BackBack
-11%

Chanakya Ka Naya Ghoshna Patra

Rs. 195 Rs. 174

लगभग 2500 वर्ष पहले, ईसा पूर्व चौथी सदी में, जब विश्व के अधिकांश भागों की सभ्यता अपनी शैशवावस्था में थी, चाणक्य नाम के एक विद्वान और विचारक ने ‘अर्थशास्त्र’ शीर्षक से एक ग्रन्थ लिखा, जो संसार में राजनीति पर सर्वाधिक गहन और सघन रचनाओं में से एक है। ‘अर्थशास्त्र’ में... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Discourse
Description

लगभग 2500 वर्ष पहले, ईसा पूर्व चौथी सदी में, जब विश्व के अधिकांश भागों की सभ्यता अपनी शैशवावस्था में थी, चाणक्य नाम के एक विद्वान और विचारक ने ‘अर्थशास्त्र’ शीर्षक से एक ग्रन्थ लिखा, जो संसार में राजनीति पर सर्वाधिक गहन और सघन रचनाओं में से एक है।
‘अर्थशास्त्र’ में लगभग 6000 श्लोक और सूत्र हैं। यहाँ व्यवस्थित रूप से प्रभावशाली प्रशासन,
लोककल्याण, आर्थिक समृद्धि, शासक के गुण, उसके मंत्रियों की योग्यता, अधिकारियों के कर्तव्यों, प्रशासनिक क्षमता, नागरिक दायित्व, क़ानून के शासन का महत्त्व, प्रभावी न्याय व्यवस्था, भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के तरीक़े, दंडनीति अथवा अपराधियों को दंडित करने की नीति, विदेशनीति के संचालन, युद्ध की तैयारी और संचालन, गठबन्धनों की नीति और अन्य बातों पर राष्ट्रीय हितों की सर्वोपरिता की चर्चा की गई है।
यह निश्चित रूप से वही क्षेत्र हैं, जिनमें अपेक्षाकृत नवस्वतंत्र गणतंत्र भारत लगता है कि राह से भटका हुआ है। किन्तु यदि दो हज़ार साल पहले चाणक्य जैसा कोई व्यक्ति, इन्हीं परिस्थितियों में परिवर्तन ला सकता था और प्रशासन का एक नूतन दृष्टिकोण रच सकता था, तो कोई कारण नहीं कि हम भी यह न कर सकें और इस पुस्तक का प्रतिपाद्य भी यही है। क्षुद्र अहंमन्यता, बौद्धिक विशिष्टता या पक्षधर संकीर्णता से परे इसका उद्देश्य केवल यह है कि ‘परिवर्तन’ के लिए राष्ट्रव्यापी रूप से तत्काल और गहन बहस की शुरुआत हो सके। Lagbhag 2500 varsh pahle, iisa purv chauthi sadi mein, jab vishv ke adhikansh bhagon ki sabhyta apni shaishvavastha mein thi, chanakya naam ke ek vidvan aur vicharak ne ‘arthshastr’ shirshak se ek granth likha, jo sansar mein rajniti par sarvadhik gahan aur saghan rachnaon mein se ek hai. ‘arthshastr’ mein lagbhag 6000 shlok aur sutr hain. Yahan vyvasthit rup se prbhavshali prshasan,
Lokkalyan, aarthik samriddhi, shasak ke gun, uske mantriyon ki yogyta, adhikariyon ke kartavyon, prshasnik kshamta, nagrik dayitv, qanun ke shasan ka mahattv, prbhavi nyay vyvastha, bhrashtachar par ankush lagane ke tariqe, dandniti athva apradhiyon ko dandit karne ki niti, videshniti ke sanchalan, yuddh ki taiyari aur sanchalan, gathbandhnon ki niti aur anya baton par rashtriy hiton ki sarvoparita ki charcha ki gai hai.
Ye nishchit rup se vahi kshetr hain, jinmen apekshakrit navasvtantr gantantr bharat lagta hai ki raah se bhatka hua hai. Kintu yadi do hazar saal pahle chanakya jaisa koi vyakti, inhin paristhitiyon mein parivartan la sakta tha aur prshasan ka ek nutan drishtikon rach sakta tha, to koi karan nahin ki hum bhi ye na kar saken aur is pustak ka pratipadya bhi yahi hai. Kshudr ahanmanyta, bauddhik vishishtta ya pakshdhar sankirnta se pare iska uddeshya keval ye hai ki ‘parivartan’ ke liye rashtravyapi rup se tatkal aur gahan bahas ki shuruat ho sake.