BackBack
-11%

Aadhi Aabadi Ka Sangharsh

Rs. 400 Rs. 356

राजस्थान में देश के अन्य राज्यों की अपेक्षा रजवाड़ों और जागीरदारों का ज़बर्दस्त दबदबा रहा, लेकिन जैसे ही सामन्ती व्यवस्था हटी तो औरतों के लिए अवसर आए, शिक्षा का प्रचार-प्रसार हुआ। अपनी स्थिति पर उनके बीच चर्चा व मंथन की शुरुआत हुई तथा राजस्थान की आम औरतों ने अपनी आवाज़... Read More

BlackBlack
Sold By: Rajkamal Categories: Rajkamal Prakashan Books Tags: Women Studies
Description

राजस्थान में देश के अन्य राज्यों की अपेक्षा रजवाड़ों और जागीरदारों का ज़बर्दस्त दबदबा रहा, लेकिन जैसे ही सामन्ती व्यवस्था हटी तो औरतों के लिए अवसर आए, शिक्षा का प्रचार-प्रसार हुआ। अपनी स्थिति पर उनके बीच चर्चा व मंथन की शुरुआत हुई तथा राजस्थान की आम औरतों ने अपनी आवाज़ को बुलन्द करना शुरू किया। यह एक पुनर्जागरण की शुरुआत थी।
राजस्थान में कार्यरत कई स्वयंसेवी संस्थाएँ जो औरतों के मुद्दों पर काम करती थीं, उन्होंने संस्थाओं में घरेलू हिंसा, लैंगिक भेदभाव तथा बलात्कार जैसे मुद्दों पर चर्चाओं के माध्यम से ज़ोरदार माहौल बनाया। सन् 1985 में एक महिला मेले के दौरान पूरे राजस्थान से आई औरतों ने किशनगढ़ क्षेत्र में बलात्कार जैसी सामाजिक बुराई के विरुद्ध एक रैली निकाली।
मज़दूर महिलाओं को सड़क पर उतरकर, मुट्ठी बाँधकर, आक्रोश के साथ बुलन्द नारे लगाते, मंचों पर अत्याचारों के विरुद्ध बेख़ौफ़ बोलते देखकर मध्यवर्गीय औरतों में भी हिम्मत आई। अक्सर घर-परिवार तक ही सीमित रहकर शोषण व जुल्म को सहनेवाली औरतों ने भी दहेज, घरेलू हिंसा जैसे मुद्दों के ख़‍िलाफ़ उठ खड़ी होने का साहस जुटाया तथा महिलाओं पर हिंसा का प्रभावी विरोध शुरू किया। नगरीय समुदाय की मध्यवर्गीय औरतों तथा विश्वविद्यालय की महिलाएँ, जिन्होंने घरेलू हिंसा के मुद्दे से जुड़कर काम शुरू किया, अब वे महिला आन्दोलन की नेतृत्वकर्त्री बनकर औरतों के कई मुद्दों पर जमकर संघर्ष करती हुई नज़र आती हैं।
एक उल्लेखनीय बात और भी रही कि राजस्थान के महिला आन्दोलन की बागडोर मुख्यतः मज़दूर महिलाओं के हाथों में रही, इसलिए उन्‍होंने कभी भी समाज के ध्रुवीकरण का रास्ता नहीं लिया। कहना चाहिए कि इस आन्दोलन का रुझान पुरुषों के ख़िलाफ़ न होकर बराबरी और अवसरों की समानता की तलाश की ओर ही अधिक रहा। ‘विविधा महिला आलेखन एवं सन्दर्भ केन्द्र’ व ‘विविधा फ़ीचर्स’, जयपुर ने राजस्थान की आधी आबादी के गुमनाम सफ़र का इस पुस्तक में दस्तावेज़ीकरण करने का काम किया है। यह केवल राजस्थान ही नहीं, बल्कि भारतीय महिला आन्दोलन के स्वरूप को समझने का एक सार्थक उपक्रम है। Rajasthan mein desh ke anya rajyon ki apeksha rajvadon aur jagirdaron ka zabardast dabadba raha, lekin jaise hi samanti vyvastha hati to aurton ke liye avsar aae, shiksha ka prchar-prsar hua. Apni sthiti par unke bich charcha va manthan ki shuruat hui tatha rajasthan ki aam aurton ne apni aavaz ko buland karna shuru kiya. Ye ek punarjagran ki shuruat thi. Rajasthan mein karyrat kai svyansevi sansthayen jo aurton ke muddon par kaam karti thin, unhonne sansthaon mein gharelu hinsa, laingik bhedbhav tatha balatkar jaise muddon par charchaon ke madhyam se zordar mahaul banaya. San 1985 mein ek mahila mele ke dauran pure rajasthan se aai aurton ne kishangadh kshetr mein balatkar jaisi samajik burai ke viruddh ek raili nikali.
Mazdur mahilaon ko sadak par utarkar, mutthi bandhakar, aakrosh ke saath buland nare lagate, manchon par atyacharon ke viruddh bekhauf bolte dekhkar madhyvargiy aurton mein bhi himmat aai. Aksar ghar-parivar tak hi simit rahkar shoshan va julm ko sahnevali aurton ne bhi dahej, gharelu hinsa jaise muddon ke kha‍ilaf uth khadi hone ka sahas jutaya tatha mahilaon par hinsa ka prbhavi virodh shuru kiya. Nagriy samuday ki madhyvargiy aurton tatha vishvvidyalay ki mahilayen, jinhonne gharelu hinsa ke mudde se judkar kaam shuru kiya, ab ve mahila aandolan ki netritvkartri bankar aurton ke kai muddon par jamkar sangharsh karti hui nazar aati hain.
Ek ullekhniy baat aur bhi rahi ki rajasthan ke mahila aandolan ki bagdor mukhyatः mazdur mahilaon ke hathon mein rahi, isaliye un‍honne kabhi bhi samaj ke dhruvikran ka rasta nahin liya. Kahna chahiye ki is aandolan ka rujhan purushon ke khilaf na hokar barabri aur avasron ki samanta ki talash ki or hi adhik raha. ‘vividha mahila aalekhan evan sandarbh kendr’ va ‘vividha fichars’, jaypur ne rajasthan ki aadhi aabadi ke gumnam safar ka is pustak mein dastavezikran karne ka kaam kiya hai. Ye keval rajasthan hi nahin, balki bhartiy mahila aandolan ke svrup ko samajhne ka ek sarthak upakram hai.

Additional Information
Color

Black

Publisher
Language
ISBN
Pages
Publishing Year