BackBack
-11%

Bharat Ek Bazar Hai

Rs. 150 Rs. 134

विष्णु नागर का व्यंग्य अपने समय के अन्य व्यंग्यकारों से इस मायने में अलग है कि वे अपनी बात की नोक को तीखा करने के लिए उस लाघव का सहारा नहीं लेते जिसके कारण व्यंग्य-रचना कई बार अनेकानेक पाठकों के लिए अबूझ और कभी-कभी आहतकारी भी हो जाती है। वे... Read More

BlackBlack
Description

विष्णु नागर का व्यंग्य अपने समय के अन्य व्यंग्यकारों से इस मायने में अलग है कि वे अपनी बात की नोक को तीखा करने के लिए उस लाघव का सहारा नहीं लेते जिसके कारण व्यंग्य-रचना कई बार अनेकानेक पाठकों के लिए अबूझ और कभी-कभी आहतकारी भी हो जाती है। वे अपने सामने उपस्थित स्थिति-परिस्थिति की व्यंग्यात्मकता और विडम्बना को हर सम्भव कोण से खोलकर पाठक के सामने रख देते हैं; और कोशिश करते हैं कि प्रदत्त समस्या में मौजूद व्यंग्य के हर स्तर को रेखांकित करें।
‘भारत एक बाज़ार है’ शीर्षक प्रस्तुत संग्रह भी उनके व्यंग्य-शिल्प की इस मूल प्रतिज्ञा को आगे लेकर जाता है कि व्यंग्य का उद्देश्य कोरी गुदगुदी या हास्य उत्पन्न करना नहीं, बल्कि पाठक के मन में अपनी और अपने समाज की जीवन-स्थितियों के विरेचनकारी साक्षात्कार के द्वारा मोहभंग और परिवर्तन की भूमिका बनाना है।
इस पुस्तक में संकलित व्यंग्य रचनाओं का दायरा राजनीति, समाज, धर्म, प्रशासन, मध्यवर्गीय आकांक्षाओं की विकृतियों से लेकर बाज़ारीकरण, देश की अर्थव्यवस्था और शेयर बाज़ार तक फैला हुआ है। ये व्यंग्य-निबन्ध हमें अपने समकालीन सामाजिक, राजनीतिक और आर्थिक व्यवस्था के उन सभी करुण पक्षों से रू-ब-रू कराते हैं, जिनका अपरिवर्तनीयता से जूझने का माध्यम अभी हमारे पास सिर्फ़ व्यंग्य है।
उम्मीद है, विष्णु नागर की यह पुस्तक पाठकों की अपनी जद्दोजहद में सहायता की भूमिका निबाहेगी। Vishnu nagar ka vyangya apne samay ke anya vyangykaron se is mayne mein alag hai ki ve apni baat ki nok ko tikha karne ke liye us laghav ka sahara nahin lete jiske karan vyangya-rachna kai baar anekanek pathkon ke liye abujh aur kabhi-kabhi aahatkari bhi ho jati hai. Ve apne samne upasthit sthiti-paristhiti ki vyangyatmakta aur vidambna ko har sambhav kon se kholkar pathak ke samne rakh dete hain; aur koshish karte hain ki prdatt samasya mein maujud vyangya ke har star ko rekhankit karen. ‘bharat ek bazar hai’ shirshak prastut sangrah bhi unke vyangya-shilp ki is mul prtigya ko aage lekar jata hai ki vyangya ka uddeshya kori gudagudi ya hasya utpann karna nahin, balki pathak ke man mein apni aur apne samaj ki jivan-sthitiyon ke virechankari sakshatkar ke dvara mohbhang aur parivartan ki bhumika banana hai.
Is pustak mein sanklit vyangya rachnaon ka dayra rajniti, samaj, dharm, prshasan, madhyvargiy aakankshaon ki vikritiyon se lekar bazarikran, desh ki arthavyvastha aur sheyar bazar tak phaila hua hai. Ye vyangya-nibandh hamein apne samkalin samajik, rajnitik aur aarthik vyvastha ke un sabhi karun pakshon se ru-ba-ru karate hain, jinka aparivartniyta se jujhne ka madhyam abhi hamare paas sirf vyangya hai.
Ummid hai, vishnu nagar ki ye pustak pathkon ki apni jaddojhad mein sahayta ki bhumika nibahegi.