BackBack
-11%

Aanjaney Jayte

Rs. 395 Rs. 352

‘आंजनेय जयते’ गिरिराज किशोर का सम्भवत: पहला मिथकीय उपन्यास है। इसकी कथा संकटमोचन हनुमान के जीवन-संघर्ष पर केन्द्रित है। रामकथा में हनुमान की उपस्थिति विलक्षण है। वे वनवासी हैं, वानरवंशी हैं, लेकिन वानर नहीं हैं; बल्कि अपने समय के अद्भुत विद्वान, शास्त्र-ज्ञाता, विलक्षण राजनीतिज्ञ और अतुलित बल के धनी हैं।... Read More

BlackBlack
Description

‘आंजनेय जयते’ गिरिराज किशोर का सम्भवत: पहला मिथकीय उपन्यास है। इसकी कथा संकटमोचन हनुमान के जीवन-संघर्ष पर केन्द्रित है। रामकथा में हनुमान की उपस्थिति विलक्षण है। वे वनवासी हैं, वानरवंशी हैं, लेकिन वानर नहीं हैं; बल्कि अपने समय के अद्भुत विद्वान, शास्त्र-ज्ञाता, विलक्षण राजनीतिज्ञ और अतुलित बल के धनी हैं। उन्होंने अपने समय के सभी बड़े विद्वान ऋषि-मुनियों से ज्ञान हासिल किया है। उन्हें अनेक अलौकिक शक्तियाँ हासिल हैं।
तमाम साहित्यिक-सांस्कृतिक स्रोतों के माध्यम से गिरिराज किशोर ने हनुमान को वानरवंशी आदिवासी मानव के रूप में चित्रित किया है, जो अपनी योग्यता के कारण वानर राजा बाली के मंत्री बनते हैं। बाली और सुग्रीव के बीच विग्रह के बाद नीतिगत कारणों से वे सुग्रीव की निर्वासित सरकार के मंत्री बन जाते हैं।
इसी बीच रावण द्वारा सीता के अपहरण के बाद राम उन्हें खोजते हुए हनुमान से मिलते हैं। हनुमान सीता की खोज में लंका जाते हैं। सीता से तो मिलते ही हैं, रावण की शक्ति और कमज़ोरियों से भी परिचित होते हैं। फिर राम-रावण युद्ध, सीता को वनवास, लव-कुश का जन्म और पूरे उत्तर कांड की कहानी वही है—बस, दृष्टि अलग है।
लेखक ने पूरी रामकथा में हनुमान की निष्ठा, समर्पण, मित्रता और भक्तिभाव का विलक्षण चित्र खींचा है। उनकी अलौकिकता को भी महज़ कपोल-कल्पना न मानकर एक आधार दिया है। लेखक ने पूरे उपन्यास में उन्हें अंजनी-पुत्र आंजनेय ही कहा है, उनकी मातृभक्ति के कारण उपन्यास में सबसे महत्त्वपूर्ण उत्तरार्ध और क्षेपक है जो शायद किसी राम या हनुमान कथा का हिस्सा नहीं।
यहाँ हनुमान सीता माता के निष्कासन के लिए राम के सामने अपना विरोध जताते हैं और उन्हें राजधर्म और निजधर्म की याद दिलाते हैं। यहाँ यह कथा अधुनातन सन्दर्भों में गहरे स्तर पर राजनीतिक हो जाती है। वैसे, मूल रामकथा में बिना कोई छेड़छाड़ किए लेखक ने आंजनेय के चरित्र को पूरी गरिमा के साथ स्थापित किया है। यह एक बड़ी उपलब्धि है। ‘anjney jayte’ giriraj kishor ka sambhvat: pahla mithkiy upanyas hai. Iski katha sankatmochan hanuman ke jivan-sangharsh par kendrit hai. Ramaktha mein hanuman ki upasthiti vilakshan hai. Ve vanvasi hain, vanarvanshi hain, lekin vanar nahin hain; balki apne samay ke adbhut vidvan, shastr-gyata, vilakshan rajnitigya aur atulit bal ke dhani hain. Unhonne apne samay ke sabhi bade vidvan rishi-muniyon se gyan hasil kiya hai. Unhen anek alaukik shaktiyan hasil hain. Tamam sahityik-sanskritik sroton ke madhyam se giriraj kishor ne hanuman ko vanarvanshi aadivasi manav ke rup mein chitrit kiya hai, jo apni yogyta ke karan vanar raja bali ke mantri bante hain. Bali aur sugriv ke bich vigrah ke baad nitigat karnon se ve sugriv ki nirvasit sarkar ke mantri ban jate hain.
Isi bich ravan dvara sita ke apahran ke baad raam unhen khojte hue hanuman se milte hain. Hanuman sita ki khoj mein lanka jate hain. Sita se to milte hi hain, ravan ki shakti aur kamzoriyon se bhi parichit hote hain. Phir ram-ravan yuddh, sita ko vanvas, lav-kush ka janm aur pure uttar kand ki kahani vahi hai—bas, drishti alag hai.
Lekhak ne puri ramaktha mein hanuman ki nishtha, samarpan, mitrta aur bhaktibhav ka vilakshan chitr khincha hai. Unki alaukikta ko bhi mahaz kapol-kalpna na mankar ek aadhar diya hai. Lekhak ne pure upanyas mein unhen anjni-putr aanjney hi kaha hai, unki matribhakti ke karan upanyas mein sabse mahattvpurn uttrardh aur kshepak hai jo shayad kisi raam ya hanuman katha ka hissa nahin.
Yahan hanuman sita mata ke nishkasan ke liye raam ke samne apna virodh jatate hain aur unhen rajdharm aur nijdharm ki yaad dilate hain. Yahan ye katha adhunatan sandarbhon mein gahre star par rajnitik ho jati hai. Vaise, mul ramaktha mein bina koi chhedchhad kiye lekhak ne aanjney ke charitr ko puri garima ke saath sthapit kiya hai. Ye ek badi uplabdhi hai.