BackBack
-11%

Fidel Kastro

Rs. 399 Rs. 355

क्यूबा की क्रान्ति का पैरा-दर-पैरा इतिहास बतानेवाली इस पुस्तक के केन्द्र में फ़िदेल कास्त्रो का जीवन है। वही फ़िदेल कास्त्रो जो आज पूरी दुनिया में साम्राज्यवाद-विरोध का प्रतीक बन चुके हैं। मात्र पच्चीस वर्ष की आयु में मुट्ठी-भर साथियों को लेकर और बिना किसी बाहरी मदद के फ़िदेल कास्त्रो ने... Read More

BlackBlack
Description

क्यूबा की क्रान्ति का पैरा-दर-पैरा इतिहास बतानेवाली इस पुस्तक के केन्द्र में फ़िदेल कास्त्रो का जीवन है। वही फ़िदेल कास्त्रो जो आज पूरी दुनिया में साम्राज्यवाद-विरोध का प्रतीक बन चुके हैं।
मात्र पच्चीस वर्ष की आयु में मुट्ठी-भर साथियों को लेकर और बिना किसी बाहरी मदद के फ़िदेल कास्त्रो ने क्यूबा के तानाशाह बतिस्ता और उसके पोषक अमेरिकी साम्राज्यवाद को सदा-सदा के लिए क्यूबा से विदा कर दिया था। क्यूबा के शोषित-पीड़ित किसानों, मज़दूरों को क्रान्तिकारी योद्धाओं में बदलने वाले और अपने देश को सामाजिक न्याय के सिद्धान्तों पर एक बेहतर राष्ट्र के रूप में विकसित करनेवाले फ़िदेल कास्त्रो ने अन्तरराष्ट्रीयता की नई परिभाषाएँ गढ़ीं और समूची दुनिया को हर तरह की विषमता से मुक्त करने का एक बड़ा सपना देखा। आज इस सपने को विश्व का हर वह इनसान अपने दिल के क़रीब महसूस करता है जो इस दुनिया को मनुष्य के भविष्य के लिए एक सुरक्षित आवास में बदलना चाहता है।
लेखक के व्यापक शोध और गहरी प्रतिबद्धता से उपजी यह पुस्तक न सिर्फ़ फ़िदेल के जीवन, बल्कि क्यूबा तथा शेष विश्व की उन राजनीतिक-आर्थिक परिस्थितियों का भी तथ्याधारित विवरण देती है जिसके बीच फ़िदेल का उद्भव हुआ और क्यूबा-क्रान्ति सम्भव हुई। साथ ही इसमें क्रान्ति की प्रेरक उस विचार-निधि को भी पर्याप्त स्थान दिया गया है जिसके कारण फ़िदेल का सपना, पहले क्यूबा और फिर दुनिया के हर न्यायप्रिय व्यक्ति का संकल्प बना।
इस पुस्तक में हमें फ़िदेल के सबसे भरोसेमन्द साथी चे गुएवारा को भी काफ़ी नज़दीक से जानने का मौक़ा मिलता है जिनके जीवन का एकमात्र उद्देश्य दुनिया में जहाँ भी साम्राज्यवाद है, उसके विरुद्ध संघर्ष करना था, और अल्प आयु में ही जीवन बलिदान करने के बावजूद जो आज हर जागरूक युवा हृदय में जीवित हैं। Kyuba ki kranti ka paira-dar-paira itihas batanevali is pustak ke kendr mein fidel kastro ka jivan hai. Vahi fidel kastro jo aaj puri duniya mein samrajyvad-virodh ka prtik ban chuke hain. Matr pachchis varsh ki aayu mein mutthi-bhar sathiyon ko lekar aur bina kisi bahri madad ke fidel kastro ne kyuba ke tanashah batista aur uske poshak ameriki samrajyvad ko sada-sada ke liye kyuba se vida kar diya tha. Kyuba ke shoshit-pidit kisanon, mazduron ko krantikari yoddhaon mein badalne vale aur apne desh ko samajik nyay ke siddhanton par ek behtar rashtr ke rup mein viksit karnevale fidel kastro ne antarrashtriyta ki nai paribhashayen gadhin aur samuchi duniya ko har tarah ki vishamta se mukt karne ka ek bada sapna dekha. Aaj is sapne ko vishv ka har vah insan apne dil ke qarib mahsus karta hai jo is duniya ko manushya ke bhavishya ke liye ek surakshit aavas mein badalna chahta hai.
Lekhak ke vyapak shodh aur gahri pratibaddhta se upji ye pustak na sirf fidel ke jivan, balki kyuba tatha shesh vishv ki un rajnitik-arthik paristhitiyon ka bhi tathyadharit vivran deti hai jiske bich fidel ka udbhav hua aur kyuba-kranti sambhav hui. Saath hi ismen kranti ki prerak us vichar-nidhi ko bhi paryapt sthan diya gaya hai jiske karan fidel ka sapna, pahle kyuba aur phir duniya ke har nyayapriy vyakti ka sankalp bana.
Is pustak mein hamein fidel ke sabse bharosemand sathi che guevara ko bhi kafi nazdik se janne ka mauqa milta hai jinke jivan ka ekmatr uddeshya duniya mein jahan bhi samrajyvad hai, uske viruddh sangharsh karna tha, aur alp aayu mein hi jivan balidan karne ke bavjud jo aaj har jagruk yuva hriday mein jivit hain.