BackBack
-11%

Aahat Desh

Rs. 295 Rs. 263

‘‘वह जंगल जो दण्डकारण्य के नाम से जाना जाता था और जो पश्चिम बंगाल, झारखंड, उड़ीसा, छत्तीसगढ़ से लेकर आन्ध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों को समेटता हुआ महाराष्ट्र तक फैला है, लाखों आदिवासियों का घर है। मीडिया ने इसे ‘लाल गलियारा’ या ‘माओवादी गलियारा’ कहना शुरू कर दिया है। लेकिन... Read More

BlackBlack
Vendor: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Discourse
Description

‘‘वह जंगल जो दण्डकारण्य के नाम से जाना जाता था और जो पश्चिम बंगाल, झारखंड, उड़ीसा, छत्तीसगढ़ से लेकर आन्ध्र प्रदेश के कुछ हिस्सों को समेटता हुआ महाराष्ट्र तक फैला है, लाखों आदिवासियों का घर है। मीडिया ने इसे ‘लाल गलियारा’ या ‘माओवादी गलियारा’ कहना शुरू कर दिया है। लेकिन इसे उतने ही सटीक ढंग से ‘अनुबन्ध गलियारा’ कहा जा सकता है। इससे रत्ती-भर फ़र्क़ नहीं पड़ता कि संविधान की पाँचवीं सूची में आदिवासी लोगों के संरक्षण का प्रावधान है और उनकी भूमि के अधिग्रहण पर पाबन्दी लगाई गई है। लगता यही है कि वह धारा वहाँ महज़ संविधान की शोभा बढ़ाने के लिए रखी गई है—थोड़ा-सा मिस्सी-ग़ाज़ा, लिपस्टिक-काजल। अनगिनत निगम, छोटे अनजाने व्यापारी ही नहीं, दुनिया के दैत्याकार-से-दैत्याकार इस्पात और खनन निगम—मित्तल, जिन्दल, टाटा, एस्सार, पॉस्को, रिओ टिंटो, बीएचपी बिलिटन और हाँ, वेदान्त भी—आदिवासियों के घर-बार को हड़पने की फ़िराक़ में हैं।
हर पहाड़ी, हर नदी और हर जंगल के लिए समझौता हो गया है। हम अकल्पनीय स्तर पर व्यापक सामाजिक और पर्यावरणीय कायाकल्प की बात कर रहे हैं। और इसमें से ज़्यादातर गुप्त है। मुझे क़तई नहीं लगता कि दुनिया के सबसे पुराने और दिव्य जंगल, परिवेश और आदिम समुदाय को नष्ट करने के लिए जो परियोजनाएँ शुरू हुई हैं, उनकी चर्चा भी कोपेनहेगेन में होनेवाले ‘जलवायु परिवर्तन सम्मेलन’ में होगी। माओवादी हिंसा की भयावह कहानियाँ खोजनेवाले (और न मिलने पर उन्हें गढ़ लेनेवाले) ख़बरिया चैनल लगता है, क़िस्से के इस पक्ष में बिलकुल दिलचस्पी नहीं रखते। मुझे अचरज है, ऐसा क्यों?’’
युद्ध, भारत की सीमाओं से चलकर देश के हृदय-स्थल में मौजूद जंगलों तक फैल चुका है। भारत की सर्वाधिक प्रतिष्ठासम्पन्न लेखिका द्वारा लिखित यह पुस्तक ‘आहत देश’ कुशाग्र विश्लेषण और रिपोर्टों के संयोजन द्वारा उभरती हुई वैश्विक महाशक्तियों के समय में प्रगति और विकास का परीक्षण करती है और आधुनिक सभ्यता को लेकर कुछ मूलभूत सवाल उठाती है। ‘‘vah jangal jo dandkaranya ke naam se jana jata tha aur jo pashchim bangal, jharkhand, udisa, chhattisgadh se lekar aandhr prdesh ke kuchh hisson ko sametta hua maharashtr tak phaila hai, lakhon aadivasiyon ka ghar hai. Midiya ne ise ‘lal galiyara’ ya ‘maovadi galiyara’ kahna shuru kar diya hai. Lekin ise utne hi satik dhang se ‘anubandh galiyara’ kaha ja sakta hai. Isse ratti-bhar farq nahin padta ki sanvidhan ki panchavin suchi mein aadivasi logon ke sanrakshan ka pravdhan hai aur unki bhumi ke adhigrhan par pabandi lagai gai hai. Lagta yahi hai ki vah dhara vahan mahaz sanvidhan ki shobha badhane ke liye rakhi gai hai—thoda-sa missi-gaza, lipastik-kajal. Anaginat nigam, chhote anjane vyapari hi nahin, duniya ke daityakar-se-daityakar ispat aur khanan nigam—mittal, jindal, tata, essar, pausko, rio tinto, biyechpi bilitan aur han, vedant bhi—adivasiyon ke ghar-bar ko hadapne ki firaq mein hain. Har pahadi, har nadi aur har jangal ke liye samjhauta ho gaya hai. Hum akalpniy star par vyapak samajik aur paryavarniy kayakalp ki baat kar rahe hain. Aur ismen se zyadatar gupt hai. Mujhe qatii nahin lagta ki duniya ke sabse purane aur divya jangal, parivesh aur aadim samuday ko nasht karne ke liye jo pariyojnayen shuru hui hain, unki charcha bhi kopenhegen mein honevale ‘jalvayu parivartan sammelan’ mein hogi. Maovadi hinsa ki bhayavah kahaniyan khojnevale (aur na milne par unhen gadh lenevale) khabariya chainal lagta hai, qisse ke is paksh mein bilkul dilchaspi nahin rakhte. Mujhe achraj hai, aisa kyon?’’
Yuddh, bharat ki simaon se chalkar desh ke hriday-sthal mein maujud janglon tak phail chuka hai. Bharat ki sarvadhik prtishthasampann lekhika dvara likhit ye pustak ‘ahat desh’ kushagr vishleshan aur riporton ke sanyojan dvara ubharti hui vaishvik mahashaktiyon ke samay mein pragati aur vikas ka parikshan karti hai aur aadhunik sabhyta ko lekar kuchh mulbhut saval uthati hai.