarsh pratipadit kiye ge hain. Upanyason ke kathya ki virat chetna par vichar karte hue darshaya gaya hai ki aaj upanyas ka kshitij kitna vistrit ho chuka hai. Bhumandal ki kadachit koi hi aisi samasya hogi jis par hindi upanyas mein vichar nahin hua ho. Bhumandlikrit aarthikta (ikaunmi) tatha ameriki sanskriti ke varchasv ne na keval bharat apitu puri duniya mein jo khalabli macha rakhi hai, us sabka sashakt aaklan ‘21vin shati ka hindi upanyas’ prastut karta hai. Upanyas ka chintan aur vimarsh-paksh itna sashakt hai ki us sabke chunautipurn adhyyan mein pushppal sinh apne pure aalochkiy auzaron aur paini bhasha-shaili ke saath prvritt hote hain. Upanyas ke dhanche, rupakar mein bhi itne vyapak pryog is kal-khand ke upanyas mein hue hain jinhonne upanyas ki dhaj hi puri tarah badal di hai. Upanyas ki shailpik sanrachna par hindi mein ‘na’ ke barabar vichar hua hai. Prastatu adhyyan mein vidvan lekhak ne upanyas ki shailpik sanrachna ke parivartnon ka bhi sodahran vivechan kar vishay ke saath purn nyay kiya hai. Lekhak ne upanyas ke vipul ka adhyyan kar uske shreshth ke rekhankan ka pryas kiya hai kintu phir bhi apne nishkarshon par ade rahne ka aagrah unmen nahin hai, ve sarvatr ek bahas ko aahut karte hain. Upanyas-alochna ke sammukh jo chunautiyan hain, un par bhi prkash dalte hue ek vicharottejak bahas ka avsar diya gaya hai. Pustak ke dusre khand—vishishth upanyas khand—men varshanukram se adtis vishisht upanyason ka adhyyan prastut kiya gaya hai. In upanyason ki samiksha-shaili mein itna vaividhya hai ki vah apne dhang se hindi aalochna ki nai samriddhi prdan karta hua lekhkiy gaurav ki abhivriddhi karta hai. Pushppal sinh ki ye kriti nishchay hi hindi aalochna ke liye ek atyan‍ta mahatvpurn avdan hai.

Shipping & Return

Contact our customer service in case of return or replacement. Enjoy our hassle-free 7-day replacement policy.

Offers & Coupons

Use code FIRSTORDER to get 10% off your first order.


Use code REKHTA10 to get a discount of 10% on your next Order.


You can also Earn up to 20% Cashback with POP Coins and redeem it in your future orders.

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products