BackBack

Aadhunik Sahitya Ki Pravritiyan

Rs. 225

डॉ. नामवर सिंह हिन्दी आलोचना की वाचिक परम्परा के आचार्य कहे जाते थे। जैसे बाबा नागार्जुन घूम-घूमकर किसानों और मज़दूरों की सभाओं से लेकर छात्र-नौजवानों, बुद्धिजीवियों और विद्वानों तक की गोष्ठियों में अपनी कविताएँ बेहिचक सुनाकर जनतांत्रिक संवेदना जगाने का काम करते रहे, वैसे ही नामवर जी घूम-घूमकर वैचारिक लड़ाई... Read More

Description

डॉ. नामवर सिंह हिन्दी आलोचना की वाचिक परम्परा के आचार्य कहे जाते थे। जैसे बाबा नागार्जुन घूम-घूमकर किसानों और मज़दूरों की सभाओं से लेकर छात्र-नौजवानों, बुद्धिजीवियों और विद्वानों तक की गोष्ठियों में अपनी कविताएँ बेहिचक सुनाकर जनतांत्रिक संवेदना जगाने का काम करते रहे, वैसे ही नामवर जी घूम-घूमकर वैचारिक लड़ाई लड़ते करते रहे; रूढ़िवादिता, अन्धविश्वास, कलावाद, व्यक्तिवाद आदि के ख़‍िलाफ़ चिन्तन को प्रेरित करते रहे; नई चेतना का प्रसार करते रहे। इस वैचारिक, सांस्कृतिक अभियान में नामवर जी एक तो विचारहीनता की व्यावहारिक काट करते रहे, दूसरे वैकल्पिक विचारधारा की ओर से लोकशिक्षण भी करते रहे।
नामवर जी मार्क्सवाद की अध्ययन की पद्धति के रूप में, चिन्तन की पद्धति के रूप में, समाज में क्रान्तिकारी परिवर्तन लानेवाले मार्गदर्शक सिद्धान्त के रूप में, जीवन और समाज को मानवीय बनानेवाले सौन्दर्य-सिद्धान्त के रूप में स्वीकार करते हैं। एक मार्क्सवादी होने के नाते वे आत्मलोचन भी करते रहे। उनके व्याख्यानों और लेखन में भी इसके उदाहरण मिलते हैं। आलोचना को स्वीकार करने में नामवर जी का जवाब नहीं। यही कारण है कि हिन्दी क्षेत्र की शिक्षित जनता के बीच मार्क्सवाद और वामपंथ के बहुत लोकप्रिय नहीं होने के बावजूद नामवर जी उनके बीच प्रतिष्ठित और लोकप्रिय हैं।
निबन्ध मूलरूप से कई जगहों पर एकाधिक बार व्याख्यान के रूप में प्रस्तुत हुए थे। लोगों के आग्रह पर इन्हें आगे चलकर स्वतंत्र निबन्धों के रूप में व्यवस्थित करने की कोशिश की गई है।
नामवर जी हिन्दी के सर्वोत्तम वक्ता थे और माने भी जाते रहे। उनके व्याख्यान में भाषा के प्रवाह के साथ विचारों की लय है। इस लय का निर्माण विचारों के तारतम्य और क्रमबद्धता से होता दिखता है। अनावश्यक तथ्यों और प्रसंगों से वे बेचते हैं और रोचकता का भी ध्यान हमेशा रखते हैं। Dau. Namvar sinh hindi aalochna ki vachik parampra ke aacharya kahe jate the. Jaise baba nagarjun ghum-ghumkar kisanon aur mazduron ki sabhaon se lekar chhatr-naujvanon, buddhijiviyon aur vidvanon tak ki goshthiyon mein apni kavitayen behichak sunakar jantantrik sanvedna jagane ka kaam karte rahe, vaise hi namvar ji ghum-ghumkar vaicharik ladai ladte karte rahe; rudhivadita, andhvishvas, kalavad, vyaktivad aadi ke kha‍ilaf chintan ko prerit karte rahe; nai chetna ka prsar karte rahe. Is vaicharik, sanskritik abhiyan mein namvar ji ek to vicharhinta ki vyavharik kaat karte rahe, dusre vaikalpik vichardhara ki or se lokshikshan bhi karte rahe. Namvar ji marksvad ki adhyyan ki paddhati ke rup mein, chintan ki paddhati ke rup mein, samaj mein krantikari parivartan lanevale margdarshak siddhant ke rup mein, jivan aur samaj ko manviy bananevale saundarya-siddhant ke rup mein svikar karte hain. Ek marksvadi hone ke nate ve aatmlochan bhi karte rahe. Unke vyakhyanon aur lekhan mein bhi iske udahran milte hain. Aalochna ko svikar karne mein namvar ji ka javab nahin. Yahi karan hai ki hindi kshetr ki shikshit janta ke bich marksvad aur vampanth ke bahut lokapriy nahin hone ke bavjud namvar ji unke bich prtishthit aur lokapriy hain.
Nibandh mulrup se kai jaghon par ekadhik baar vyakhyan ke rup mein prastut hue the. Logon ke aagrah par inhen aage chalkar svtantr nibandhon ke rup mein vyvasthit karne ki koshish ki gai hai.
Namvar ji hindi ke sarvottam vakta the aur mane bhi jate rahe. Unke vyakhyan mein bhasha ke prvah ke saath vicharon ki lay hai. Is lay ka nirman vicharon ke tartamya aur krambaddhta se hota dikhta hai. Anavashyak tathyon aur prsangon se ve bechte hain aur rochakta ka bhi dhyan hamesha rakhte hain.