BackBack
-11%

Ant Ka Ujala

Rs. 200 Rs. 178

यह वाक्य प्रायः सुनने को मिलता है कि हिन्‍दी में मौलिक नाट्यालेखों का अभाव है। इस अभाव को कृष्ण बलदेव वैद सरीखे वरिष्ठ एवं प्रतिष्ठित रचनाकार काफ़ी हद तक दूर करते हैं। ‘भूख आग है’, ‘हमारी बुढ़‍िया’, ‘सवाल और स्वप्न’ एवं ‘परिवार अखाड़ा’ जैसे उनके उल्लेखनीय नाटकों ने हिन्‍दी रंगकर्म... Read More

BlackBlack
Description

यह वाक्य प्रायः सुनने को मिलता है कि हिन्‍दी में मौलिक नाट्यालेखों का अभाव है। इस अभाव को कृष्ण बलदेव वैद सरीखे वरिष्ठ एवं प्रतिष्ठित रचनाकार काफ़ी हद तक दूर करते हैं। ‘भूख आग है’, ‘हमारी बुढ़‍िया’, ‘सवाल और स्वप्न’ एवं ‘परिवार अखाड़ा’ जैसे उनके उल्लेखनीय नाटकों ने हिन्‍दी रंगकर्म को पर्याप्त समृद्ध किया। इसी क्रम में कृष्ण बलदेव वैद का नया नाटक ‘अन्‍त का उजाला’ कुछ नए रचनात्मक प्रयोगों के साथ उपस्थित है। यह विदित है कि वैद भाषा में निहित अर्थों व ध्वनियों के साथ मानीख़ेज़ खिलवाड़ करते हैं। कथ्य और शिल्प में नए प्रयोग करते हुए वे किसी बड़े जीवन सत्य को रेखांकित करते हैं। ‘अन्‍त का उजाला’ जीवन की वृद्धावस्था में ठहरे पति-पत्नी की मनोदशा को एक 'अनौपचारिक भाषिक उपक्रम' में व्यक्त करता है। सावधानी से पढ़ें, अनुभव करें तो पूरा नाटक प्रतीकों से भरा है। लेखक एक स्थान पर कहता है, ‘एक आदर्श प्रतीक की तरह उसे याद भर किया है। खाने और पीने को भी एक प्रतीक ही समझो।’ नाटक बड़े सलीके से जीवनान्त के उजाले को संवादों में शामिल करता है। दो पात्रों के सुदीर्घ साहचर्य से उत्पन्न जीवन रस पाठकों को अभिभूत करता है। प्रयोगात्मकता और प्रतीकधर्मिता के कारण ‘अन्‍त का उजाला’ नाटक महत्त्पूर्ण हो उठता है। Ye vakya prayः sunne ko milta hai ki hin‍di mein maulik natyalekhon ka abhav hai. Is abhav ko krishn baldev vaid sarikhe varishth evan prtishthit rachnakar kafi had tak dur karte hain. ‘bhukh aag hai’, ‘hamari budh‍iya’, ‘saval aur svapn’ evan ‘parivar akhada’ jaise unke ullekhniy natkon ne hin‍di rangkarm ko paryapt samriddh kiya. Isi kram mein krishn baldev vaid ka naya natak ‘an‍ta ka ujala’ kuchh ne rachnatmak pryogon ke saath upasthit hai. Ye vidit hai ki vaid bhasha mein nihit arthon va dhvaniyon ke saath manikhez khilvad karte hain. Kathya aur shilp mein ne pryog karte hue ve kisi bade jivan satya ko rekhankit karte hain. ‘an‍ta ka ujala’ jivan ki vriddhavastha mein thahre pati-patni ki manodsha ko ek anaupcharik bhashik upakram mein vyakt karta hai. Savdhani se padhen, anubhav karen to pura natak prtikon se bhara hai. Lekhak ek sthan par kahta hai, ‘ek aadarsh prtik ki tarah use yaad bhar kiya hai. Khane aur pine ko bhi ek prtik hi samjho. ’ natak bade salike se jivnant ke ujale ko sanvadon mein shamil karta hai. Do patron ke sudirgh sahcharya se utpann jivan ras pathkon ko abhibhut karta hai. Pryogatmakta aur prtikdharmita ke karan ‘an‍ta ka ujala’ natak mahattpurn ho uthta hai.