BackBack
-11%

Aadmi Ka Zahar

Rs. 350 Rs. 312

आदमी का ज़हर’ एक रहस्यपूर्ण अपराध कथा है। इसकी शुरुआत एक ईर्ष्यालु पति से होती है जो छिपकर अपनी रूपवती पत्नी का पीछा करता है और एक होटल के कमरे में जाकर उसके साथी को गोली मार देता है। पर दूसरे ही दिन वह साधारण दीखनेवाला हत्याकांड अचानक असाधारण बन... Read More

BlackBlack
Description

आदमी का ज़हर’ एक रहस्यपूर्ण अपराध कथा है। इसकी शुरुआत एक ईर्ष्यालु पति से होती है जो छिपकर अपनी रूपवती पत्नी का पीछा करता है और एक होटल के कमरे में जाकर उसके साथी को गोली मार देता है। पर दूसरे ही दिन वह साधारण दीखनेवाला हत्याकांड अचानक असाधारण बन जाता है और घटना को रहस्य की घनी परछाइयाँ ढकने लगती हैं।
उसके बाद के पन्नों में हत्या और दूसरे भयंकर अपराधों का घना अँधेरा है जिसकी कई परतों से हम पत्रकार उमाकांत के साथ गुज़रते हैं। घटनाओं का तनाव बराबर बढ़ता जाता है और अन्त में वह जिस अप्रत्याशित बिन्दु पर टूटता है, वह नाटकीय होते हुए भी पूरी तरह विश्वसनीय है।
सामान्य पाठक समुदाय के लिए हिन्दी में शायद पहली बार एक प्रतिष्ठित लेखक ने ऐसा उपन्यास लिखा है। इसमें पारम्परिक जासूसी कथा-साहित्य की ख़ूबियाँ तो मिलेंगी ही, सबसे बड़ी ख़ूबी यह है कि कथा आज की सामाजिक-राजनीतिक स्थितियों के बीच से निकली है। इसमें सन्देह नहीं कि यह उपन्यास, जिसे लेखक ख़ुद मनोरंजन-भर मानता है, पाठकों के मनोरंजन के अलावा उन्हें कुछ सोचने के लिए मजबूर भी करता है। Aadmi ka zahar’ ek rahasypurn apradh katha hai. Iski shuruat ek iirshyalu pati se hoti hai jo chhipkar apni rupavti patni ka pichha karta hai aur ek hotal ke kamre mein jakar uske sathi ko goli maar deta hai. Par dusre hi din vah sadharan dikhnevala hatyakand achanak asadharan ban jata hai aur ghatna ko rahasya ki ghani parchhaiyan dhakne lagti hain. Uske baad ke pannon mein hatya aur dusre bhayankar apradhon ka ghana andhera hai jiski kai parton se hum patrkar umakant ke saath guzarte hain. Ghatnaon ka tanav barabar badhta jata hai aur ant mein vah jis apratyashit bindu par tutta hai, vah natkiy hote hue bhi puri tarah vishvasniy hai.
Samanya pathak samuday ke liye hindi mein shayad pahli baar ek prtishthit lekhak ne aisa upanyas likha hai. Ismen paramprik jasusi katha-sahitya ki khubiyan to milengi hi, sabse badi khubi ye hai ki katha aaj ki samajik-rajnitik sthitiyon ke bich se nikli hai. Ismen sandeh nahin ki ye upanyas, jise lekhak khud manoranjan-bhar manta hai, pathkon ke manoranjan ke alava unhen kuchh sochne ke liye majbur bhi karta hai.