BackBack
-11%

Aadhunik Itihas Mein Vigyan

Rs. 695 Rs. 619

भारत में आधुनिक विज्ञान का नक़्शा बनाने में हिन्दुओं से ज़्यादा मुसलमानों और मुसलमानों से ज़्यादा भूमिका अंग्रेज़ों की रही। आज़ादी के पूर्व से ही भारत जात-पाँत और ऊँच-नीच के दलदल में फँसा हुआ है। आधुनिक भारतीय इतिहास पर भारत में जितनी पुस्तकें लिखी गईं, उनमें से अधिकांश के लेखक... Read More

Description

भारत में आधुनिक विज्ञान का नक़्शा बनाने में हिन्दुओं से ज़्यादा मुसलमानों और मुसलमानों से ज़्यादा भूमिका अंग्रेज़ों की रही। आज़ादी के पूर्व से ही भारत जात-पाँत और ऊँच-नीच के दलदल में फँसा हुआ है। आधुनिक भारतीय इतिहास पर भारत में जितनी पुस्तकें लिखी गईं, उनमें से अधिकांश के लेखक हिन्दू रहे। उनके द्वारा अधिकांश पुस्तकें भारत के प्रमुख नेताओं के पक्ष में, अंग्रेज़ों के विरोध में, मुसलमानों के योगदान और वैज्ञानिक गतिविधियों को नज़रअन्दाज़ करते हुए लिखी गईं।
आधुनिक काल के क़रीब सभी भारतीय वैज्ञानिक इंग्लैंड से विज्ञान पढ़-लिख-जान कर आए। भारत के निवासियों को अंग्रेज़ों ने ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र अथवा छूत-अछूत अथवा हिन्दू-मुसलमान में कोई भेदभाव न कर सबको एक नाम भारतीय दिया। भारत का मानचित्र भी अंग्रेज़ों ने तैयार किया। अंग्रेज़ी शिक्षा, प्रतियोगी परीक्षाएँ, बैंक, प्रयोगशाला, रेलवे आदि सब अंग्रेज़ों की देन है। कलकत्ता में अंग्रेज़ों ने अपने कर्मचारियों को भारतीय भाषाओं से परिचित कराने के लिए फ़ोर्ट विलियम कॉलेज नमक विशेष विद्यालय की स्थापना की थी, जहाँ भारतीय भाषाओं में अनेक पाठ्य-पुस्तकों की रचना भी की गई। अठारहवीं सदी में महलों, सड़कों, पुलों आदि से युक्त अनेक नए नगर पैदा हुए। अठारहवीं सदी में भारत में विशेष रूप से बंगाल में यूरोपीय शैली के भवन भी बनने लगे थे। 1882 में टेलीफ़ोन आया। 1914 में प्रथम ऑटोमेटिक टेलीफ़ोन एक्सचेंज लगाया गया। अगस्त 1945 से लम्ब्रेटा स्कूटर बनना शुरू हुआ।
प्रस्तुत पुस्तक में आधुनिक वैज्ञानिकों पर संक्षेप में प्रकाश डाला गया है। इन सभी वैज्ञानिकों को सर्वाधिक प्रोत्साहन एवं प्रेरणा इंग्लैंड से मिली। प्रथम अध्याय में आधुनिक भारतीय वैज्ञानिक उपलब्धियों की चर्चा की गई है। प्रथम और द्वितीय महायुद्ध के दौरान भारत में विज्ञान की एक विशेष धारा दिखाई देती है। आधुनिक तकनीक और सामाजिक विकास से भारत किन-किन रूपों में प्रभावित हुआ, इसका विशद वर्णन दूसरे अध्याय में किया गया है। इसके अलावा 'द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान तकनीक एवं समाज’, 'द्वितीय महायुद्ध के उपरान्त’, 'विज्ञान एवं पेट्रोल’, 'प्लास्टिक और चलचित्र तकनीक’, 'आपदा प्रबन्धन’ और 'भारतीय विज्ञान एवं अंग्रेज़ों का योगदान’ आदि अध्यायों में आधुनिक भारत में विज्ञान के विभिन्न चरणों पर संक्षेप में प्रकाश डाला गया है। Bharat mein aadhunik vigyan ka naksha banane mein hinduon se zyada musalmanon aur musalmanon se zyada bhumika angrezon ki rahi. Aazadi ke purv se hi bharat jat-pant aur uunch-nich ke daldal mein phansa hua hai. Aadhunik bhartiy itihas par bharat mein jitni pustken likhi gain, unmen se adhikansh ke lekhak hindu rahe. Unke dvara adhikansh pustken bharat ke prmukh netaon ke paksh mein, angrezon ke virodh mein, musalmanon ke yogdan aur vaigyanik gatividhiyon ko nazarandaz karte hue likhi gain. Aadhunik kaal ke qarib sabhi bhartiy vaigyanik inglaind se vigyan padh-likh-jan kar aae. Bharat ke nivasiyon ko angrezon ne brahman, kshatriy, vaishya, shudr athva chhut-achhut athva hindu-musalman mein koi bhedbhav na kar sabko ek naam bhartiy diya. Bharat ka manchitr bhi angrezon ne taiyar kiya. Angrezi shiksha, pratiyogi parikshayen, baink, pryogshala, relve aadi sab angrezon ki den hai. Kalkatta mein angrezon ne apne karmchariyon ko bhartiy bhashaon se parichit karane ke liye fort viliyam kaulej namak vishesh vidyalay ki sthapna ki thi, jahan bhartiy bhashaon mein anek pathya-pustkon ki rachna bhi ki gai. Atharahvin sadi mein mahlon, sadkon, pulon aadi se yukt anek ne nagar paida hue. Atharahvin sadi mein bharat mein vishesh rup se bangal mein yuropiy shaili ke bhavan bhi banne lage the. 1882 mein telifon aaya. 1914 mein prtham autometik telifon ekschenj lagaya gaya. Agast 1945 se lambreta skutar banna shuru hua.
Prastut pustak mein aadhunik vaigyanikon par sankshep mein prkash dala gaya hai. In sabhi vaigyanikon ko sarvadhik protsahan evan prerna inglaind se mili. Prtham adhyay mein aadhunik bhartiy vaigyanik uplabdhiyon ki charcha ki gai hai. Prtham aur dvitiy mahayuddh ke dauran bharat mein vigyan ki ek vishesh dhara dikhai deti hai. Aadhunik taknik aur samajik vikas se bharat kin-kin rupon mein prbhavit hua, iska vishad varnan dusre adhyay mein kiya gaya hai. Iske alava dvitiy vishvyuddh ke dauran taknik evan samaj’, dvitiy mahayuddh ke uprant’, vigyan evan petrol’, plastik aur chalchitr taknik’, apda prbandhan’ aur bhartiy vigyan evan angrezon ka yogdan’ aadi adhyayon mein aadhunik bharat mein vigyan ke vibhinn charnon par sankshep mein prkash dala gaya hai.