BackBack

Ajnabi Jazeera

Rs. 125

हिन्दी की वरिष्ठ कथाकार नासिरा शर्मा के लेखन की सर्वोपरि विशेषता है सभ्यता, संस्कृति और मानवीय नियति के आत्मबल व अन्तःसंघर्ष का संवेदना-सम्पन्न चित्रण। उनके कथा साहित्य के सरोकार ग्लोबल हैं। उनका कथाकार सन्तप्त और उत्पीड़ित मनुष्यता के पक्ष में पूरी शक्ति के साथ निरन्तर सक्रिय रहा है। ‘अजनबी जज़ीरा’... Read More

Description

हिन्दी की वरिष्ठ कथाकार नासिरा शर्मा के लेखन की सर्वोपरि विशेषता है सभ्यता, संस्कृति और मानवीय नियति के आत्मबल व अन्तःसंघर्ष का संवेदना-सम्पन्न चित्रण। उनके कथा साहित्य के सरोकार ग्लोबल हैं। उनका कथाकार सन्तप्त और उत्पीड़ित मनुष्यता के पक्ष में पूरी शक्ति के साथ निरन्तर सक्रिय रहा है। ‘अजनबी जज़ीरा’ नासिरा शर्मा का नया उपन्यास है।
‘अजनबी जज़ीरा’ में समीरा और उसकी पाँच बेटियों के माध्यम से इराक़ की बदहाली बयान की गई है। ग़ौरतलब है कि दुनिया में जहाँ कहीं ऐसी दारुण स्थितियाँ हैं, यह उपन्यास वहाँ का एक अक्स बन जाता है। छोटी-से-छोटी चीज़ को तरसते और उसके लिए विरासतों-धरोहरों-यादगारों को बाज़ार में बेचने को मजबूर होते लोग; ज़िन्दगी बचाने के लिए सबकुछ दाँव पर लगाती औरतें और विदेशी आक्रमणकारियों की प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष निगरानी में साँस लेते नागरिक—ऐसी अनेक स्थितियों-मनःस्थितियों को नासिरा शर्मा ने इस उपन्यास के पृष्ठों पर साकार कर दिया है।
पतिविहीना समीरा अपनी युवा होती बेटियों के वर्तमान और भविष्य को लेकर फ़‍िक्रमन्द है। बारूद, विध्वंस और विनाश के बीच समीरा ज़िन्दगी की रोशनी व ख़ुशबू बचाने के लिए जूझ रही है। उपन्यास समीरा को चाहनेवाले अंग्रेज़ फ़ौजी मार्क के पक्ष से क्षत-विक्षत इराक़ की एक मार्मिक व्याख्या प्रस्तुत करता है। समीरा और मार्क की प्रेमकहानी अद्भुत है, जिसमें ज़‍िम्मेदारियों के हस्सास रंग शिद्दत से शामिल हैं। घृणा और प्रेम का सघन अन्तर्द्वन्द्व इसे अपूर्व बनाता है। लेखिका यह भी रेखांकित करती है कि ऐसे परिदृश्य में स्त्री-विमर्श के सारे निहितार्थ सिरे से बदल जाते हैं।
सभ्य कहे जानेवाले आधुनिक विश्व में विध्वंस का यह यथार्थ स्तब्ध कर देता है। विध्वंस की इस राजनीति में क्या-क्या नष्ट होता है, इसे नासिरा शर्मा की बेजोड़ रचनात्मक सामर्थ्य ने ‘अजनबी जज़ीरा’ में अभिव्यक्त किया है।
ज़रूरी वैश्विक प्रश्नों के प्रति जागरूक और संवेदनशील बनाता एक अद्भुत उपन्यास। Hindi ki varishth kathakar nasira sharma ke lekhan ki sarvopari visheshta hai sabhyta, sanskriti aur manviy niyati ke aatmbal va antःsangharsh ka sanvedna-sampann chitran. Unke katha sahitya ke sarokar global hain. Unka kathakar santapt aur utpidit manushyta ke paksh mein puri shakti ke saath nirantar sakriy raha hai. ‘ajanbi jazira’ nasira sharma ka naya upanyas hai. ‘ajanbi jazira’ mein samira aur uski panch betiyon ke madhyam se iraq ki badhali bayan ki gai hai. Gauratlab hai ki duniya mein jahan kahin aisi darun sthitiyan hain, ye upanyas vahan ka ek aks ban jata hai. Chhoti-se-chhoti chiz ko taraste aur uske liye viraston-dharohron-yadgaron ko bazar mein bechne ko majbur hote log; zindagi bachane ke liye sabkuchh danv par lagati aurten aur videshi aakramankariyon ki pratyaksh-apratyaksh nigrani mein sans lete nagrik—aisi anek sthitiyon-manःsthitiyon ko nasira sharma ne is upanyas ke prishthon par sakar kar diya hai.
Pativihina samira apni yuva hoti betiyon ke vartman aur bhavishya ko lekar fa‍ikramand hai. Barud, vidhvans aur vinash ke bich samira zindagi ki roshni va khushbu bachane ke liye jujh rahi hai. Upanyas samira ko chahnevale angrez fauji mark ke paksh se kshat-vikshat iraq ki ek marmik vyakhya prastut karta hai. Samira aur mark ki premakhani adbhut hai, jismen za‍immedariyon ke hassas rang shiddat se shamil hain. Ghrina aur prem ka saghan antardvandv ise apurv banata hai. Lekhika ye bhi rekhankit karti hai ki aise paridrishya mein stri-vimarsh ke sare nihitarth sire se badal jate hain.
Sabhya kahe janevale aadhunik vishv mein vidhvans ka ye yatharth stabdh kar deta hai. Vidhvans ki is rajniti mein kya-kya nasht hota hai, ise nasira sharma ki bejod rachnatmak samarthya ne ‘ajanbi jazira’ mein abhivyakt kiya hai.
Zaruri vaishvik prashnon ke prati jagruk aur sanvedanshil banata ek adbhut upanyas.