BackBack

Aacharya Ramchandra Shukla : Aalochana Ke Naye Mandand

Bhavdeo Pandey

Rs. 300

Rajkamal Prakashan

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के पहले हिन्दी आलोचना का कोई व्यवस्थित ढाँचा तैयार नहीं हुआ था। कृति के गुण-दोष-दर्शन में दोष ढूँढ़ने का प्रचलन अधिक था। दोष-दर्शन में भी भाषागत त्रुटियों को ज्‍़यादा महत्त्व दिया जाता था। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने आलोचना के ऐतिहासिक और समाजशास्त्राीय स्वरूप की प्रस्तुति की और... Read More

Description

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के पहले हिन्दी आलोचना का कोई व्यवस्थित ढाँचा तैयार नहीं हुआ था। कृति के गुण-दोष-दर्शन में दोष ढूँढ़ने का प्रचलन अधिक था। दोष-दर्शन में भी भाषागत त्रुटियों को ज्‍़यादा महत्त्व दिया जाता था। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल ने आलोचना के ऐतिहासिक और समाजशास्त्राीय स्वरूप की प्रस्तुति की और ‘लोक के भीतर ही कविता क्या किसी भी कला का प्रयोजन और विकास होता है’—के सिद्धान्त का निरूपण किया। उन्होंने आलोचना को व्यवस्थित रूप देने के लिए कुछ निश्चित मानदंड स्थापित किए।
यह पुस्तक आचार्य शुक्ल के जीवन, आलोचक के रूप में, के विकास और उनकी दृष्टि का एक सम्पूर्ण ख़ाका खींचने की कोशिश करती है। उनके प्रामाणिक जीवन-वृत्त के साथ ‘बीसवीं शताब्दी का काव्यात्मक आन्दोलन’ (कविता क्या है?); ‘आचार्य रामचन्द्र शुक्ल’; ‘वैचारिक निबन्धों के प्रथम आचार्य’; ‘आचार्य रामचन्द्र शुक्ल की आलोचना दृष्टि’ और ‘उनकी साहित्येतिहास दृष्टि’—इन पाँच अध्यायों में विभक्त यह पुस्तक आचार्य शुक्ल को समझने और पढ़ने के नए द्वार खोलती है। इसके अलावा डॉ. पांडेय ने गहन शोध के बाद इस पुस्तक में आचार्य शुक्ल से सम्बन्धित अभी तक अनुपलब्ध कई महत्त्वपूर्ण सूचनाएँ भी जुटाई हैं। Aacharya ramchandr shukl ke pahle hindi aalochna ka koi vyvasthit dhancha taiyar nahin hua tha. Kriti ke gun-dosh-darshan mein dosh dhundhane ka prachlan adhik tha. Dosh-darshan mein bhi bhashagat trutiyon ko ‍yada mahattv diya jata tha. Aacharya ramchandr shukl ne aalochna ke aitihasik aur samajshastraiy svrup ki prastuti ki aur ‘lok ke bhitar hi kavita kya kisi bhi kala ka pryojan aur vikas hota hai’—ke siddhant ka nirupan kiya. Unhonne aalochna ko vyvasthit rup dene ke liye kuchh nishchit mandand sthapit kiye. Ye pustak aacharya shukl ke jivan, aalochak ke rup mein, ke vikas aur unki drishti ka ek sampurn khaka khinchne ki koshish karti hai. Unke pramanik jivan-vritt ke saath ‘bisvin shatabdi ka kavyatmak aandolan’ (kavita kya hai?); ‘acharya ramchandr shukl’; ‘vaicharik nibandhon ke prtham aacharya’; ‘acharya ramchandr shukl ki aalochna drishti’ aur ‘unki sahityetihas drishti’—in panch adhyayon mein vibhakt ye pustak aacharya shukl ko samajhne aur padhne ke ne dvar kholti hai. Iske alava dau. Pandey ne gahan shodh ke baad is pustak mein aacharya shukl se sambandhit abhi tak anuplabdh kai mahattvpurn suchnayen bhi jutai hain.