BackBack
-11%

Awara Bheed Ke Khatare

Harishankar Parsai

Rs. 495 Rs. 441

Rajkamal Prakashan

‘आवार भीड़ के खतरे’ पुस्तक हिन्दी के अन्यतम व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई के निधन के बाद उनके असंकलित और कुछेक अप्रकाशित व्यंग्य-निबन्धों का एकमात्र संकलन है। अपनी कलम से जीवन ही जीवन छलकानेवाले इस लेखक की मृत्यु खुद में एक महत्त्वहीन-सी घटना बन गई लगती है। शायद ही हिन्दी साहित्य की... Read More

BlackBlack
Description

‘आवार भीड़ के खतरे’ पुस्तक हिन्दी के अन्यतम व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई के निधन के बाद उनके असंकलित और कुछेक अप्रकाशित व्यंग्य-निबन्धों का एकमात्र संकलन है। अपनी कलम से जीवन ही जीवन छलकानेवाले इस लेखक की मृत्यु खुद में एक महत्त्वहीन-सी घटना बन गई लगती है। शायद ही हिन्दी साहित्य की किसी अन्य हस्ती ने साहित्य और समाज में जड़ जमाने की कोशिश करती मरणोन्मुखता पर इतनी सतत, इतनी करारी चोट की हो !
इस संग्रह के व्यंग्य-निबन्धों के रचनाकाल का और उनकी विषय-वस्तु का भी दायरा काफी लम्बा-चौड़ा है। राजनीतिक विषयों पर केन्द्रित निबन्ध कभी-कभी तत्कालीन घटनाक्रम को ध्यान में रखते हुए अपने पाठ की माँग करते हैं लेकिन यदि ऐसा कर पाना संभव न हो तो भी परसाई की मर्मभेदी दृष्टि, उनका वॉल्तेयरीय चुटीलापन इन्हें पढ़ा ले जाने का खुद में ही पर्याप्त कारण है। वैसे राजनीतिक व्यंग्य इस संकलन में अपेक्षाकृत कम हैं–सामाजिक और साहित्यिक प्रश्नों पर केन्द्रीकरण ज्यादा है।
हँसने और संजीदा होने की परसाई की यह आखिरी महफिल उनकी बाकी सारी महफिलों की तरह ही आपके लिए यादगार रहेगी। ‘avar bhid ke khatre’ pustak hindi ke anytam vyangykar harishankar parsai ke nidhan ke baad unke asanklit aur kuchhek aprkashit vyangya-nibandhon ka ekmatr sanklan hai. Apni kalam se jivan hi jivan chhalkanevale is lekhak ki mrityu khud mein ek mahattvhin-si ghatna ban gai lagti hai. Shayad hi hindi sahitya ki kisi anya hasti ne sahitya aur samaj mein jad jamane ki koshish karti marnonmukhta par itni satat, itni karari chot ki ho !Is sangrah ke vyangya-nibandhon ke rachnakal ka aur unki vishay-vastu ka bhi dayra kaphi lamba-chauda hai. Rajnitik vishyon par kendrit nibandh kabhi-kabhi tatkalin ghatnakram ko dhyan mein rakhte hue apne path ki mang karte hain lekin yadi aisa kar pana sambhav na ho to bhi parsai ki marmbhedi drishti, unka vaulteyriy chutilapan inhen padha le jane ka khud mein hi paryapt karan hai. Vaise rajnitik vyangya is sanklan mein apekshakrit kam hain–samajik aur sahityik prashnon par kendrikran jyada hai.
Hansane aur sanjida hone ki parsai ki ye aakhiri mahphil unki baki sari mahaphilon ki tarah hi aapke liye yadgar rahegi.