BackBack
-11%

Gagan Damama Bajyo

Rs. 295 Rs. 263

इस नाटक के लिए दिल्ली के प्रसिद्ध ‘एक्ट-वन नाट्य समूह’ और ख़ुद पीयूष मिश्रा ने इतना शोध और परिश्रम किया था कि भगतसिंह पर इतिहास की कोई पुस्तक बन जाती, लेकिन उन्हें नाटक लिखना था जिसकी अपनी संरचना होती है, सो उन्होंने नाटक लिखा जिसने हमारे मूर्तिपूजक मन के लिए... Read More

BlackBlack
Description

इस नाटक के लिए दिल्ली के प्रसिद्ध ‘एक्ट-वन नाट्य समूह’ और ख़ुद पीयूष मिश्रा ने इतना शोध और परिश्रम किया था कि भगतसिंह पर इतिहास की कोई पुस्तक बन जाती, लेकिन उन्हें नाटक लिखना था जिसकी अपनी संरचना होती है, सो उन्होंने नाटक लिखा जिसने हमारे मूर्तिपूजक मन के लिए भगतसिंह की एक अलग महसूस की जा सकनेवाली छवि पेश की।
सुखदेव से एक न समझ में आनेवाली मित्रता में बँधे भगतसिंह, पंडित आज़ाद के प्रति एक लाड़-भरे सम्मान से ओत-प्रोत भगतसिंह, महात्मा गांधी से नाइत्तफ़ाक़ी रखते हुए भी उनके लिए एक ख़ास नज़रिया रखनेवाले भगतसिंह, नास्तिक होते हुए भी गीता और विवेकानन्द में आस्था रखनेवाले भगतसिंह, माँ-बाप और परिवार से अपने असीम मोह को एक स्थितप्रज्ञ फ़ासले से देखनेवाले भगतसिंह, पढ़ाकू, जुझारू, ख़ूबसूरत, शान्त, हँसोड़, इंटेलेक्चुअल, युगद्रष्टा, दुस्साहसी और...प्रेमी भगतसिंह। यह नाटक हमारे उस नायक को एक जीवित-स्पन्दित रूप में हमारे सामने वापस लाता है जिसे हमने इतना रूढ़ कर दिया कि उनके विचारों के धुर दुश्मन तक आज उनकी छवि का राजनीतिक इस्तेमाल करने में कोई असुविधा महसूस नहीं करते।
यह नाटक पढ़ें, और जब खेला जाए, देखने जाएँ और अपने पढ़े के अनुभव का मिलान मंच से करें। नाटक के साथ इस जिल्द में निर्देशक एन.के. शर्मा की टिप्पणी भी है, और पीयूष मिश्रा का शफ़्फ़ाफ़ पानी जैसे गद्य में लिखा एक ख़ूबसूरत आलेख भी, और साथ में भगतसिंह की लिखी कुछ बार-बार पठनीय सामग्री भी। Is natak ke liye dilli ke prsiddh ‘ekt-van natya samuh’ aur khud piyush mishra ne itna shodh aur parishram kiya tha ki bhagatsinh par itihas ki koi pustak ban jati, lekin unhen natak likhna tha jiski apni sanrachna hoti hai, so unhonne natak likha jisne hamare murtipujak man ke liye bhagatsinh ki ek alag mahsus ki ja saknevali chhavi pesh ki. Sukhdev se ek na samajh mein aanevali mitrta mein bandhe bhagatsinh, pandit aazad ke prati ek lad-bhare samman se ot-prot bhagatsinh, mahatma gandhi se naittfaqi rakhte hue bhi unke liye ek khas nazariya rakhnevale bhagatsinh, nastik hote hue bhi gita aur vivekanand mein aastha rakhnevale bhagatsinh, man-bap aur parivar se apne asim moh ko ek sthitapragya fasle se dekhnevale bhagatsinh, padhaku, jujharu, khubsurat, shant, hansod, intelekchual, yugadrashta, dussahsi aur. . . Premi bhagatsinh. Ye natak hamare us nayak ko ek jivit-spandit rup mein hamare samne vapas lata hai jise hamne itna rudh kar diya ki unke vicharon ke dhur dushman tak aaj unki chhavi ka rajnitik istemal karne mein koi asuvidha mahsus nahin karte.
Ye natak padhen, aur jab khela jaye, dekhne jayen aur apne padhe ke anubhav ka milan manch se karen. Natak ke saath is jild mein nirdeshak en. Ke. Sharma ki tippni bhi hai, aur piyush mishra ka shaffaf pani jaise gadya mein likha ek khubsurat aalekh bhi, aur saath mein bhagatsinh ki likhi kuchh bar-bar pathniy samagri bhi.