BackBack
-11%

Chitramay Bharat

Rs. 695 Rs. 619

भारतीय भाषाओं में कला-आलोचना के अभाव को किसी हद तक सुधाकर यादव की 'चित्रमय भारत’ दूर करने का एक ऐसा विस्तृत प्रयास है जो अब तक नहीं हुआ है। ...पाठक लक्ष्य करेंगे कि 'चित्रमय भारत’ में आधुनिक नागर चित्रकारों की कला को तो विषय बनाया ही गया है, पर साथ... Read More

BlackBlack
Description

भारतीय भाषाओं में कला-आलोचना के अभाव को किसी हद तक सुधाकर यादव की 'चित्रमय भारत’ दूर करने का एक ऐसा विस्तृत प्रयास है जो अब तक नहीं हुआ है। ...पाठक लक्ष्य करेंगे कि 'चित्रमय भारत’ में आधुनिक नागर चित्रकारों की कला को तो विषय बनाया ही गया है, पर साथ में हमारे आदिवासी अंचलों में काम कर रहे चित्रकारों की कला पर भी उतनी ही गम्भीरता से लिखा गया है। यह इस पुस्तक की विशिष्ट बात है। मसलन, सुधाकर के लिए मक़बूल फ़िदा हुसैन और जनगढ़ सिंह श्याम दोनों की ही चित्रकृतियाँ विचार योग्य हैं और वे दोनों ही भारत की चित्रकला संस्कृति को समृद्ध करती हैं। इस किताब को अन्तिम पृष्ठ तक पढ़ने के बाद पाठक को पिछले सौ वर्षों से अधिक की भारतीय चित्रकला की यात्रा का, उसमें आए नए-नए पड़ावों और प्रस्थानों का ज्ञान तो होगा ही, अनुभव भी बहुत हद तक हो सकेगा। 'चित्रमय भारत’ हमें भारतीय चित्रकला संस्कृति से आत्मीय होने का अवसर प्रदान करती है। इसे पढ़कर पाठक स्वयं को अपनी संस्कृति की चित्रकला से कहीं अधिक निकटता महसूस करेंगे और अपने भीतर इसे और इसके सहारे ख़ुद को अनुभव करने के मार्ग कहीं अधिक सुगमता से अन्वेषित कर सकेंगे।
—उदयन वाजपेयी Bhartiy bhashaon mein kala-alochna ke abhav ko kisi had tak sudhakar yadav ki chitrmay bharat’ dur karne ka ek aisa vistrit pryas hai jo ab tak nahin hua hai. . . . Pathak lakshya karenge ki chitrmay bharat’ mein aadhunik nagar chitrkaron ki kala ko to vishay banaya hi gaya hai, par saath mein hamare aadivasi anchlon mein kaam kar rahe chitrkaron ki kala par bhi utni hi gambhirta se likha gaya hai. Ye is pustak ki vishisht baat hai. Maslan, sudhakar ke liye maqbul fida husain aur jangadh sinh shyam donon ki hi chitrakritiyan vichar yogya hain aur ve donon hi bharat ki chitrakla sanskriti ko samriddh karti hain. Is kitab ko antim prishth tak padhne ke baad pathak ko pichhle sau varshon se adhik ki bhartiy chitrakla ki yatra ka, usmen aae ne-ne padavon aur prasthanon ka gyan to hoga hi, anubhav bhi bahut had tak ho sakega. Chitrmay bharat’ hamein bhartiy chitrakla sanskriti se aatmiy hone ka avsar prdan karti hai. Ise padhkar pathak svayan ko apni sanskriti ki chitrakla se kahin adhik nikatta mahsus karenge aur apne bhitar ise aur iske sahare khud ko anubhav karne ke marg kahin adhik sugamta se anveshit kar sakenge. —udyan vajpeyi