BackBack
-11%

Bepanah Shaadmaani Ki Mumlikat - Urdu

Rs. 450 Rs. 401

अपार ख़ुशी का घराना’ हमें कई वर्षों की यात्रा पर ले जाता है। यह एक ऐसी कहानी है जो वर्षों पुरानी दिल्ली की तंग बस्तियों से खुलती हुई फलते-फूलते नए महानगर और उससे दूर कश्मीर की वादियों और मध्य भारत के जंगलों तक जा पहुँचती है, जहाँ युद्ध ही शान्ति... Read More

Description

अपार ख़ुशी का घराना’ हमें कई वर्षों की यात्रा पर ले जाता है। यह एक ऐसी कहानी है जो वर्षों पुरानी दिल्ली की तंग बस्तियों से खुलती हुई फलते-फूलते नए महानगर और उससे दूर कश्मीर की वादियों और मध्य भारत के जंगलों तक जा पहुँचती है, जहाँ युद्ध ही शान्ति है और शान्ति ही युद्ध है, और जहाँ बीच-बीच में हालात सामान्य होने का एलान होता रहता है।
अंजुम, जो पहले आफ़ताब थी, शहर के एक क़ब्रिस्तान में अपनी तार-तार कालीन बिछाती है और उसे अपना घर कहती है। एक आधी रात को फुटपाथ पर कूड़े के हिंडोले में अचानक एक बच्ची प्रकट होती है। रहस्यमय-सी। तिलोत्तमा उससे प्रेम करनेवाले तीन पुरुषों के जीवन में जितनी उपस्थित है, उतनी ही अनुपस्थित रहती है।
‘अपार ख़ुशी का घराना’ एक साथ दुखती हुई प्रेम-कथा और असंदिग्ध प्रतिरोध की अभिव्यक्ति है। उसे फुसफुसाहटों में, चीख़ों में, आँसुओं के ज़रिये और कभी-कभी हँसी-मज़ाक़ के साथ कहा गया है। उसके नायक वे लोग हैं जिन्हें उस दुनिया ने तोड़ डाला है जिसमें वे रहते हैं और फिर प्रेम और उम्मीद के बल पर बचे हुए रहते हैं। इसी वजह से वे जितने इस्पाती हैं उतने ही भंगुर भी, और वे कभी आत्म-समर्पण नहीं करते। यह सम्मोहक, शानदार किताब नए अन्‍दाज़ में फिर से बताती है कि एक उपन्यास क्या कर सकता है और क्या हो सकता है। अरुंधति रॉय की कहानी-कला का करिश्मा इसके हर पन्ने में दर्ज है। Apar khushi ka gharana’ hamein kai varshon ki yatra par le jata hai. Ye ek aisi kahani hai jo varshon purani dilli ki tang bastiyon se khulti hui phalte-phulte ne mahangar aur usse dur kashmir ki vadiyon aur madhya bharat ke janglon tak ja pahunchati hai, jahan yuddh hi shanti hai aur shanti hi yuddh hai, aur jahan bich-bich mein halat samanya hone ka elan hota rahta hai. Anjum, jo pahle aaftab thi, shahar ke ek qabristan mein apni tar-tar kalin bichhati hai aur use apna ghar kahti hai. Ek aadhi raat ko phutpath par kude ke hindole mein achanak ek bachchi prkat hoti hai. Rahasymay-si. Tilottma usse prem karnevale tin purushon ke jivan mein jitni upasthit hai, utni hi anupasthit rahti hai.
‘apar khushi ka gharana’ ek saath dukhti hui prem-katha aur asandigdh pratirodh ki abhivyakti hai. Use phusaphusahton mein, chikhon mein, aansuon ke zariye aur kabhi-kabhi hansi-mazaq ke saath kaha gaya hai. Uske nayak ve log hain jinhen us duniya ne tod dala hai jismen ve rahte hain aur phir prem aur ummid ke bal par bache hue rahte hain. Isi vajah se ve jitne ispati hain utne hi bhangur bhi, aur ve kabhi aatm-samarpan nahin karte. Ye sammohak, shandar kitab ne an‍daz mein phir se batati hai ki ek upanyas kya kar sakta hai aur kya ho sakta hai. Arundhati rauy ki kahani-kala ka karishma iske har panne mein darj hai.