BackBack

Ek Karore Ki Botal

Rs. 75

ज़िन्दगी एक फूल होती है जो मुरझा जाती है; ज़िन्दगी एक पत्थर होती है और घिस जाती है; ज़िन्दगी लोहा होती है और जंग खा जाती है; ज़िन्दगी आँसू होती है और गिर जाती है; ज़िन्दगी महक होती है और बिखर जाती है; ज़िन्दगी समन्दर होती है और...“यही है कृश्न... Read More

BlackBlack
Description

ज़िन्दगी एक फूल होती है जो मुरझा जाती है; ज़िन्दगी एक पत्थर होती है और घिस जाती है; ज़िन्दगी लोहा होती है और जंग खा जाती है; ज़िन्दगी आँसू होती है और गिर जाती है; ज़िन्दगी महक होती है और बिखर जाती है; ज़िन्दगी समन्दर होती है और...“यही है कृश्न चंदर की जादुई क़लम, जिसने जीवन की भयावह सचाइयों को अत्यन्त रोमैंटिक लहज़े में पेश किया है।
'एक करोड़ की बोतल' उनका एक महत्त्वपूर्ण उपन्यास है, जिसमें उन्होंने नारी के समस्त कोमल मनोभावों एवं उसकी आन्तरिक पीड़ा को मार्मिक अभिव्यक्ति दी है। एक कुशल कथाकार के नाते उनकी लेखनी ने बहुत सफलता के साथ सेक्स, रोमांस, धनाभाव और माया-लोक की सम-विषम परिस्थितियों में फँसे अपने मुख्य पात्रों को इस बात की पूरी स्वतंत्रता दी है कि वे अपने-आपको पाठक के सामने स्वयं उपस्थित करें।
वास्तव में कृश्न चंदर का यह उपन्यास मानव-मन की दुर्बलताओं का दर्पण तो है ही, इसमें सामाजिक विघटन एवं कुंठा से उत्पन्न वे घिनौने प्रसंग भी हैं, जो हमें चिन्तन के नए छोरों तक ले जाकर रचनात्मक पुनर्रचना के लिए प्रेरित भी करते हैं। Zindagi ek phul hoti hai jo murjha jati hai; zindagi ek patthar hoti hai aur ghis jati hai; zindagi loha hoti hai aur jang kha jati hai; zindagi aansu hoti hai aur gir jati hai; zindagi mahak hoti hai aur bikhar jati hai; zindagi samandar hoti hai aur. . . “yahi hai krishn chandar ki jadui qalam, jisne jivan ki bhayavah sachaiyon ko atyant romaintik lahze mein pesh kiya hai. Ek karod ki botal unka ek mahattvpurn upanyas hai, jismen unhonne nari ke samast komal manobhavon evan uski aantrik pida ko marmik abhivyakti di hai. Ek kushal kathakar ke nate unki lekhni ne bahut saphalta ke saath seks, romans, dhanabhav aur maya-lok ki sam-visham paristhitiyon mein phanse apne mukhya patron ko is baat ki puri svtantrta di hai ki ve apne-apko pathak ke samne svayan upasthit karen.
Vastav mein krishn chandar ka ye upanyas manav-man ki durbaltaon ka darpan to hai hi, ismen samajik vightan evan kuntha se utpann ve ghinaune prsang bhi hain, jo hamein chintan ke ne chhoron tak le jakar rachnatmak punarrachna ke liye prerit bhi karte hain.