BackBack
-11%

Muktibodh Samagra : Vols. 1-8

Gajanan Madhav Muktibodh, Ed. Nemichand Jain

Rs. 9,600 Rs. 8,544

मुक्तिबोध की कविताओं के बारे में यदि शमशेर बहादुर सिंह के शब्दों में कहें तो उनकी ‘कविता, अद्भुत संकेतों-भरी, जिज्ञासाओं से अस्थिर—कभी दूर से ही शोर मचाती, कभी कानों में चुपचाप राज़ की बातें कहती चलती है। हमारी बातें हमीं को सुनाती है और हम अपने को एकदम चकित होकर... Read More

Description

मुक्तिबोध की कविताओं के बारे में यदि शमशेर बहादुर सिंह के शब्दों में कहें तो उनकी ‘कविता, अद्भुत संकेतों-भरी, जिज्ञासाओं से अस्थिर—कभी दूर से ही शोर मचाती, कभी कानों में चुपचाप राज़ की बातें कहती चलती है। हमारी बातें हमीं को सुनाती है और हम अपने को एकदम चकित होकर देखते हैं, और पहले से और भी अधिक पहचानने लगते हैं।’
और मुक्तिबोध समग्र के रूप में, ‘हमारी बातें हमीं को’ सुनानेवाली उनकी कविताओं का यह पहला खंड है। इसमें 1935 से लेकर 1956-57 तक की कविताएँ हैं जिनमें प्रारम्भिक काव्य-प्रयासों से लगाकर आधुनिक हिन्दी-कविता में अपना अलग, निजी मुहावरा हासिल कर लेने तक मुक्तिबोध के काव्य-व्यक्तित्व के विकास के सभी चरण एक साथ मौजूद हैं। साथ ही परवर्ती लेखन में अनुभव और सृजन सम्बन्धी जिन उलझनों, अन्तर्द्वन्द्वों और उनकी अभिव्यक्ति का सशक्त और अनोखा रूप सामने आया, उसकी शुरुआत भी प्रारम्भिक रचनाओं तथा तार सप्तककालीन कविताओं में साफ़ देखी जा सकती है। इस दृष्टि से यह खंड मुक्तिबोध-काव्य के प्रेमी पाठकों के लिए निस्सन्देह एक नया अनुभव होगा। Muktibodh ki kavitaon ke bare mein yadi shamsher bahadur sinh ke shabdon mein kahen to unki ‘kavita, adbhut sanketon-bhari, jigyasaon se asthir—kabhi dur se hi shor machati, kabhi kanon mein chupchap raaz ki baten kahti chalti hai. Hamari baten hamin ko sunati hai aur hum apne ko ekdam chakit hokar dekhte hain, aur pahle se aur bhi adhik pahchanne lagte hain. ’Aur muktibodh samagr ke rup mein, ‘hamari baten hamin ko’ sunanevali unki kavitaon ka ye pahla khand hai. Ismen 1935 se lekar 1956-57 tak ki kavitayen hain jinmen prarambhik kavya-pryason se lagakar aadhunik hindi-kavita mein apna alag, niji muhavra hasil kar lene tak muktibodh ke kavya-vyaktitv ke vikas ke sabhi charan ek saath maujud hain. Saath hi parvarti lekhan mein anubhav aur srijan sambandhi jin ulajhnon, antardvandvon aur unki abhivyakti ka sashakt aur anokha rup samne aaya, uski shuruat bhi prarambhik rachnaon tatha taar saptakkalin kavitaon mein saaf dekhi ja sakti hai. Is drishti se ye khand muktibodh-kavya ke premi pathkon ke liye nissandeh ek naya anubhav hoga.