BackBack
-11%

Chhui-Mui

Rs. 175 Rs. 156

‘तुम्हारे ख़मीर में तेज़ाबियत कुछ ज़्यादा है।’ किसी ने इस्मत आप से कहा था। तेजाबियत यानी कि कुछ तीखा, तुर्श और नरम दिलों को चुभनेवाला। उनकी यह विशेषता इस किताब में संकलित गद्य में अपने पूरे तेवर के साथ दिखाई देती है। ‘कहानी’ शीर्षक से उन्होंने बतौर विधा कहानी के... Read More

BlackBlack
Description

‘तुम्हारे ख़मीर में तेज़ाबियत कुछ ज़्यादा है।’ किसी ने इस्मत आप से कहा था। तेजाबियत यानी कि कुछ तीखा, तुर्श और नरम दिलों को चुभनेवाला। उनकी यह विशेषता इस किताब में संकलित गद्य में अपने पूरे तेवर के साथ दिखाई देती है। ‘कहानी’ शीर्षक से उन्होंने बतौर विधा कहानी के सफ़र के बारे में अपने ख़ास अन्दाज़ में लिखा है जिसे यहाँ किताब की भूमिका के रूप में रखा गया है।
‘बम्बई से भोपाल तक’ एक रिपोर्ताज है, ‘फ़सादात और अदब’ मुल्क के बँटवारे के वक़्त लिखा गया उर्दू साहित्य पर केन्द्रित और ‘किधर जाएँ’ अपने समय की आलोचना से सम्बन्धित आलेख हैं। श्रेष्ठ उर्दू गद्य के नमूने पेश करते ये आलेख इस्मत चुग़ताई के विचार-पक्ष को बेहद सफ़ाई और मज़बूती से रखते हैं। मसलन मुहब्बत के बारे में छात्राओं के सवाल पर उनका जवाब देखिए—‘एक इसम की ज़रूरत है, जैसे भूख और प्यास। अगर वह जिंसी ज़रूरत है तो उसके लिए गहरे कुएँ खोदना हिमाक़त है। बहती गंगा में भी होंट टार किए जा सकते हैं। रहा दोस्ती और हमख़याली की बिना पर मुहब्बत का दारोमदार तो इस मुल्क की हवा उसके लिए साज़गार नहीं।’
किताब में शामिल बाक़ी रचनाओं में भी कहानीपन के साथ संस्मरण और विचार का मिला-जुला रसायन है जो एक साथ उनके सामाजिक सरोकारों, घर से लेकर साहित्य और देश की मुश्किलों पर उनकी साफ़गो राय के बहाने उनके तेज़ाबी ख़मीर के अनेक नमूने पेश करता है। एक टुकड़ा ‘पौम-पौम डार्लिंग’ से, यह आलेख क़ुर्रतुल ऐन हैदर की समीक्षा के तौर पर उन्होंने लिखा था जिसे जनता और जनता के साहित्य की सामाजिकता पर एक महत्त्वपूर्ण दस्तावेज़ के रूप में पढ़ा जा सकता है। हैदर साहिबा के पात्रों पर उनका कहना था—‘लड़कियों और लड़कों के जमघट होते हैं, मगर एक क़िस्म की बेहिसी तारी रहती है। हसीनाएँ बिलकुल थोक के माल की तरह परखती और परखी जाती हैं। मानो ताँबे की पतीलियाँ ख़रीदी जा रही हों।’ ‘tumhare khamir mein tezabiyat kuchh zyada hai. ’ kisi ne ismat aap se kaha tha. Tejabiyat yani ki kuchh tikha, tursh aur naram dilon ko chubhnevala. Unki ye visheshta is kitab mein sanklit gadya mein apne pure tevar ke saath dikhai deti hai. ‘kahani’ shirshak se unhonne bataur vidha kahani ke safar ke bare mein apne khas andaz mein likha hai jise yahan kitab ki bhumika ke rup mein rakha gaya hai. ‘bambii se bhopal tak’ ek riportaj hai, ‘fasadat aur adab’ mulk ke bantvare ke vaqt likha gaya urdu sahitya par kendrit aur ‘kidhar jayen’ apne samay ki aalochna se sambandhit aalekh hain. Shreshth urdu gadya ke namune pesh karte ye aalekh ismat chugtai ke vichar-paksh ko behad safai aur mazbuti se rakhte hain. Maslan muhabbat ke bare mein chhatraon ke saval par unka javab dekhiye—‘ek isam ki zarurat hai, jaise bhukh aur pyas. Agar vah jinsi zarurat hai to uske liye gahre kuen khodna himaqat hai. Bahti ganga mein bhi hont taar kiye ja sakte hain. Raha dosti aur hamakhyali ki bina par muhabbat ka daromdar to is mulk ki hava uske liye sazgar nahin. ’
Kitab mein shamil baqi rachnaon mein bhi kahanipan ke saath sansmran aur vichar ka mila-jula rasayan hai jo ek saath unke samajik sarokaron, ghar se lekar sahitya aur desh ki mushkilon par unki safgo raay ke bahane unke tezabi khamir ke anek namune pesh karta hai. Ek tukda ‘paum-paum darling’ se, ye aalekh qurrtul ain haidar ki samiksha ke taur par unhonne likha tha jise janta aur janta ke sahitya ki samajikta par ek mahattvpurn dastavez ke rup mein padha ja sakta hai. Haidar sahiba ke patron par unka kahna tha—‘ladakiyon aur ladkon ke jamghat hote hain, magar ek qism ki behisi tari rahti hai. Hasinayen bilkul thok ke maal ki tarah parakhti aur parkhi jati hain. Mano tanbe ki patiliyan kharidi ja rahi hon. ’