BackBack

Dhuppal

Bhagwaticharan Verma

Rs. 250

यह एक निर्विवाद तथ्य है कि अपने कथा-कृतित्व में अनेकानेक व्यक्ति-चरित्रों को उकेरनेवाले साधनाशील रचनाकारों का अपना जीवन भी किसी महान कृति से कम महत्त्व नहीं रखता, इसलिए उन विविध जीवनानुभवों को यथार्थतः काग़ज़ पर उतार लाना एक महत्त्वपूर्ण सृजनात्मक उपलब्धि ही माना जाएगा। इस नाते सुविख्यात कृती-व्यक्तित्व भगवतीचरण वर्मा... Read More

Description

यह एक निर्विवाद तथ्य है कि अपने कथा-कृतित्व में अनेकानेक व्यक्ति-चरित्रों को उकेरनेवाले साधनाशील रचनाकारों का अपना जीवन भी किसी महान कृति से कम महत्त्व नहीं रखता, इसलिए उन विविध जीवनानुभवों को यथार्थतः काग़ज़ पर उतार लाना एक महत्त्वपूर्ण सृजनात्मक उपलब्धि ही माना जाएगा। इस नाते सुविख्यात कृती-व्यक्तित्व भगवतीचरण वर्मा की यह कथाकृति आत्मकथात्मक उपन्यासों में एक उल्लेखनीय स्थान की हक़दार है।
क़स्बे का एक बालक कैसे भगवतीचरण वर्मा के रूप में स्वनामधन्य हुआ, इसे वह स्वयं भी नहीं जानता। जानता है तो सिर्फ़ उस जीवन-संघर्ष को जिसे वह ‘धुप्पल’ करार देता है।
आत्मकथा न लिखकर भगवती बाबू ने यह उपन्यास लिखा, यह बात उनके रचनाशील मन की अनवरत सृजनात्मक सक्रियता की ही सूचक है। ‘धुप्पल’ में जो गम्भीरता है, वह भगवती बाबू के चुटीले भाषा-शिल्प के बावजूद, अपनी तथ्यात्मकता का स्वाभाविक परिणाम है। लेखक के साथ-साथ इसमें एक युग मुखर हुआ है, जिसके अपने अन्तर्विरोध अगर लेखकीय अन्तर्विरोध भी रहे तो उन्होंने उसके सृजन को ही धारदार बनाया। इसलिए ‘धुप्पल’ सिर्फ़ ‘धुप्पल’ ही नहीं, लेखकीय संघर्ष का सार्थक दस्तावेज़ भी है। Ye ek nirvivad tathya hai ki apne katha-krititv mein anekanek vyakti-charitron ko ukernevale sadhnashil rachnakaron ka apna jivan bhi kisi mahan kriti se kam mahattv nahin rakhta, isaliye un vividh jivnanubhvon ko yatharthatः kagaz par utar lana ek mahattvpurn srijnatmak uplabdhi hi mana jayega. Is nate suvikhyat kriti-vyaktitv bhagavtichran varma ki ye kathakriti aatmakthatmak upanyason mein ek ullekhniy sthan ki haqdar hai. Qasbe ka ek balak kaise bhagavtichran varma ke rup mein svnamdhanya hua, ise vah svayan bhi nahin janta. Janta hai to sirf us jivan-sangharsh ko jise vah ‘dhuppal’ karar deta hai.
Aatmaktha na likhkar bhagavti babu ne ye upanyas likha, ye baat unke rachnashil man ki anavrat srijnatmak sakriyta ki hi suchak hai. ‘dhuppal’ mein jo gambhirta hai, vah bhagavti babu ke chutile bhasha-shilp ke bavjud, apni tathyatmakta ka svabhavik parinam hai. Lekhak ke sath-sath ismen ek yug mukhar hua hai, jiske apne antarvirodh agar lekhkiy antarvirodh bhi rahe to unhonne uske srijan ko hi dhardar banaya. Isaliye ‘dhuppal’ sirf ‘dhuppal’ hi nahin, lekhkiy sangharsh ka sarthak dastavez bhi hai.

Additional Information
Book Type

Hardbound

Publisher Rajkamal Prakashan
Language Hindi
ISBN 978-8126705788
Pages 107p
Publishing Year

Dhuppal

यह एक निर्विवाद तथ्य है कि अपने कथा-कृतित्व में अनेकानेक व्यक्ति-चरित्रों को उकेरनेवाले साधनाशील रचनाकारों का अपना जीवन भी किसी महान कृति से कम महत्त्व नहीं रखता, इसलिए उन विविध जीवनानुभवों को यथार्थतः काग़ज़ पर उतार लाना एक महत्त्वपूर्ण सृजनात्मक उपलब्धि ही माना जाएगा। इस नाते सुविख्यात कृती-व्यक्तित्व भगवतीचरण वर्मा की यह कथाकृति आत्मकथात्मक उपन्यासों में एक उल्लेखनीय स्थान की हक़दार है।
क़स्बे का एक बालक कैसे भगवतीचरण वर्मा के रूप में स्वनामधन्य हुआ, इसे वह स्वयं भी नहीं जानता। जानता है तो सिर्फ़ उस जीवन-संघर्ष को जिसे वह ‘धुप्पल’ करार देता है।
आत्मकथा न लिखकर भगवती बाबू ने यह उपन्यास लिखा, यह बात उनके रचनाशील मन की अनवरत सृजनात्मक सक्रियता की ही सूचक है। ‘धुप्पल’ में जो गम्भीरता है, वह भगवती बाबू के चुटीले भाषा-शिल्प के बावजूद, अपनी तथ्यात्मकता का स्वाभाविक परिणाम है। लेखक के साथ-साथ इसमें एक युग मुखर हुआ है, जिसके अपने अन्तर्विरोध अगर लेखकीय अन्तर्विरोध भी रहे तो उन्होंने उसके सृजन को ही धारदार बनाया। इसलिए ‘धुप्पल’ सिर्फ़ ‘धुप्पल’ ही नहीं, लेखकीय संघर्ष का सार्थक दस्तावेज़ भी है। Ye ek nirvivad tathya hai ki apne katha-krititv mein anekanek vyakti-charitron ko ukernevale sadhnashil rachnakaron ka apna jivan bhi kisi mahan kriti se kam mahattv nahin rakhta, isaliye un vividh jivnanubhvon ko yatharthatः kagaz par utar lana ek mahattvpurn srijnatmak uplabdhi hi mana jayega. Is nate suvikhyat kriti-vyaktitv bhagavtichran varma ki ye kathakriti aatmakthatmak upanyason mein ek ullekhniy sthan ki haqdar hai. Qasbe ka ek balak kaise bhagavtichran varma ke rup mein svnamdhanya hua, ise vah svayan bhi nahin janta. Janta hai to sirf us jivan-sangharsh ko jise vah ‘dhuppal’ karar deta hai.
Aatmaktha na likhkar bhagavti babu ne ye upanyas likha, ye baat unke rachnashil man ki anavrat srijnatmak sakriyta ki hi suchak hai. ‘dhuppal’ mein jo gambhirta hai, vah bhagavti babu ke chutile bhasha-shilp ke bavjud, apni tathyatmakta ka svabhavik parinam hai. Lekhak ke sath-sath ismen ek yug mukhar hua hai, jiske apne antarvirodh agar lekhkiy antarvirodh bhi rahe to unhonne uske srijan ko hi dhardar banaya. Isaliye ‘dhuppal’ sirf ‘dhuppal’ hi nahin, lekhkiy sangharsh ka sarthak dastavez bhi hai.