BackBack
-11%

Bhavan : Sahitya Aur Anya Kalaon Ka Anushilan

Rs. 1,500 Rs. 1,335

मुकुन्द लाठ भारत के उन बहुत थोड़े लेखकों में से एक हैं जिनके यहाँ साहित्य और कलाओं को लेकर ऐसी गहरी और सूक्ष्म दृष्टि है जो प्राचीन साहित्य और शास्त्र, दर्शन और चिन्तन, संगीत और नाट्य, कविता, परम्परा और आधुनिकता आदि सबको एक संग्रथित समावेश में शामिल कर रूपायित होती... Read More

Description

मुकुन्द लाठ भारत के उन बहुत थोड़े लेखकों में से एक हैं जिनके यहाँ साहित्य और कलाओं को लेकर ऐसी गहरी और सूक्ष्म दृष्टि है जो प्राचीन साहित्य और शास्त्र, दर्शन और चिन्तन, संगीत और नाट्य, कविता, परम्परा और आधुनिकता आदि सबको एक संग्रथित समावेश में शामिल कर रूपायित होती रही है। वह परम्परा से जैसे कि आधुनिकता से भी अनाक्रान्त रहकर एक प्रश्नवाचक दूरी रखती है। साहित्य और कलाओं के स्वरूप पर ऐसा मौलिक चिन्तन, कुछ कृतियों की सूक्ष्म समीक्षा, हिन्दी में बहुत कम देखने को मिलता है। हिन्दी में पहले ऐसे लोग थे, जैसे कि वासुदेवशरण अग्रवाल, मोतीचन्द्र, हजारीप्रसाद द्विवेदी आदि, जो ऐसी समावेशी और आधुनिकता के लिए भेदक दृष्टि रखते थे। मुकुन्द लाठ उस परम्परा में ही दशकों से सक्रिय रहे हैं और उनकी यह संचयिता हम बहुत उत्साह और उम्मीद के साथ प्रस्तुत कर रहे हैं कि अपने समय, समाज, साहित्य और कलाओं को समझने की यह दृष्टि हिन्दी के विचार-जगत में हस्तक्षेप की तरह पहचानी-गुनी जाएगी। यह निश्चय ही हिन्दी की विचार-सम्पदा का अपेक्षाकृत अब तक का जाना विस्तार है।
—अशोक वाजपेयी Mukund lath bharat ke un bahut thode lekhkon mein se ek hain jinke yahan sahitya aur kalaon ko lekar aisi gahri aur sukshm drishti hai jo prachin sahitya aur shastr, darshan aur chintan, sangit aur natya, kavita, parampra aur aadhunikta aadi sabko ek sangrthit samavesh mein shamil kar rupayit hoti rahi hai. Vah parampra se jaise ki aadhunikta se bhi anakrant rahkar ek prashnvachak duri rakhti hai. Sahitya aur kalaon ke svrup par aisa maulik chintan, kuchh kritiyon ki sukshm samiksha, hindi mein bahut kam dekhne ko milta hai. Hindi mein pahle aise log the, jaise ki vasudevashran agrval, motichandr, hajariprsad dvivedi aadi, jo aisi samaveshi aur aadhunikta ke liye bhedak drishti rakhte the. Mukund lath us parampra mein hi dashkon se sakriy rahe hain aur unki ye sanchayita hum bahut utsah aur ummid ke saath prastut kar rahe hain ki apne samay, samaj, sahitya aur kalaon ko samajhne ki ye drishti hindi ke vichar-jagat mein hastakshep ki tarah pahchani-guni jayegi. Ye nishchay hi hindi ki vichar-sampda ka apekshakrit ab tak ka jana vistar hai. —ashok vajpeyi