Parshuram Ki Pratiksha : Dinkar Granthmala

Regular price Rs. 140
Sale price Rs. 140 Regular price Rs. 150
Unit price
Save 7%
7% off
Tax included.

Earn Popcoins

Size guide

Cash On Delivery available

Rekhta Certified

7 Days Replacement

Parshuram Ki Pratiksha : Dinkar Granthmala

Parshuram Ki Pratiksha : Dinkar Granthmala

Cash On Delivery available

Plus (F-Assured)

7 Day Replacement

Product description
Shipping & Return
Offers & Coupons
Read Sample
Product description

आधुनिक युग के विद्रोही कवियों में रामधारी सिंह 'दिनकर' का महत्त्वपूर्ण स्थान है, और इसकी मिसाल है 'परशुराम की प्रतीक्षा'। यह पुस्तक एक खंडकाव्य है। इसकी रचना 1962 में भारत-चीन युद्ध के पश्चात् हुई थी। इसके ज़रिए राष्ट्रकवि का सन्देश है कि हमें नैतिक मूल्यों की रक्षा करते हुए अपने राष्ट्रीय सम्मान की रक्षा ख़ातिर सतत जागरूक रहना चाहिए। युद्धभूमि में शत्रु का विनाश करने के लिए हिंसा अनुचित नहीं है।
दिनकर परशुराम धर्म को भारत की जनता का धर्म मानते हैं। परशुराम को भारत की जागरूक जनता का प्रतीक मानते हैं। इसलिए पौराणिक पृष्ठभूमि में परशुराम के वैशिष्ट्य को रेखांकित करते लिखते हैं—“लोहित में गिरकर जब परशुराम का कुठार पाप-मुक्त हो गया, तब उस कुठार से उन्होंने एक सौ वर्ष तक लड़ाइयाँ लड़ीं और समन्तपंचक में पाँच शोणित-हृद बनाकर उन्होंने पितरों का तर्पण किया। जब उनका प्रतिशोध शान्त हो गया, उन्होंने कोंकण के पास पहुँचकर अपना कुठार समुद्र में फेंक दिया और वे नवनिर्माण में प्रवृत्त हो गए। भारत का वह भाग, जो अब कोंकण और केरल कहलाता है, भगवान् परशुराम का ही बसाया हुआ है। लोहित भारतवर्ष का बड़ा ही पवित्र भाग है। पुराकाल में वहाँ परशुराम का पापमोचन हुआ था। आज एक बार फिर लोहित में ही भारतवर्ष का पाप छूटा है। इसीलिए, भविष्य मुझे आशापूर्ण दिखाई देता है—
ताण्डवी तेज फिर से हुंकार उठा है,
लोहित में था जो गिरा, कुठार उठा है।”
'परशुराम की प्रतीक्षा' राष्ट्रकवि दिनकर की ऐसी कृति है जो भारत-चीन सीमा पर युद्ध के हालात बनते ही समीचीन हो जाती है। हर युग में नई उम्मीद और नए प्रतिरोध के साथ पढ़ी जानेवाली एक काजलयी कृति। Aadhunik yug ke vidrohi kaviyon mein ramdhari sinh dinkar ka mahattvpurn sthan hai, aur iski misal hai parashuram ki prtiksha. Ye pustak ek khandkavya hai. Iski rachna 1962 mein bharat-chin yuddh ke pashchat hui thi. Iske zariye rashtrakavi ka sandesh hai ki hamein naitik mulyon ki raksha karte hue apne rashtriy samman ki raksha khatir satat jagruk rahna chahiye. Yuddhbhumi mein shatru ka vinash karne ke liye hinsa anuchit nahin hai. Dinkar parashuram dharm ko bharat ki janta ka dharm mante hain. Parashuram ko bharat ki jagruk janta ka prtik mante hain. Isaliye pauranik prishthbhumi mein parashuram ke vaishishtya ko rekhankit karte likhte hain—“lohit mein girkar jab parashuram ka kuthar pap-mukt ho gaya, tab us kuthar se unhonne ek sau varsh tak ladaiyan ladin aur samantpanchak mein panch shonit-hrid banakar unhonne pitron ka tarpan kiya. Jab unka pratishodh shant ho gaya, unhonne konkan ke paas pahunchakar apna kuthar samudr mein phenk diya aur ve navnirman mein prvritt ho ge. Bharat ka vah bhag, jo ab konkan aur keral kahlata hai, bhagvan parashuram ka hi basaya hua hai. Lohit bharatvarsh ka bada hi pavitr bhag hai. Purakal mein vahan parashuram ka papmochan hua tha. Aaj ek baar phir lohit mein hi bharatvarsh ka paap chhuta hai. Isiliye, bhavishya mujhe aashapurn dikhai deta hai—
Tandvi tej phir se hunkar utha hai,
Lohit mein tha jo gira, kuthar utha hai. ”
Parashuram ki prtiksha rashtrakavi dinkar ki aisi kriti hai jo bharat-chin sima par yuddh ke halat bante hi samichin ho jati hai. Har yug mein nai ummid aur ne pratirodh ke saath padhi janevali ek kajalyi kriti.

Shipping & Return

Shipping cost is based on weight. Just add products to your cart and use the Shipping Calculator to see the shipping price.

We want you to be 100% satisfied with your purchase. Items can be returned or exchanged within 7 days of delivery.

Offers & Coupons

10% off your first order.
Use Code: FIRSTORDER

Read Sample

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)

Related Products

Recently Viewed Products