BackBack
-11%

Aaj Ke Aiene Mein Rashtravad

Rs. 195 Rs. 174

जब सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और थोथी देशभक्ति के जुमले उछालकर जेएनयू को बदनाम किया जा रहा था, तब वहाँ छात्रों और अध्यापकों द्वारा राष्ट्रवाद को लेकर बहस शुरू की गई। खुले में होनेवाली ये बहस राष्ट्रवाद पर कक्षाओं में तब्दील होती गई, जिनमें जेएनयू के प्राध्यापकों के अलावा अनेक रचनाकारों और... Read More

BlackBlack
Description

जब सांस्कृतिक राष्ट्रवाद और थोथी देशभक्ति के जुमले उछालकर जेएनयू को बदनाम किया जा रहा था, तब वहाँ छात्रों और अध्यापकों द्वारा राष्ट्रवाद को लेकर बहस शुरू की गई। खुले में होनेवाली ये बहस राष्ट्रवाद पर कक्षाओं में तब्दील होती गई, जिनमें जेएनयू के प्राध्यापकों के अलावा अनेक रचनाकारों और जन-आन्दोलनकारियों ने राष्ट्रवाद पर व्याख्यान दिए। इन व्याख्यानों में राष्ट्रवाद के स्वरूप, इतिहास और समकालीन सन्दर्भों के साथ उसके ख़तरे भी बताए-समझाए गए।
राष्ट्रवाद कोई निश्चित भौगोलिक अवधारणा नहीं है। कोई काल्पनिक समुदाय भी नहीं। यह आपसदारी की एक भावना है, एक अनुभूति जो हमें राष्ट्र के विभिन्न समुदायों और संस्कृतियों से जोड़ती है। भारत में राष्ट्रवाद स्वाधीनता आन्दोलन के दौरान विकसित हुआ। इसके मूल में साम्राज्यवाद-विरोधी भावना थी। लेकिन इसके सामने धार्मिक राष्ट्रवाद के ख़तरे भी शुरू से थे। इसीलिए टैगोर समूचे विश्व में राष्ट्रवाद की आलोचना कर रहे थे तो गांधी, अम्बेडकर और नेहरू धार्मिक राष्ट्रवाद को ख़ारिज कर रहे थे।
कहने का तात्पर्य यह कि राष्ट्रवाद सतत् विचारणीय मुद्दा है। कोई अन्तिम अवधारणा नहीं। यह किताब राष्ट्रवाद के नाम पर प्रतिष्ठित की जा रही हिंसा और नफ़रत के मुक़ाबिल एक रचनात्मक प्रतिरोध है। इसमें जेएनयू में हुए तेरह व्याख्यानों को शामिल किया गया है। साथ ही योगेन्द्र यादव द्वारा पुणे और अनिल सद्गोपाल द्वारा भोपाल में दिए गए व्याख्यान भी इसमें शामिल हैं। Jab sanskritik rashtrvad aur thothi deshbhakti ke jumle uchhalkar jeenyu ko badnam kiya ja raha tha, tab vahan chhatron aur adhyapkon dvara rashtrvad ko lekar bahas shuru ki gai. Khule mein honevali ye bahas rashtrvad par kakshaon mein tabdil hoti gai, jinmen jeenyu ke pradhyapkon ke alava anek rachnakaron aur jan-andolankariyon ne rashtrvad par vyakhyan diye. In vyakhyanon mein rashtrvad ke svrup, itihas aur samkalin sandarbhon ke saath uske khatre bhi bataye-samjhaye ge. Rashtrvad koi nishchit bhaugolik avdharna nahin hai. Koi kalpnik samuday bhi nahin. Ye aapasdari ki ek bhavna hai, ek anubhuti jo hamein rashtr ke vibhinn samudayon aur sanskritiyon se jodti hai. Bharat mein rashtrvad svadhinta aandolan ke dauran viksit hua. Iske mul mein samrajyvad-virodhi bhavna thi. Lekin iske samne dharmik rashtrvad ke khatre bhi shuru se the. Isiliye taigor samuche vishv mein rashtrvad ki aalochna kar rahe the to gandhi, ambedkar aur nehru dharmik rashtrvad ko kharij kar rahe the.
Kahne ka tatparya ye ki rashtrvad satat vicharniy mudda hai. Koi antim avdharna nahin. Ye kitab rashtrvad ke naam par prtishthit ki ja rahi hinsa aur nafrat ke muqabil ek rachnatmak pratirodh hai. Ismen jeenyu mein hue terah vyakhyanon ko shamil kiya gaya hai. Saath hi yogendr yadav dvara pune aur anil sadgopal dvara bhopal mein diye ge vyakhyan bhi ismen shamil hain.