BackBack
-11%

Aadhunik Sahitya : Mulya Aur Mulyankan

Rs. 395 Rs. 352

रचना और आलोचना की सतत् विकासमान प्रक्रिया युग-सापेक्ष सही मूल्यों का निर्धारण करती है तथा उन सार्थक प्रतिमानों का निर्माण करती चलती है जो साहित्य के मूल्यांकन को दिशा और गति देते हैं। इस दृष्टि से देखें तो डॉ. निर्मला जैन की यह पुस्तक अपना विशेष महत्त्व रखती है। इसमें... Read More

Description

रचना और आलोचना की सतत् विकासमान प्रक्रिया युग-सापेक्ष सही मूल्यों का निर्धारण करती है तथा उन सार्थक प्रतिमानों का निर्माण करती चलती है जो साहित्य के मूल्यांकन को दिशा और गति देते हैं। इस दृष्टि से देखें तो डॉ. निर्मला जैन की यह पुस्तक अपना विशेष महत्त्व रखती है। इसमें 'मूल्य' और 'मूल्यांकन' के ही बिन्दुओं पर आधुनिक साहित्य की रचनात्मकता और आलोचनात्मकता के प्रश्नों को बारीकी और संजीदगी से उठाया गया है।
‘आधुनिक साहित्य : मूल्य और मूल्याकंन’ आलोचनात्मक निबन्धों का एक सुनियोजित उपयोगी संकलन है। समय-समय पर लिखे गए अपने इन निबन्धों में डॉ. जैन ने बहुत ही धारदार शैली में साहित्य की प्रमुख प्रवृत्तियों और समस्याओं का वैचारिक विश्लेषण किया है। अनेक ऐसे मुद्‌दों को उन्होंने यहाँ नए आयाम दिए हैं जो बहसों के दौरान आए दिन बार-बार सामने आते रहे हैं। साथ ही, कविता और कथा के क्षेत्रों में अब तक की विशिष्ट उपलब्धियों को भी उन्होंने नए कोणों से देखा-परखा और रेखांकित किया है। संक्षेप में, यह पुस्तक रचना और आलोचना की सही पहचान कराने में सक्षम है। Rachna aur aalochna ki satat vikasman prakriya yug-sapeksh sahi mulyon ka nirdharan karti hai tatha un sarthak pratimanon ka nirman karti chalti hai jo sahitya ke mulyankan ko disha aur gati dete hain. Is drishti se dekhen to dau. Nirmla jain ki ye pustak apna vishesh mahattv rakhti hai. Ismen mulya aur mulyankan ke hi binduon par aadhunik sahitya ki rachnatmakta aur aalochnatmakta ke prashnon ko bariki aur sanjidgi se uthaya gaya hai. ‘adhunik sahitya : mulya aur mulyakann’ aalochnatmak nibandhon ka ek suniyojit upyogi sanklan hai. Samay-samay par likhe ge apne in nibandhon mein dau. Jain ne bahut hi dhardar shaili mein sahitya ki prmukh prvrittiyon aur samasyaon ka vaicharik vishleshan kiya hai. Anek aise mud‌don ko unhonne yahan ne aayam diye hain jo bahson ke dauran aae din bar-bar samne aate rahe hain. Saath hi, kavita aur katha ke kshetron mein ab tak ki vishisht uplabdhiyon ko bhi unhonne ne konon se dekha-parkha aur rekhankit kiya hai. Sankshep mein, ye pustak rachna aur aalochna ki sahi pahchan karane mein saksham hai.