BackBack

Gudia Bhitar Gudiya

Maitreyi Pushpa

Rs. 895

तो यह है मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथा का दूसरा भाग। ‘कस्तूरी कुंडल बसै’ के बाद ‘गुड़िया भीतर गुड़िया’। आत्मकथाएँ प्रायः बेईमानी की अभ्यास-पुस्तिकाएँ लगती हैं क्योंकि कभी सच कहने की हिम्मत नहीं होती तो कभी सच सुनने की। अक्सर लिहाज़ में कुछ बातें छोड़ दी जाती हैं तो कभी उन्हें... Read More

HardboundHardbound
Description

तो यह है मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथा का दूसरा भाग। ‘कस्तूरी कुंडल बसै’ के बाद ‘गुड़िया भीतर गुड़िया’। आत्मकथाएँ प्रायः बेईमानी की अभ्यास-पुस्तिकाएँ लगती हैं क्योंकि कभी सच कहने की हिम्मत नहीं होती तो कभी सच सुनने की। अक्सर लिहाज़ में कुछ बातें छोड़ दी जाती हैं तो कभी उन्हें बचा-बचाकर प्रस्तुत किया जाता है। मैत्रेयी ने इसी तनी रस्सी पर अपने को साधते हुए कुछ सच कही हैं—अक्सर लक्ष्मण-रेखाओं को लाँघ जाने का ख़तरा भी उठाया है।
मैत्रेयी ने डॉ. सिद्धार्थ और राजेन्द्र यादव के साथ अपने सम्बन्धों को लगभग आत्महंता बेबाकी के साथ स्वीकार किया है। यहाँ सबसे दिलचस्प और नाटकीय सम्बन्ध हैं पति और मैत्रेयी के बीच, जो पत्नी की सफलताओं पर गर्व और यश को लेकर उल्लसित हैं मगर सम्पर्कों को लेकर ‘मालिक’ की तरह सशंकित।
घर-परिवार के बीच मैत्रेयी ने वह सारा लेखन किया है जिसे साहित्य में बोल्ड, साहसिक और आपत्तिजनक इत्यादि न जाने क्या-क्या कहा जाता है और हिन्दी की बदनाम मगर अनुपेक्षणीय लेखिका के रूप में स्थापित हैं।
‘गुड़िया भीतर गुड़िया’ एक स्त्री के अनेक परतीय व्यक्तित्व और एक लेखिका की ऐसी ईमानदार आत्म-स्वीकृतियाँ हैं जिनके साथ होना शायद हर पाठक की मजबूरी है।
हाँ, अब आप सीधे मुलाक़ात कीजिए ‘गुड़िया भीतर गुड़िया’ यानी साहित्य की अल्मा कबूतरी के साथ। To ye hai maitreyi pushpa ki aatmaktha ka dusra bhag. ‘kasturi kundal basai’ ke baad ‘gudiya bhitar gudiya’. Aatmakthaen prayः beimani ki abhyas-pustikayen lagti hain kyonki kabhi sach kahne ki himmat nahin hoti to kabhi sach sunne ki. Aksar lihaz mein kuchh baten chhod di jati hain to kabhi unhen bacha-bachakar prastut kiya jata hai. Maitreyi ne isi tani rassi par apne ko sadhte hue kuchh sach kahi hain—aksar lakshman-rekhaon ko langh jane ka khatra bhi uthaya hai. Maitreyi ne dau. Siddharth aur rajendr yadav ke saath apne sambandhon ko lagbhag aatmhanta bebaki ke saath svikar kiya hai. Yahan sabse dilchasp aur natkiy sambandh hain pati aur maitreyi ke bich, jo patni ki saphaltaon par garv aur yash ko lekar ullsit hain magar samparkon ko lekar ‘malik’ ki tarah sashankit.
Ghar-parivar ke bich maitreyi ne vah sara lekhan kiya hai jise sahitya mein bold, sahsik aur aapattijnak ityadi na jane kya-kya kaha jata hai aur hindi ki badnam magar anupekshniy lekhika ke rup mein sthapit hain.
‘gudiya bhitar gudiya’ ek stri ke anek partiy vyaktitv aur ek lekhika ki aisi iimandar aatm-svikritiyan hain jinke saath hona shayad har pathak ki majburi hai.
Han, ab aap sidhe mulaqat kijiye ‘gudiya bhitar gudiya’ yani sahitya ki alma kabutri ke saath.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126715350
Pages 352p
Publishing Year

Gudia Bhitar Gudiya

तो यह है मैत्रेयी पुष्पा की आत्मकथा का दूसरा भाग। ‘कस्तूरी कुंडल बसै’ के बाद ‘गुड़िया भीतर गुड़िया’। आत्मकथाएँ प्रायः बेईमानी की अभ्यास-पुस्तिकाएँ लगती हैं क्योंकि कभी सच कहने की हिम्मत नहीं होती तो कभी सच सुनने की। अक्सर लिहाज़ में कुछ बातें छोड़ दी जाती हैं तो कभी उन्हें बचा-बचाकर प्रस्तुत किया जाता है। मैत्रेयी ने इसी तनी रस्सी पर अपने को साधते हुए कुछ सच कही हैं—अक्सर लक्ष्मण-रेखाओं को लाँघ जाने का ख़तरा भी उठाया है।
मैत्रेयी ने डॉ. सिद्धार्थ और राजेन्द्र यादव के साथ अपने सम्बन्धों को लगभग आत्महंता बेबाकी के साथ स्वीकार किया है। यहाँ सबसे दिलचस्प और नाटकीय सम्बन्ध हैं पति और मैत्रेयी के बीच, जो पत्नी की सफलताओं पर गर्व और यश को लेकर उल्लसित हैं मगर सम्पर्कों को लेकर ‘मालिक’ की तरह सशंकित।
घर-परिवार के बीच मैत्रेयी ने वह सारा लेखन किया है जिसे साहित्य में बोल्ड, साहसिक और आपत्तिजनक इत्यादि न जाने क्या-क्या कहा जाता है और हिन्दी की बदनाम मगर अनुपेक्षणीय लेखिका के रूप में स्थापित हैं।
‘गुड़िया भीतर गुड़िया’ एक स्त्री के अनेक परतीय व्यक्तित्व और एक लेखिका की ऐसी ईमानदार आत्म-स्वीकृतियाँ हैं जिनके साथ होना शायद हर पाठक की मजबूरी है।
हाँ, अब आप सीधे मुलाक़ात कीजिए ‘गुड़िया भीतर गुड़िया’ यानी साहित्य की अल्मा कबूतरी के साथ। To ye hai maitreyi pushpa ki aatmaktha ka dusra bhag. ‘kasturi kundal basai’ ke baad ‘gudiya bhitar gudiya’. Aatmakthaen prayः beimani ki abhyas-pustikayen lagti hain kyonki kabhi sach kahne ki himmat nahin hoti to kabhi sach sunne ki. Aksar lihaz mein kuchh baten chhod di jati hain to kabhi unhen bacha-bachakar prastut kiya jata hai. Maitreyi ne isi tani rassi par apne ko sadhte hue kuchh sach kahi hain—aksar lakshman-rekhaon ko langh jane ka khatra bhi uthaya hai. Maitreyi ne dau. Siddharth aur rajendr yadav ke saath apne sambandhon ko lagbhag aatmhanta bebaki ke saath svikar kiya hai. Yahan sabse dilchasp aur natkiy sambandh hain pati aur maitreyi ke bich, jo patni ki saphaltaon par garv aur yash ko lekar ullsit hain magar samparkon ko lekar ‘malik’ ki tarah sashankit.
Ghar-parivar ke bich maitreyi ne vah sara lekhan kiya hai jise sahitya mein bold, sahsik aur aapattijnak ityadi na jane kya-kya kaha jata hai aur hindi ki badnam magar anupekshniy lekhika ke rup mein sthapit hain.
‘gudiya bhitar gudiya’ ek stri ke anek partiy vyaktitv aur ek lekhika ki aisi iimandar aatm-svikritiyan hain jinke saath hona shayad har pathak ki majburi hai.
Han, ab aap sidhe mulaqat kijiye ‘gudiya bhitar gudiya’ yani sahitya ki alma kabutri ke saath.