BackBack
-11%

Chourangi

Rs. 500 Rs. 445

सुखी और दुखी, सहयोगी और विरोधी, उत्कर्ष और पतन, आदर्श और व्यवहार, व्यावसायिक और मानवीय—बहुविध मानव चरित्रों की कथा है यह उपन्यास ‘चौरंगी’। शाहजहाँ होटल के माध्यम से लेखक केवल कलकत्ता का चित्र नहीं, बल्कि सम्पूर्ण मानव व्यवहार का चित्र प्रस्तुत करता है। इस उपन्यास में इतने अधिक विविधरंगी चरित्र... Read More

BlackBlack
Description

सुखी और दुखी, सहयोगी और विरोधी, उत्कर्ष और पतन, आदर्श और व्यवहार, व्यावसायिक और मानवीय—बहुविध मानव चरित्रों की कथा है यह उपन्यास ‘चौरंगी’। शाहजहाँ होटल के माध्यम से लेखक केवल कलकत्ता का चित्र नहीं, बल्कि सम्पूर्ण मानव व्यवहार का चित्र प्रस्तुत करता है। इस उपन्यास में इतने अधिक विविधरंगी चरित्र हैं कि इसे सहज ही मानव जीवन की महागाथा कहा जा सकता है पर महागाथाओं की तरह इसमें कोई महानायक नहीं है, इसीलिए यह उपन्यास कोई आदर्श भी नहीं रचता। यह केवल परत-दर-परत मानवीय व्यवहार के विभिन्न पहलुओं को खोलता चलता है। यही वजह है कि कई बार एक ही व्यक्ति के चरित्र के दो रूप उभरकर सामने आते हैं। महानगरीय जीवन की महत्त्वाकांक्षाओं के बीच किस तरह से इच्छाएँ और सम्बन्ध दम तोड़ जाते हैं, यह इसमें बख़ूबी देखा जा सकता है। परन्तु कभी भी सब कुछ नहीं टूटता, कभी भी सब कुछ नष्ट नहीं होता। नष्ट होने के बीच बहुत कुछ ऐसा बचा रहता है जो नए निर्माण की आशा को जीवित रखता है। बहुरंगी चरित्रों की इस महागाथा को बाँधे रखनेवाला एकमात्र सूत्र है, सहज मानवीय स्नेह। शाहजहाँ होटल में काम करते हुए नायक को सबसे अधिक ऐश्वर्य जो मिला वह था साथ काम करनेवालों का स्नेह। और यही स्नेह सब कुछ नष्ट हो जाने के बीच भी निर्माण की आशा को बरकरार रखता है। Sukhi aur dukhi, sahyogi aur virodhi, utkarsh aur patan, aadarsh aur vyavhar, vyavsayik aur manviy—bahuvidh manav charitron ki katha hai ye upanyas ‘chaurangi’. Shahajhan hotal ke madhyam se lekhak keval kalkatta ka chitr nahin, balki sampurn manav vyavhar ka chitr prastut karta hai. Is upanyas mein itne adhik vividhrangi charitr hain ki ise sahaj hi manav jivan ki mahagatha kaha ja sakta hai par mahagathaon ki tarah ismen koi mahanayak nahin hai, isiliye ye upanyas koi aadarsh bhi nahin rachta. Ye keval parat-dar-parat manviy vyavhar ke vibhinn pahaluon ko kholta chalta hai. Yahi vajah hai ki kai baar ek hi vyakti ke charitr ke do rup ubharkar samne aate hain. Mahanagriy jivan ki mahattvakankshaon ke bich kis tarah se ichchhayen aur sambandh dam tod jate hain, ye ismen bakhubi dekha ja sakta hai. Parantu kabhi bhi sab kuchh nahin tutta, kabhi bhi sab kuchh nasht nahin hota. Nasht hone ke bich bahut kuchh aisa bacha rahta hai jo ne nirman ki aasha ko jivit rakhta hai. Bahurangi charitron ki is mahagatha ko bandhe rakhnevala ekmatr sutr hai, sahaj manviy sneh. Shahajhan hotal mein kaam karte hue nayak ko sabse adhik aishvarya jo mila vah tha saath kaam karnevalon ka sneh. Aur yahi sneh sab kuchh nasht ho jane ke bich bhi nirman ki aasha ko barakrar rakhta hai.