BackBack
-11%

Hamara Shahar Us Baras

Rs. 650 Rs. 579

आसान दीखनेवाली मुश्किल कृति ‘हमारा शहर उस बरस’ में साक्षात्कार होता है एक कठिन समय की बहुआयामी और उलझाव पैदा करनेवाली डरावनी सच्चाइयों से। बात ‘उस बरस’ की है, जब ‘हमारा शहर’ आए दिन साम्प्रदायिक दंगों से ग्रस्त हो जाता था। आगजनी, मारकाट और तद्जनित दहशत रोज़मर्रा का जीवन बनकर... Read More

BlackBlack
Description

आसान दीखनेवाली मुश्किल कृति ‘हमारा शहर उस बरस’ में साक्षात्कार होता है एक कठिन समय की बहुआयामी और उलझाव पैदा करनेवाली डरावनी सच्चाइयों से। बात ‘उस बरस’ की है, जब ‘हमारा शहर’ आए दिन साम्प्रदायिक दंगों से ग्रस्त हो जाता था। आगजनी, मारकाट और तद्जनित दहशत रोज़मर्रा का जीवन बनकर एक भयावह सहजता पाते जा रहे थे। कृत्रिम जीवन-शैली का यों सहज होना शहरवासियों की मानसिकता, व्यक्तित्व, बल्कि पूरे वजूद पर चोट कर रहा था।
बात दरअसल उस बरस भर की नहीं है। उस बरस को हम आज में भी घसीट लाए हैं। न ही बात है सिर्फ़ हमारे शहर की। ‘और शहरों जैसा ही है हमारा शहर’—सुलगता, खदकता—‘स्रोत और प्रतिबिम्ब दोनों ही’ मौजूदा स्थिति का। एक आततायी आपातस्थिति, जिसका हल फ़ौरन ढूँढ़ना है; पर स्थिति समझ में आए, तब न निकले हल। पुरानी धारणाएँ फिट बैठती नहीं, नई सूझती नहीं, वक़्त है नहीं कि जब सूझें, तब उन्हें लागू करके जूझें स्थिति से। न जाने क्या से क्या हो जाए तब तक। वे संगीनें जो दूर हैं उधर, उन पर मुड़ीं, वे हम पर भी न मुड़ जाएँ, वह धूल-धुआँ जो उधर भरा है, इधर भी न मुड़ आए।
अभी भी जो समझ रहे हैं कि दंगे उधर हैं—दूर, उस पार, उन लोगों में—पाते हैं कि ‘उधर’ ‘इधर’ बढ़ आया है, ‘वे’ लोग ‘हम’ लोग भी हैं, और इधर-उधर वे-हम करके ख़ुद को झूठी तसल्ली नहीं दी जा सकती। दंगे जहाँ हो रहे हैं, वहाँ ख़ून बह रहा है। सो, यहाँ भी बह रहा है, हमारी खाल के नीचे।
अपनी ही खाल के नीचे छिड़े दंगे से दरपेश होने की कोशिश ही इस गाथा का मूल। ख़ुद को चीरफाड़ के लिए वैज्ञानिक की मेज़ पर धर देने जैसा। अपने को नंगा करने का प्रयास ही अपने शहर को समझने, उसके प्रवाहों को मोड़ देने की एकमात्र शुरुआत हो सकती है। यही शुरुआत एक ज़बरदस्त प्रयोग द्वारा गीतांजलि श्री ने ‘हमारा शहर उस बरस’ में की है। जान न पाने की बढ़ती बेबसी के बीच जानने की तरफ़ ले जाते हुए। Aasan dikhnevali mushkil kriti ‘hamara shahar us baras’ mein sakshatkar hota hai ek kathin samay ki bahuayami aur uljhav paida karnevali daravni sachchaiyon se. Baat ‘us baras’ ki hai, jab ‘hamara shahar’ aae din samprdayik dangon se grast ho jata tha. Aagajni, markat aur tadjnit dahshat rozmarra ka jivan bankar ek bhayavah sahajta pate ja rahe the. Kritrim jivan-shaili ka yon sahaj hona shaharvasiyon ki manasikta, vyaktitv, balki pure vajud par chot kar raha tha. Baat darasal us baras bhar ki nahin hai. Us baras ko hum aaj mein bhi ghasit laye hain. Na hi baat hai sirf hamare shahar ki. ‘aur shahron jaisa hi hai hamara shahar’—sulagta, khadakta—‘srot aur pratibimb donon hi’ maujuda sthiti ka. Ek aattayi aapatasthiti, jiska hal fauran dhundhana hai; par sthiti samajh mein aae, tab na nikle hal. Purani dharnayen phit baithti nahin, nai sujhti nahin, vaqt hai nahin ki jab sujhen, tab unhen lagu karke jujhen sthiti se. Na jane kya se kya ho jaye tab tak. Ve sanginen jo dur hain udhar, un par mudin, ve hum par bhi na mud jayen, vah dhul-dhuan jo udhar bhara hai, idhar bhi na mud aae.
Abhi bhi jo samajh rahe hain ki dange udhar hain—dur, us paar, un logon men—pate hain ki ‘udhar’ ‘idhar’ badh aaya hai, ‘ve’ log ‘ham’ log bhi hain, aur idhar-udhar ve-ham karke khud ko jhuthi tasalli nahin di ja sakti. Dange jahan ho rahe hain, vahan khun bah raha hai. So, yahan bhi bah raha hai, hamari khal ke niche.
Apni hi khal ke niche chhide dange se darpesh hone ki koshish hi is gatha ka mul. Khud ko chirphad ke liye vaigyanik ki mez par dhar dene jaisa. Apne ko nanga karne ka pryas hi apne shahar ko samajhne, uske prvahon ko mod dene ki ekmatr shuruat ho sakti hai. Yahi shuruat ek zabardast pryog dvara gitanjali shri ne ‘hamara shahar us baras’ mein ki hai. Jaan na pane ki badhti bebsi ke bich janne ki taraf le jate hue.