BackBack
-11%

Guruji Ki Kheti-Bari

Rs. 150 Rs. 134

आलोचक के रूप में अपनी सृजनात्मक अप्रोच के लिए सराहे जानेवाले विश्वनाथ त्रिपाठी की सवा-सराहना बतौर गद्यकार हमेशा ही सुरक्षित रहती है। आलोचना से इतर अपनी हर पुस्तक के साथ उन्होंने ‘दुर्लभ गद्यकार' की अपनी पदवी ऊँची की है। उनकी भाषा और कहाँ चलते-फिरते साकार मनुष्य की प्रतीति देती है।... Read More

BlackBlack
Description

आलोचक के रूप में अपनी सृजनात्मक अप्रोच के लिए सराहे जानेवाले विश्वनाथ त्रिपाठी की सवा-सराहना बतौर गद्यकार हमेशा ही सुरक्षित रहती है। आलोचना से इतर अपनी हर पुस्तक के साथ उन्होंने ‘दुर्लभ गद्यकार' की अपनी पदवी ऊँची की है। उनकी भाषा और कहाँ चलते-फिरते साकार मनुष्य की प्रतीति देती है। ऐसे कम ही लेखक हैं जिनकी लिखी पंक्तियों के बीच रहते हुए आप एक तनहा पाठक नहीं रह जाते, अपने आसपास किसी की उपस्थिति आपको लगातार महसूस होती है।
इन पृष्ठों में आप राजनीति का वह ज़माना भी देखेंगे जब ‘अनशन, धरना, जुलूस, प्रदर्शन, क्रान्ति, उद्धार-सुधार, विकास, समाजवाद, अहिंसा जैसे शब्दों का अर्थपतन, अनर्थ, अर्थघृणा और अर्थशर्म नहीं हुआ था।’ और विश्वविद्यालय के छात्र मेजों पर मुट्ठियाँ पटक-पटककर मार्क्सवाद पर बहस किया करते थे। जवाहरलाल नेहरू, कृपलानी, मौलाना आज़ाद जैसे राजनीतिक व्यक्तित्वों और डॉ. नागेन्द्र, विष्णु प्रभाकर, बालकृष्ण शर्मा नवीन, शमशेर और अमर्त्य सेन जैसे साहित्यिकों-बौद्धिकों की आँखों बसी स्मृतियों से तारांकित यह पुस्तक त्रिपाठी जी के अपने अध्यापन जीवन के अनेक दिलचस्प संस्मरणों से बुनी गई है। क़िस्म-क़िस्म के पढ़नेवाले यहाँ हैं। हरियाणा से कम्बल ओढ़कर और साथ में दूध की चार बोतलें कक्षा में लेकर आनेवाला विद्यार्थी है तो किरोड़ीमल के छात्र रहे अमिताभ बच्चन, कुलभूषण खरबंदा, दिनेश ठाकुर और राजेन्द्र नाथ भी हैं।
शुरुआत उन्होंने बिस्कोहर से अपने पहले गुरु रच्छा राम पंडित के स्मरण से की है। इसके बाद नैनीताल में अपनी पहली नियुक्ति और तदुपरान्त दिल्ली विश्वविद्यालय में बीते अपने लम्बे समय की अनेक घटनाओं को याद किया है जिनके बारे में वे कहते हैं : ‘याद करता हूँ तो बादल से चले बाते हैं मजमूँ मेरे आगे।’ Aalochak ke rup mein apni srijnatmak aproch ke liye sarahe janevale vishvnath tripathi ki sava-sarahna bataur gadykar hamesha hi surakshit rahti hai. Aalochna se itar apni har pustak ke saath unhonne ‘durlabh gadykar ki apni padvi uunchi ki hai. Unki bhasha aur kahan chalte-phirte sakar manushya ki prtiti deti hai. Aise kam hi lekhak hain jinki likhi panktiyon ke bich rahte hue aap ek tanha pathak nahin rah jate, apne aaspas kisi ki upasthiti aapko lagatar mahsus hoti hai. In prishthon mein aap rajniti ka vah zamana bhi dekhenge jab ‘anshan, dharna, julus, prdarshan, kranti, uddhar-sudhar, vikas, samajvad, ahinsa jaise shabdon ka arthaptan, anarth, arthaghrina aur arthsharm nahin hua tha. ’ aur vishvvidyalay ke chhatr mejon par mutthiyan patak-patakkar marksvad par bahas kiya karte the. Javaharlal nehru, kriplani, maulana aazad jaise rajnitik vyaktitvon aur dau. Nagendr, vishnu prbhakar, balkrishn sharma navin, shamsher aur amartya sen jaise sahityikon-bauddhikon ki aankhon basi smritiyon se tarankit ye pustak tripathi ji ke apne adhyapan jivan ke anek dilchasp sansmarnon se buni gai hai. Qism-qism ke padhnevale yahan hain. Hariyana se kambal odhkar aur saath mein dudh ki char botlen kaksha mein lekar aanevala vidyarthi hai to kirodimal ke chhatr rahe amitabh bachchan, kulbhushan kharbanda, dinesh thakur aur rajendr nath bhi hain.
Shuruat unhonne biskohar se apne pahle guru rachchha raam pandit ke smran se ki hai. Iske baad nainital mein apni pahli niyukti aur taduprant dilli vishvvidyalay mein bite apne lambe samay ki anek ghatnaon ko yaad kiya hai jinke bare mein ve kahte hain : ‘yad karta hun to badal se chale bate hain majmun mere aage. ’

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year