BackBack
-11%

Agnileek

Rs. 250 Rs. 223

अग्निलीक’ उपन्यास आज़ादी के उत्तरार्द्ध की वह कथा है जिसके रक्त में आज़ादी के पूर्वार्द्ध यानी अठारह सौ सत्तावन के विद्रोह के गर्व की गरमाहट तो है, लेकिन अँग्रेज़ों के ख़‍िलाफ़ कभी जो हिदू-मुसलमान एक साथ लड़े थे, आज उसी ज़मीन पर बदली हुई राजनीति का खेल ऐसा कि उनके... Read More

BlackBlack
Description

अग्निलीक’ उपन्यास आज़ादी के उत्तरार्द्ध की वह कथा है जिसके रक्त में आज़ादी के पूर्वार्द्ध यानी अठारह सौ सत्तावन के विद्रोह के गर्व की गरमाहट तो है, लेकिन अँग्रेज़ों के ख़‍िलाफ़ कभी जो हिदू-मुसलमान एक साथ लड़े थे, आज उसी ज़मीन पर बदली हुई राजनीति का खेल ऐसा कि उनके मंतव्य भी बदल गए है और मंसूबे भी। यह हिन्दी का सम्भवत: पहला उपन्यास है जिसमें हिन्‍दू-मुसलमान अपनी जातीय और वर्गीय ताक़त के साथ उपस्थित हैं। और यही कारण कि कथा शमशेर साँई के क़त्ल से शुरू होती है, उसकी गुत्थी मुखिया लीलाधर यादव और सरपंच अकरम अंसारी के बीच अन्तत: रहस्यमय बनी रहती है। क़ानून भी ताक़त के साथ ही खड़ा। असल में टूटते-छूटते सामन्तवाद के युग में अपने वर्चस्व को बनाए रखने की राजनीति क्या हो सकती है, इसे भावी मुखिया लीलाधर यादव की पोती रेवती के ज़रिए जिस रणनीति को लेखक ने गहराई से साधा है, उससे न सिर्फ़ बिहार को बल्कि भारतीय राजनीति में गहरी ज़ड़े जमा चुके वंशवाद को भी देखा-समझा जा सकता है। साथ ही यह भी कि इसको मज़बूत बनाने में रेशमा कलवारिन के रूप में उभरती हुई स्त्री-शक्ति का भी इस्तेमाल कितनी चालाकी से किया जा सकता है।
‘अग्निलीक’ अपने काल के घटना-क्रम में जीवन के कई मोड़ों से गुज़री रेशमा कलवारिन के साथ-साथ कई अन्य स्त्री-चरित्रों की अविस्मरणीय कथा बाँचता उपन्यास है। वह चाहे कभी प्रेम में रँगी यशोदा हो या उनकी पोती रेवती जिसके प्रेमी की उसका भाई ही अछूत होने के कारण हत्या कर देता है। सरपंच अकरम अंसारी के साथ बिन ब्याहे रहनेवाली उसी की फूफेरी बहन मुन्‍नी बी हो या शमशेर साँई को बेवा गुलबानो; सब अलग होते हुए भी उपन्यास को मुख्य कथा से अभिन्न रूप में जुड़े हुए हैं। यह उपन्यास महात्मा गाँधी के सपनों के गाँवों का उपन्यास नहीं है, इसमें वे गाँव हैं जो ‘हिन्द स्वराज’ की क़ब्र पर खड़े हैं। यहाँ जो हैं कलाली के धंधे में हैं, गंजेड़ी-जुआरी भी हैं। यहाँ राजनीति में प्रतिद्वंद्वी कट्टर दुश्मन हैं। जिन्हें अपने बच्चों की शिक्षा की फिक्र है, गाँव छोड़ चुके हैं। लेकिन हाँ, यहाँ जो स्त्रियाँ हैं, वे सिर्फ भोग की वस्तु नहीं हैं, मुक्ति का साहस भी रचना जानती हैं।
अग्निलीक पुरबियों के जीवन-यथार्थ की दुर्लभ कथा है। Agnilik’ upanyas aazadi ke uttrarddh ki vah katha hai jiske rakt mein aazadi ke purvarddh yani atharah sau sattavan ke vidroh ke garv ki garmahat to hai, lekin angrezon ke kha‍ilaf kabhi jo hidu-musalman ek saath lade the, aaj usi zamin par badli hui rajniti ka khel aisa ki unke mantavya bhi badal ge hai aur mansube bhi. Ye hindi ka sambhvat: pahla upanyas hai jismen hin‍du-musalman apni jatiy aur vargiy taqat ke saath upasthit hain. Aur yahi karan ki katha shamsher sanii ke qatl se shuru hoti hai, uski gutthi mukhiya liladhar yadav aur sarpanch akram ansari ke bich antat: rahasymay bani rahti hai. Qanun bhi taqat ke saath hi khada. Asal mein tutte-chhutte samantvad ke yug mein apne varchasv ko banaye rakhne ki rajniti kya ho sakti hai, ise bhavi mukhiya liladhar yadav ki poti revti ke zariye jis ranniti ko lekhak ne gahrai se sadha hai, usse na sirf bihar ko balki bhartiy rajniti mein gahri zade jama chuke vanshvad ko bhi dekha-samjha ja sakta hai. Saath hi ye bhi ki isko mazbut banane mein reshma kalvarin ke rup mein ubharti hui stri-shakti ka bhi istemal kitni chalaki se kiya ja sakta hai. ‘agnilik’ apne kaal ke ghatna-kram mein jivan ke kai modon se guzri reshma kalvarin ke sath-sath kai anya stri-charitron ki avismarniy katha banchata upanyas hai. Vah chahe kabhi prem mein rangi yashoda ho ya unki poti revti jiske premi ki uska bhai hi achhut hone ke karan hatya kar deta hai. Sarpanch akram ansari ke saath bin byahe rahnevali usi ki phupheri bahan mun‍ni bi ho ya shamsher sanii ko beva gulbano; sab alag hote hue bhi upanyas ko mukhya katha se abhinn rup mein jude hue hain. Ye upanyas mahatma gandhi ke sapnon ke ganvon ka upanyas nahin hai, ismen ve ganv hain jo ‘hind svraj’ ki qabr par khade hain. Yahan jo hain kalali ke dhandhe mein hain, ganjedi-juari bhi hain. Yahan rajniti mein prtidvandvi kattar dushman hain. Jinhen apne bachchon ki shiksha ki phikr hai, ganv chhod chuke hain. Lekin han, yahan jo striyan hain, ve sirph bhog ki vastu nahin hain, mukti ka sahas bhi rachna janti hain.
Agnilik purabiyon ke jivan-yatharth ki durlabh katha hai.