BackBack

Geetanjali

Ravindranath Thakur, Tr. Doman Sahu 'Samir'

Rs. 199

‘गीतांजलि’ गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर (1861-1941) की सर्वाधिक प्रशंसित और पठित पुस्तक है । इसी पर उन्हें 1913 में विश्वप्रसिद्द नोबेल पुरस्कार भी मिला । इसके बाद अपने पुरे जीवनकाल में वे भारतीय साहित्याकाश पर छाए रहे । साहित्य की विभिन्न विधाओं, संगीत और चित्रकला में सतत सृजनरत रहते हुए उन्होंने... Read More

Description

‘गीतांजलि’ गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर (1861-1941) की सर्वाधिक प्रशंसित और पठित पुस्तक है । इसी पर उन्हें 1913 में विश्वप्रसिद्द नोबेल पुरस्कार भी मिला । इसके बाद अपने पुरे जीवनकाल में वे भारतीय साहित्याकाश पर छाए रहे । साहित्य की विभिन्न विधाओं, संगीत और चित्रकला में सतत सृजनरत रहते हुए उन्होंने अंतिम साँस तक सरस्वती की साधना की और भारतवासियों के लिए ‘गुरुदेव’ के रूप में प्रतिष्ठित हुए । प्रकृति, प्रेम, इश्वर के प्रति निष्ठा, आस्था और मानवतावादी मूल्यों के प्रति समर्पण भाव से संपन्न ‘गीतांजलि’ के गीत पिछली एक सदी से बांग्लाभाषी जनों की आत्मा में बसे हुए हैं । विभिन्न भाषाओँ में हुए इसके अनुवादों के माध्यम से विश्व-भर के सहृदय पाठक इसका रसास्वादन कर चुके हैं । प्रतुत अनुवाद हिंदी में अब तक उपलब्ध अन्य अनुवादों से इस अर्थ में भिन्न है कि इसमें मूल बांग्ला रचनाओं की गीतात्मकता को बरक़रार रखा गया है, जो इन गीतों का अभिन्न हिस्सा है । इस गेयता के कारण आप इन गीतों को याद रख सकते हैं, गा सकते हैं । ‘gitanjali’ gurudev ravindrnath taigor (1861-1941) ki sarvadhik prshansit aur pathit pustak hai. Isi par unhen 1913 mein vishvaprsidd nobel puraskar bhi mila. Iske baad apne pure jivankal mein ve bhartiy sahityakash par chhaye rahe. Sahitya ki vibhinn vidhaon, sangit aur chitrakla mein satat srijanrat rahte hue unhonne antim sans tak sarasvti ki sadhna ki aur bharatvasiyon ke liye ‘gurudev’ ke rup mein prtishthit hue. Prkriti, prem, ishvar ke prati nishtha, aastha aur manavtavadi mulyon ke prati samarpan bhav se sampann ‘gitanjali’ ke git pichhli ek sadi se banglabhashi janon ki aatma mein base hue hain. Vibhinn bhashaon mein hue iske anuvadon ke madhyam se vishv-bhar ke sahriday pathak iska rasasvadan kar chuke hain. Prtut anuvad hindi mein ab tak uplabdh anya anuvadon se is arth mein bhinn hai ki ismen mul bangla rachnaon ki gitatmakta ko baraqrar rakha gaya hai, jo in giton ka abhinn hissa hai. Is geyta ke karan aap in giton ko yaad rakh sakte hain, ga sakte hain.

Additional Information
Book Type

Paperback

Publisher Radhakrishna Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8183612661
Pages 164p
Publishing Year

Geetanjali

‘गीतांजलि’ गुरुदेव रविंद्रनाथ टैगोर (1861-1941) की सर्वाधिक प्रशंसित और पठित पुस्तक है । इसी पर उन्हें 1913 में विश्वप्रसिद्द नोबेल पुरस्कार भी मिला । इसके बाद अपने पुरे जीवनकाल में वे भारतीय साहित्याकाश पर छाए रहे । साहित्य की विभिन्न विधाओं, संगीत और चित्रकला में सतत सृजनरत रहते हुए उन्होंने अंतिम साँस तक सरस्वती की साधना की और भारतवासियों के लिए ‘गुरुदेव’ के रूप में प्रतिष्ठित हुए । प्रकृति, प्रेम, इश्वर के प्रति निष्ठा, आस्था और मानवतावादी मूल्यों के प्रति समर्पण भाव से संपन्न ‘गीतांजलि’ के गीत पिछली एक सदी से बांग्लाभाषी जनों की आत्मा में बसे हुए हैं । विभिन्न भाषाओँ में हुए इसके अनुवादों के माध्यम से विश्व-भर के सहृदय पाठक इसका रसास्वादन कर चुके हैं । प्रतुत अनुवाद हिंदी में अब तक उपलब्ध अन्य अनुवादों से इस अर्थ में भिन्न है कि इसमें मूल बांग्ला रचनाओं की गीतात्मकता को बरक़रार रखा गया है, जो इन गीतों का अभिन्न हिस्सा है । इस गेयता के कारण आप इन गीतों को याद रख सकते हैं, गा सकते हैं । ‘gitanjali’ gurudev ravindrnath taigor (1861-1941) ki sarvadhik prshansit aur pathit pustak hai. Isi par unhen 1913 mein vishvaprsidd nobel puraskar bhi mila. Iske baad apne pure jivankal mein ve bhartiy sahityakash par chhaye rahe. Sahitya ki vibhinn vidhaon, sangit aur chitrakla mein satat srijanrat rahte hue unhonne antim sans tak sarasvti ki sadhna ki aur bharatvasiyon ke liye ‘gurudev’ ke rup mein prtishthit hue. Prkriti, prem, ishvar ke prati nishtha, aastha aur manavtavadi mulyon ke prati samarpan bhav se sampann ‘gitanjali’ ke git pichhli ek sadi se banglabhashi janon ki aatma mein base hue hain. Vibhinn bhashaon mein hue iske anuvadon ke madhyam se vishv-bhar ke sahriday pathak iska rasasvadan kar chuke hain. Prtut anuvad hindi mein ab tak uplabdh anya anuvadon se is arth mein bhinn hai ki ismen mul bangla rachnaon ki gitatmakta ko baraqrar rakha gaya hai, jo in giton ka abhinn hissa hai. Is geyta ke karan aap in giton ko yaad rakh sakte hain, ga sakte hain.