BackBack
-11%

In Dino

Rs. 300 Rs. 267

‘इन दिनों’ संग्रह कुँवर नारायण के विशद काव्य-संसार में ले जाता है। भाषा और विषय की विविधता अब तक उनकी कविताओं के विशेष गुण माने जा चुके हैं। स्थानों और समयों को लेकर ये कविताएँ अपनी एक उन्मुक्त दुनिया रचती हैं जिनमें अनवरत जीवन की खुली आवाजाही है। इनमें टूटने... Read More

BlackBlack
Description

‘इन दिनों’ संग्रह कुँवर नारायण के विशद काव्य-संसार में ले जाता है। भाषा और विषय की विविधता अब तक उनकी कविताओं के विशेष गुण माने जा चुके हैं। स्थानों और समयों को लेकर ये कविताएँ अपनी एक उन्मुक्त दुनिया रचती हैं जिनमें अनवरत जीवन की खुली आवाजाही है। इनमें टूटने का दर्द भी है, और उसे बनाने का उत्साह भी। इनमें यथार्थ की पक्की पकड़ है, उसका खुरदुरा स्पर्श, साथ ही उसका सहज सौन्दर्य भी। जीवन और विचारों से जूझती ये कविताएँ उस सन्‍धिरेखा पर अपने को सम्भव बनाती हैं जो एक दूसरे का निषेध नहीं, गहरी मानवीय संवेदनाओं का आधार है। राजनीतिक और सामाजिक विकृतियों और अराजकता के समय ये कविताएँ समस्याओं से वाबस्तगी को पूरी ज़िम्मेदारी से प्रतिबिम्बित करती हैं। कभी आयरनी, कभी हमदर्दी के स्वर में वे मनुष्य की सबसे संवेदनशील प्रतिक्रियाओं को जगाती हैं।
कुँवर नारायण की कविताओं में सीधी घोषणाएँ और फ़ैसले नहीं हैं, जीवन की बहुतरफ़ा समझ का वह धीरज है जो एक प्रौढ़ जीवन-विवेक और दृढ़ नैतिक चेतना से बनता है। समाज, राजनीति, व्यवसायीकरण आदि को लेकर उनकी कविताओं में दूरन्देशी फ़िक्र है जो लोक-जीवन के व्यापक हितों को केन्द्र में रखकर सोचती है—आज के मनुष्य की पीड़ा और जिजीविषा के साथ सार्थक संवाद स्थापित करने की कोशिश करती है। क्लासिकल अनुशासन में रहते हुए भी ये कविताएँ आदमी के बुनियादी आवेगों को भी इस तरह व्यक्त करती हैं कि एक सतर्क पाठक उनके साथ आसानी से एकात्म हो सकता है। कई जगह मिथकीय और ऐतिहासिक सन्दर्भों द्वारा कवि वर्तमान में हमारे यथार्थ-बोध को अधिक विस्तृत, गहरा और विवेकी बनाता है। ये कविताएँ आपका परिचय हिन्दी के उस अप्रतिम कवि से कराएँगी जिसकी ‘चक्रव्यूह’, ‘आत्मजयी’, ’अपने सामने’, ‘कोई दूसरा नहीं’ जैसी कृतियाँ हिन्दी साहित्य की मूल्यवान धरोहर बन चुकी हैं। ‘in dinon’ sangrah kunvar narayan ke vishad kavya-sansar mein le jata hai. Bhasha aur vishay ki vividhta ab tak unki kavitaon ke vishesh gun mane ja chuke hain. Sthanon aur samyon ko lekar ye kavitayen apni ek unmukt duniya rachti hain jinmen anavrat jivan ki khuli aavajahi hai. Inmen tutne ka dard bhi hai, aur use banane ka utsah bhi. Inmen yatharth ki pakki pakad hai, uska khuradura sparsh, saath hi uska sahaj saundarya bhi. Jivan aur vicharon se jujhti ye kavitayen us san‍dhirekha par apne ko sambhav banati hain jo ek dusre ka nishedh nahin, gahri manviy sanvednaon ka aadhar hai. Rajnitik aur samajik vikritiyon aur arajakta ke samay ye kavitayen samasyaon se vabastgi ko puri zimmedari se pratibimbit karti hain. Kabhi aayarni, kabhi hamdardi ke svar mein ve manushya ki sabse sanvedanshil prtikriyaon ko jagati hain. Kunvar narayan ki kavitaon mein sidhi ghoshnayen aur faisle nahin hain, jivan ki bahutarfa samajh ka vah dhiraj hai jo ek praudh jivan-vivek aur dridh naitik chetna se banta hai. Samaj, rajniti, vyavsayikran aadi ko lekar unki kavitaon mein durandeshi fikr hai jo lok-jivan ke vyapak hiton ko kendr mein rakhkar sochti hai—aj ke manushya ki pida aur jijivisha ke saath sarthak sanvad sthapit karne ki koshish karti hai. Klasikal anushasan mein rahte hue bhi ye kavitayen aadmi ke buniyadi aavegon ko bhi is tarah vyakt karti hain ki ek satark pathak unke saath aasani se ekatm ho sakta hai. Kai jagah mithkiy aur aitihasik sandarbhon dvara kavi vartman mein hamare yatharth-bodh ko adhik vistrit, gahra aur viveki banata hai. Ye kavitayen aapka parichay hindi ke us aprtim kavi se karayengi jiski ‘chakravyuh’, ‘atmajyi’, ’apne samne’, ‘koi dusra nahin’ jaisi kritiyan hindi sahitya ki mulyvan dharohar ban chuki hain.