BackBack

Anuvad Mimansa

Rs. 99

साधारणत: और इधर ज़्यादातर लोग किसी पाठ को एक भाषा से दूसरी भाषा में उल्था करने को ही अनुवाद मान लेते हैं। हिन्दी में यह प्रवृत्ति और भी ज़्यादा देखने में आती है। बहुत कम ऐसे अनुवादक हैं जो अनुवाद को अगर रचना-कर्म नहीं तो कम से कम एक कौशल... Read More

Description

साधारणत: और इधर ज़्यादातर लोग किसी पाठ को एक भाषा से दूसरी भाषा में उल्था करने को ही अनुवाद मान लेते हैं। हिन्दी में यह प्रवृत्ति और भी ज़्यादा देखने में आती है। बहुत कम ऐसे अनुवादक हैं जो अनुवाद को अगर रचना-कर्म नहीं तो कम से कम एक कौशल का भी दर्जा देते हों।
वरिष्ठ हिन्दी आलोचक निर्मला जैन की यह पुस्तक अनुवाद के रचनात्मक, कलात्मक और प्रविधिगत पहलुओं को विश्लेषित करते हुए उसकी महत्ता और गम्भीरता को बताती है। अनुवाद दरअसल क्या है, गद्य और पद्य के अनुवाद में क्या फ़र्क़ है; मानविकी और साहित्यिक विषयों का अनुवाद अन्य विषयों के सूचनापरक अनुवाद से किस तरह अलग होता है, उसमें अनुवादक को क्या सावधानी बरतनी होती है; एक संस्कृति से दूसरी संस्कृति में पाठ के भावान्तरण में क्या दिक्‍़क़तें आती हैं, लोकभाषा और बोलियों के किसी मानक भाषा में अनुवाद की चुनौतियाँ क्या हैं, और अनुवाद किस तरह सिर्फ़ पाठ के भाषान्तरण का नहीं, बल्कि भाषा की समृद्धि का भी साधन हो जाता है—इन सब बिन्दुओं पर विचार करते हुए यह पुस्तक अनुवाद के इच्छुक अध्येताओं के लिए एक विस्तृत समझ प्रदान करती है।
निर्मला जी की समर्थ भाषा और व्यापक अध्ययन से यह विवेचन और भी बोधक और ग्राह्य हो जाता है। उदाहरणों और उद्धरणों के माध्यम से उन्होंने अपने मन्तव्य को स्पष्ट किया है, जिससे यह पुस्तक अनुवाद का कौशल विकसित करने में सहायक निर्देशिका के साथ-साथ अनुवाद-कर्म को लेकर एक विमर्श के स्तर पर पहुँच जाती है। Sadharnat: aur idhar jyadatar log kisi path ko ek bhasha se dusri bhasha mein ultha karne ko hi anuvad maan lete hain. Hindi mein ye prvritti aur bhi jyada dekhne mein aati hai. Bahut kam aise anuvadak hain jo anuvad ko agar rachna-karm nahin to kam se kam ek kaushal ka bhi darja dete hon. Varishth hindi aalochak nirmla jain ki ye pustak anuvad ke rachnatmak, kalatmak aur pravidhigat pahaluon ko vishleshit karte hue uski mahatta aur gambhirta ko batati hai. Anuvad darasal kya hai, gadya aur padya ke anuvad mein kya farq hai; manaviki aur sahityik vishyon ka anuvad anya vishyon ke suchnaprak anuvad se kis tarah alag hota hai, usmen anuvadak ko kya savdhani baratni hoti hai; ek sanskriti se dusri sanskriti mein path ke bhavantran mein kya dik‍qaten aati hain, lokbhasha aur boliyon ke kisi manak bhasha mein anuvad ki chunautiyan kya hain, aur anuvad kis tarah sirf path ke bhashantran ka nahin, balki bhasha ki samriddhi ka bhi sadhan ho jata hai—in sab binduon par vichar karte hue ye pustak anuvad ke ichchhuk adhyetaon ke liye ek vistrit samajh prdan karti hai.
Nirmla ji ki samarth bhasha aur vyapak adhyyan se ye vivechan aur bhi bodhak aur grahya ho jata hai. Udaharnon aur uddharnon ke madhyam se unhonne apne mantavya ko spasht kiya hai, jisse ye pustak anuvad ka kaushal viksit karne mein sahayak nirdeshika ke sath-sath anuvad-karm ko lekar ek vimarsh ke star par pahunch jati hai.