BackBack

Bhagya Rekha

Rs. 125

भाग्य-रेखा' भीष्म साहनी का पहला कहानी-संग्रह है, जिसके साथ उन्होंने साहित्य के क्षेत्र में क़दम रखा था। वर्ष 1953 में प्रकाशित इस संग्रह ने उन्हें साहित्य-संसार में अपनी एक पहचान दी; जिसके माध्यम से हिन्दी समाज ने कथा में सहज प्रवाह की शक्ति को महसूस किया। भीष्म जी की कहानियों... Read More

BlackBlack
Description

भाग्य-रेखा' भीष्म साहनी का पहला कहानी-संग्रह है, जिसके साथ उन्होंने साहित्य के क्षेत्र में क़दम रखा था। वर्ष 1953 में प्रकाशित इस संग्रह ने उन्हें साहित्य-संसार में अपनी एक पहचान दी; जिसके माध्यम से हिन्दी समाज ने कथा में सहज प्रवाह की शक्ति को महसूस किया।
भीष्म जी की कहानियों का ‘मैं’ भी कभी लेखक के प्रतिनिधि होने का आभास नहीं देता, पात्रों और उनके यथार्थ के साथ उनकी इस एकात्मता को, जो शायद बहुत गहरी तटस्थता से ही सधती होगी, बहुत कम लेखकों में चिह्नित किया जा सकता है। इस संग्रह में कई ऐसी कहानियाँ हैं जो भीष्म जी के गहरे मानवीय बोध को चिह्नित करती हैं और कुछ ऐसी हैं जो समकालीन समाज की अमानवीयता के प्रति घृणा का भाव भी पाठक के मन में जगाती हैं। उदाहरण के लिए 'क्रिकेट मैच' जिसमें पति-पत्नी सम्बन्धों के बीच आया दुराव इतने कौशल के साथ उभारा गया है कि बहुत कुछ न कहते हुए भी कहानी हमें घर-परिवार को बचाए-बनाए रखनेवाली स्त्री-भूमिका के प्रति आलोचनात्मक हो जाने को प्रेरित करती है। 'नीली आँखें' हाशिये पर रहनेवाले तबके के प्यार और शहरी पृष्ठभूमि में उसके प्रति असहिष्णु मध्यवर्गीय नज़रिए को बेहद कारुणिक रूप में व्यक्त करती है।
कहने की आवश्यकता नहीं कि भीष्म साहनी को चाहनेवाले पाठक इस संग्रह को अमूल्य पाएँगे । Bhagya-rekha bhishm sahni ka pahla kahani-sangrah hai, jiske saath unhonne sahitya ke kshetr mein qadam rakha tha. Varsh 1953 mein prkashit is sangrah ne unhen sahitya-sansar mein apni ek pahchan di; jiske madhyam se hindi samaj ne katha mein sahaj prvah ki shakti ko mahsus kiya. Bhishm ji ki kahaniyon ka ‘main’ bhi kabhi lekhak ke pratinidhi hone ka aabhas nahin deta, patron aur unke yatharth ke saath unki is ekatmta ko, jo shayad bahut gahri tatasthta se hi sadhti hogi, bahut kam lekhkon mein chihnit kiya ja sakta hai. Is sangrah mein kai aisi kahaniyan hain jo bhishm ji ke gahre manviy bodh ko chihnit karti hain aur kuchh aisi hain jo samkalin samaj ki amanviyta ke prati ghrina ka bhav bhi pathak ke man mein jagati hain. Udahran ke liye kriket maich jismen pati-patni sambandhon ke bich aaya durav itne kaushal ke saath ubhara gaya hai ki bahut kuchh na kahte hue bhi kahani hamein ghar-parivar ko bachaye-banaye rakhnevali stri-bhumika ke prati aalochnatmak ho jane ko prerit karti hai. Nili aankhen hashiye par rahnevale tabke ke pyar aur shahri prishthbhumi mein uske prati ashishnu madhyvargiy nazariye ko behad karunik rup mein vyakt karti hai.
Kahne ki aavashyakta nahin ki bhishm sahni ko chahnevale pathak is sangrah ko amulya payenge.