Sold out

Pratinidhi Kavitayen : Amrita Pritam

Amrita Pritam

Rs. 75

पंजाबी की शीर्षस्थ रचनाकार अमृता प्रीतम की कविताओं ने न केवल हिन्दी, बल्कि अन्य भारतीय और विदेशी भाषाओं के पाठकों के बीच पर्याप्त लोकप्रियता अर्जित की है। उनकी कविताओं में जीवन के छोटे-छोटे अनुभवों को जितनी आत्मीयता और लगाव के साथ ग्रहण किया गया है, वह निश्चय ही उनके रचनाकार... Read More

Description

पंजाबी की शीर्षस्थ रचनाकार अमृता प्रीतम की कविताओं ने न केवल हिन्दी, बल्कि अन्य भारतीय और विदेशी भाषाओं के पाठकों के बीच पर्याप्त लोकप्रियता अर्जित की है। उनकी कविताओं में जीवन के छोटे-छोटे अनुभवों को जितनी आत्मीयता और लगाव के साथ ग्रहण किया गया है, वह निश्चय ही उनके रचनाकार की महती उपलब्धि है। समुद्र के समान हिलोरें खाती विराट जिजीविषा ने अमृता प्रीतम की कविताओं को गहरे लौकिक सन्दर्भ प्रदान किए हैं, रंग-बिरंगी प्रकृति और मानवीय भावनाओं के रागात्मक टकराव से उद् भुत उनकी कल्पनाशक्ति ने रचनात्मकता की नई ऊँचाइयाँ हासिल की हैं। स्मृतियों के नीले आकाश में घुमड़ते बादलों-सी इन कविताओं में नारी की मुक्ति-आकांक्षा और उसके संघर्ष की बड़ी मार्मिक अभिव्यक्ति हुई है। अमृता प्रीतम की प्रतिनिधि कविताओं का यह संग्रह पंजाबी और हिन्दी कविता के बीच रचनात्मक संवाद का जीवन्त वाहक सिद्ध होगा। Panjabi ki shirshasth rachnakar amrita pritam ki kavitaon ne na keval hindi, balki anya bhartiy aur videshi bhashaon ke pathkon ke bich paryapt lokapriyta arjit ki hai. Unki kavitaon mein jivan ke chhote-chhote anubhvon ko jitni aatmiyta aur lagav ke saath grhan kiya gaya hai, vah nishchay hi unke rachnakar ki mahti uplabdhi hai. Samudr ke saman hiloren khati virat jijivisha ne amrita pritam ki kavitaon ko gahre laukik sandarbh prdan kiye hain, rang-birangi prkriti aur manviy bhavnaon ke ragatmak takrav se ud bhut unki kalpnashakti ne rachnatmakta ki nai uunchaiyan hasil ki hain. Smritiyon ke nile aakash mein ghumadte badlon-si in kavitaon mein nari ki mukti-akanksha aur uske sangharsh ki badi marmik abhivyakti hui hai. Amrita pritam ki pratinidhi kavitaon ka ye sangrah panjabi aur hindi kavita ke bich rachnatmak sanvad ka jivant vahak siddh hoga.