BackBack
-11%

Dard Jo Saha Maine

Rs. 495 Rs. 441

‘दर्द जो सहा मैंने...’ आशा आपराद की आत्मकथा है। ‘एक भारतीय मुस्लिम परिवार’ में जन्मी ऐसी स्त्री की गाथा जिसने बचपन से स्वयं को संघर्षों के बीच पाया। संघर्षों से जूझते हुए किस प्रकार आशा ने शिक्षा प्राप्त की, परिवार का पालन-पोषण किया, अपने घर का सपना साकार किया—यह सब... Read More

BlackBlack
Description

‘दर्द जो सहा मैंने...’ आशा आपराद की आत्मकथा है। ‘एक भारतीय मुस्लिम परिवार’ में जन्मी ऐसी स्त्री की गाथा जिसने बचपन से स्वयं को संघर्षों के बीच पाया। संघर्षों से जूझते हुए किस प्रकार आशा ने शिक्षा प्राप्त की, परिवार का पालन-पोषण किया, अपने घर का सपना साकार किया—यह सब इस पुस्तक के शब्द-शब्द में व्यंजित
है।
अपनी माँ से लेखिका को जो कष्ट मिले, उनका विवरण पढ़कर किसी का भी मन विचलित हो सकता है। लेकिन पिता का स्नेह इस तपते रेतीले सफ़र में मरुद्यान की भाँति रहा। इस आत्मकथा में आशा आपराद ने जीवन की गहराई में जाकर और भी अनेक रिश्ते-नातों का वर्णन किया है।
सुख-दुःख, मिलन-बिछोह और अभाव-उपलब्धि के धागों से बुनी एक अविस्मरणीय आत्मकथा है ‘दर्द जो सहा मैंने...’
‘मनोगत’ में आशा आपराद ने लिखा है : “मेरी किताब सिर्फ़ ‘मेरी’ नहीं, यह तो प्रातिनिधिक स्वरूप की है, ऐसा मैं मानती हूँ। हमारा देश तो स्वतंत्र हुआ लेकिन यहाँ का इंसान ‘ग़ुलामी’ में जी रहा है। अगर यह सच न होता तो आज भी औरतों को, पिछड़े वर्ग को, ग़रीब वर्ग को अधिकार और न्याय के लिए बरसों तक झगड़ना पड़ता क्या! आज भी स्त्रियों पर अनन्त अत्याचार होते हैं। दहेज के लिए आज भी कितनों को जलना पड़ता है। बेटी पैदा होने से पहले ही उसे गर्भ में ‘मरने का’ तंत्र विकसित हो गया है। मैं चाहती हूँ, जो स्त्री-पुरुष ग़ुलामी का दर्द, अन्याय सह रहे हैं, शोषित हैं, अत्याचार में झुलस रहे हैं, उन सबको अत्याचार के विरोध में लड़ने की, मुक़ाबला करने की शक्ति प्राप्त हो, बल प्राप्त हो।”
निश्चित रूप से यह आत्मकथा प्रत्येक पाठक को प्रेरणा प्रदान करेगी।
मराठी से हिन्दी में अनुवाद स्वयं आशा आपराद ने किया है। जो अपने मराठी आस्वाद के चलते एक अद् भुत पाठकीय अनुभव प्रदान करता है। ‘dard jo saha mainne. . . ’ aasha aaprad ki aatmaktha hai. ‘ek bhartiy muslim parivar’ mein janmi aisi stri ki gatha jisne bachpan se svayan ko sangharshon ke bich paya. Sangharshon se jujhte hue kis prkar aasha ne shiksha prapt ki, parivar ka palan-poshan kiya, apne ghar ka sapna sakar kiya—yah sab is pustak ke shabd-shabd mein vyanjitHai.
Apni man se lekhika ko jo kasht mile, unka vivran padhkar kisi ka bhi man vichlit ho sakta hai. Lekin pita ka sneh is tapte retile safar mein marudyan ki bhanti raha. Is aatmaktha mein aasha aaprad ne jivan ki gahrai mein jakar aur bhi anek rishte-naton ka varnan kiya hai.
Sukh-duःkha, milan-bichhoh aur abhav-uplabdhi ke dhagon se buni ek avismarniy aatmaktha hai ‘dard jo saha mainne. . . ’
‘manogat’ mein aasha aaprad ne likha hai : “meri kitab sirf ‘meri’ nahin, ye to pratinidhik svrup ki hai, aisa main manti hun. Hamara desh to svtantr hua lekin yahan ka insan ‘gulami’ mein ji raha hai. Agar ye sach na hota to aaj bhi aurton ko, pichhde varg ko, garib varg ko adhikar aur nyay ke liye barson tak jhagadna padta kya! aaj bhi striyon par anant atyachar hote hain. Dahej ke liye aaj bhi kitnon ko jalna padta hai. Beti paida hone se pahle hi use garbh mein ‘marne kaa’ tantr viksit ho gaya hai. Main chahti hun, jo stri-purush gulami ka dard, anyay sah rahe hain, shoshit hain, atyachar mein jhulas rahe hain, un sabko atyachar ke virodh mein ladne ki, muqabla karne ki shakti prapt ho, bal prapt ho. ”
Nishchit rup se ye aatmaktha pratyek pathak ko prerna prdan karegi.
Marathi se hindi mein anuvad svayan aasha aaprad ne kiya hai. Jo apne marathi aasvad ke chalte ek ad bhut pathkiy anubhav prdan karta hai.