BackBack
-11%

Drishya Aur Dhwaniyan-Khand-2

Rs. 995 Rs. 886

गुजराती आदि भारतीय भाषाएँ एक विस्तृत सेमिओटिक नेटवर्क अर्थात् संकेतन-अनुबन्ध-व्यवस्था का अन्य-समतुल्य हिस्सा हैं। मूल बात ये है कि विशेष को मिटाए बिना सामान्य अथवा साधारण की रचना करने की, और तुल्य-मूल्य संकेतकों से बुनी हुई एक संकेतन-व्यवस्था रचने की जो भारतीय क्षमता है, उसका जतन होता रहे। राष्ट्रीय या... Read More

Description

गुजराती आदि भारतीय भाषाएँ एक विस्तृत सेमिओटिक नेटवर्क अर्थात् संकेतन-अनुबन्ध-व्यवस्था का अन्य-समतुल्य हिस्सा हैं। मूल बात ये है कि विशेष को मिटाए बिना सामान्य अथवा साधारण की रचना करने की, और तुल्य-मूल्य संकेतकों से बुनी हुई एक संकेतन-व्यवस्था रचने की जो भारतीय क्षमता है, उसका जतन होता रहे। राष्ट्रीय या अन्तरराष्ट्रीय राज्यसत्ता, उपभोक्तावाद को बढ़ावा देनेवाली, सम्मोहक वाग्मिता के छल पर टिकी हुई धनसत्ता एवं आत्ममुग्ध, असहिष्णु विविध विचारसरणियाँ/आइडियोलॉजीज़ की तंत्रात्मक सत्ता, आदि परिबलों से शासित होने से भारतीय क्षमता को बचाते हुए, उस का संवर्धन होता रहे। गुजराती में से मेरे लेखों के हिन्दी अनुवाद करने का काम सरल तो था नहीं। गुजराती साहित्य की अपनी निरीक्षण परम्परा तथा सृजनात्मक लेखन की धारा बड़ी लम्बी है और उसी में से मेरी साहित्य तत्त्व-मीमांसा एवं कृतिनिष्ठ तथा तुलनात्मक आलोचना की परिभाषा निपजी है। उसी में मेरी सोच प्रतिष्ठित (एम्बेडेड) है। भारतीय साहित्य के गुजराती विवर्तों को ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में जाने बिना मेरे लेखन का सही अनुवाद करना सम्भव नहीं है, मैं जानता हूँ। इसीलिए इन लेखों का हिन्दी अनुवाद टिकाऊ स्नेह और बड़े कौशल्य से जिन्होंने किया है, उन अनुवादक सहृदयों का मैं गहरा ऋणी हूँ। ये पुस्तक पढ़नेवाले हिन्दीभाषी सहृदय पाठकों का सविनय धन्यवाद, जिनकी दृष्टि का जल मिलने से ही तो यह पन्ने पल्लवित होंगे।
—सितांशु यशश्चन्द्र (प्रस्तावना से)
''हमारी परम्परा में गद्य को कवियों का निकष माना गया है। रज़ा पुस्तक माला के अन्तर्गत हम इधर सक्रिय भारतीय कवियों के गद्य के अनुवाद की एक सीरीज़ प्रस्तुत कर रहे हैं। इस सीरीज़ में बाङ्ला के मूर्धन्य कवि शंख घोष के गद्य का संचयन दो खण्डों में प्रकाशित हो चुका है। अब गुजराती कवि सितांशु यशश्चन्द्र के गद्य का हिन्दी अनुवाद दो जि़ल्दों में पेश है। पाठक पाएँगे कि सितांशु के कवि-चिन्तन का वितान गद्य में कितना व्यापक है—उसमें परम्परा, आधुनिकता, साहित्य के कई पक्षों से लेकर कुछ स्थानीयताओं पर कुशाग्रता और ताज़ेपन से सोचा गया है। हमें भरोसा है कि यह गद्य हिन्दी की अपनी आलोचना में कुछ नया जोड़ेगा।" —अशोक वाजपेयी Gujrati aadi bhartiy bhashayen ek vistrit semiotik netvark arthat sanketan-anubandh-vyvastha ka anya-samtulya hissa hain. Mul baat ye hai ki vishesh ko mitaye bina samanya athva sadharan ki rachna karne ki, aur tulya-mulya sanketkon se buni hui ek sanketan-vyvastha rachne ki jo bhartiy kshamta hai, uska jatan hota rahe. Rashtriy ya antarrashtriy rajysatta, upbhoktavad ko badhava denevali, sammohak vagmita ke chhal par tiki hui dhansatta evan aatmmugdh, ashishnu vividh vicharasaraniyan/aidiyolaujiz ki tantratmak satta, aadi pariblon se shasit hone se bhartiy kshamta ko bachate hue, us ka sanvardhan hota rahe. Gujrati mein se mere lekhon ke hindi anuvad karne ka kaam saral to tha nahin. Gujrati sahitya ki apni nirikshan parampra tatha srijnatmak lekhan ki dhara badi lambi hai aur usi mein se meri sahitya tattv-mimansa evan kritinishth tatha tulnatmak aalochna ki paribhasha nipji hai. Usi mein meri soch prtishthit (embeded) hai. Bhartiy sahitya ke gujrati vivarton ko aitihasik pariprekshya mein jane bina mere lekhan ka sahi anuvad karna sambhav nahin hai, main janta hun. Isiliye in lekhon ka hindi anuvad tikau sneh aur bade kaushalya se jinhonne kiya hai, un anuvadak sahridyon ka main gahra rini hun. Ye pustak padhnevale hindibhashi sahriday pathkon ka savinay dhanyvad, jinki drishti ka jal milne se hi to ye panne pallvit honge. —sitanshu yashashchandr (prastavna se)
Hamari parampra mein gadya ko kaviyon ka nikash mana gaya hai. Raza pustak mala ke antargat hum idhar sakriy bhartiy kaviyon ke gadya ke anuvad ki ek siriz prastut kar rahe hain. Is siriz mein banla ke murdhanya kavi shankh ghosh ke gadya ka sanchyan do khandon mein prkashit ho chuka hai. Ab gujrati kavi sitanshu yashashchandr ke gadya ka hindi anuvad do jildon mein pesh hai. Pathak payenge ki sitanshu ke kavi-chintan ka vitan gadya mein kitna vyapak hai—usmen parampra, aadhunikta, sahitya ke kai pakshon se lekar kuchh sthaniytaon par kushagrta aur tazepan se socha gaya hai. Hamein bharosa hai ki ye gadya hindi ki apni aalochna mein kuchh naya jodega. " —ashok vajpeyi