BackBack
-11%

Hindu : Jeene Ka Samriddh Kabaad

Rs. 800 Rs. 712

‘हिन्दू’ शब्द के असीम और निराकार विस्तार के भीतर समाहित, ‘अपने-अपने ढंग’ से सामाजिक रूढ़ियों में बदलती ‘उखड़ी-पुखड़ी’, ‘जमी-बिखरी’ वैचारिक धुरियों, सामूहिक आदतों, ‘स्वार्थों’ और ‘परमार्थों’ की आपस में उलझी पड़ी अनेक बेड़ियों-रस्सियों, सामाजिक-कौटुम्बिक रिश्तों की पुख्तगी और भंगुरता, शोषण और पोषण की एक दूसरे पर चढ़ीं अमृत और विष... Read More

Description

‘हिन्दू’ शब्द के असीम और निराकार विस्तार के भीतर समाहित, ‘अपने-अपने ढंग’ से सामाजिक रूढ़ियों में बदलती ‘उखड़ी-पुखड़ी’, ‘जमी-बिखरी’ वैचारिक धुरियों, सामूहिक आदतों, ‘स्वार्थों’ और ‘परमार्थों’ की आपस में उलझी पड़ी अनेक बेड़ियों-रस्सियों, सामाजिक-कौटुम्बिक रिश्तों की पुख्तगी और भंगुरता, शोषण और पोषण की एक दूसरे पर चढ़ीं अमृत और विष की बेलें, समाज की अश्मीभूत हायरार्की में ‘साँस लेता-दम तोड़ता जन’, और इस सबके ऊबड़-खाबड़ से राह बनाता समय—मरण-लिप्सा और जीवनावेग की अतलगामी भँवरों में डूबता-उतराता, अपने घावों को चाटकर ठीक करता, बढ़ता काल...
देसी अस्मिता का महाकाव्य यह उपन्यास भारत के जातीय 'स्व’ का बहुस्तरीय, बहुमुखी, बहुवर्णी उत्खनन है। यह न गौरव के किसी जड़ और आत्ममुग्ध आख्यान का परिपोषण करता है, न 'अपने’ के नाम पर संस्कृति की रगों में रेंगती उन दीमकों का तुष्टीकरण, जिन्होंने 'भारतवर्ष’ को भीतर से खोखला किया है। यह उस विराट इकाई को समग्रता में देखते हुए चलता है जिसे भारतीय संस्कृति कहते हैं।
यह समूचा उपन्यास हममें से किसी का भी अपने आप से संवाद हो सकता है—अपने आप से और अपने भीतर बसे यथार्थ और नए यथार्थ का रास्ता खोजते रास्तों से। इसमें अनेक पात्र हैं, लेकिन उपन्यास के केन्द्र में वे नहीं, सारा समाज है, वही समग्रता में एक पात्र की तरह व्यवहार करता है। संवाद भी, पूरा समाज ही करता है, लोग नहीं। एक क्षरणशील, फिर भी अडिग समाज भीतर गूँजती, और 'हमें सुन लो’ की प्रार्थना करती जीने की ज़िद की आर्त पुकारें। कृषि संस्कृति, ग्राम व्यवस्था और अब, राज्य की आकंठ भ्रष्टाचार में लिप्त नई संरचना—सबका अवलोकन करती हुई यह गाथा—इस सबके अलावा पाठक को अपनी अँतड़ियों में खींचकर समो लेने की क्षमता से समृद्ध एक जादुई पाठ भी है। ‘hindu’ shabd ke asim aur nirakar vistar ke bhitar samahit, ‘apne-apne dhang’ se samajik rudhiyon mein badalti ‘ukhdi-pukhdi’, ‘jami-bikhri’ vaicharik dhuriyon, samuhik aadton, ‘svarthon’ aur ‘parmarthon’ ki aapas mein uljhi padi anek bediyon-rassiyon, samajik-kautumbik rishton ki pukhtgi aur bhangurta, shoshan aur poshan ki ek dusre par chadhin amrit aur vish ki belen, samaj ki ashmibhut hayrarki mein ‘sans leta-dam todta jan’, aur is sabke uubad-khabad se raah banata samay—maran-lipsa aur jivnaveg ki atalgami bhanvaron mein dubta-utrata, apne ghavon ko chatkar thik karta, badhta kaal. . . Desi asmita ka mahakavya ye upanyas bharat ke jatiy sv’ ka bahustriy, bahumukhi, bahuvarni utkhnan hai. Ye na gaurav ke kisi jad aur aatmmugdh aakhyan ka pariposhan karta hai, na apne’ ke naam par sanskriti ki ragon mein rengti un dimkon ka tushtikran, jinhonne bharatvarsh’ ko bhitar se khokhla kiya hai. Ye us virat ikai ko samagrta mein dekhte hue chalta hai jise bhartiy sanskriti kahte hain.
Ye samucha upanyas hammen se kisi ka bhi apne aap se sanvad ho sakta hai—apne aap se aur apne bhitar base yatharth aur ne yatharth ka rasta khojte raston se. Ismen anek patr hain, lekin upanyas ke kendr mein ve nahin, sara samaj hai, vahi samagrta mein ek patr ki tarah vyavhar karta hai. Sanvad bhi, pura samaj hi karta hai, log nahin. Ek ksharanshil, phir bhi adig samaj bhitar gunjati, aur hamein sun lo’ ki prarthna karti jine ki zid ki aart pukaren. Krishi sanskriti, gram vyvastha aur ab, rajya ki aakanth bhrashtachar mein lipt nai sanrachna—sabka avlokan karti hui ye gatha—is sabke alava pathak ko apni antdiyon mein khinchkar samo lene ki kshamta se samriddh ek jadui path bhi hai.