BackBack

1857 : Itihas Kala Sahitya

Ed. Murli Manohar Prasad Sing, Chanchal Chauhan

Rs. 400

Rajkamal Prakashan

1857 आधुनिक भारतीय इतिहास की ऐसी परिघटना है जिस पर सैकड़ों पुस्तकें लिखी गई हैं। इसके बावजूद इतिहास, कला और साहित्य के क्षेत्र में पिछले 150 वर्षों के अनुसंधानों पर आधारित नवोन्मेषकारी विवेचनाओं और उद्भावनाओं से हिन्दी-उर्दू भाषी समुदाय की चेतना में मंथन उत्पन्न करनेवाली पुस्तक का नितान्त अभाव है।... Read More

Description

1857 आधुनिक भारतीय इतिहास की ऐसी परिघटना है जिस पर सैकड़ों पुस्तकें लिखी गई हैं। इसके बावजूद इतिहास, कला और साहित्य के क्षेत्र में पिछले 150 वर्षों के अनुसंधानों पर आधारित नवोन्मेषकारी विवेचनाओं और उद्भावनाओं से हिन्दी-उर्दू भाषी समुदाय की चेतना में मंथन उत्पन्न करनेवाली पुस्तक का नितान्त अभाव है। इसी ज़रूरत को ध्यान में रखकर इस पुस्तक की सम्पूर्ण सामग्री में श्रमसाध्य और नए ढंग के संचयन का प्रयास किया गया है। इस पुस्तक में पूर्व प्रकाशित सामग्री अल्पतम है—सिर्फ़ सन्‍दर्भ बताने के उद्देश्य से। अंग्रेज़ी और हिन्दी-उर्दू में अभी तक अप्रकाशित अनेक महत्त्वपूर्ण आलेखों और सृजनधर्मी रचनाओं को व्यवस्थित रूप में प्रस्तुत किया गया है—इस व्यवस्था में एक वैचारिक अन्विति का होना स्वाभाविक है। चूँकि अन्विति ही वह विधि है जिसके माध्यम से अत्याधुनिक प्रक्रियाओं को समझने और इतिहास से संवाद कर रही कलात्मक और साहित्यिक सृजनशीलता के सन्दर्भ का खुलासा करने में मदद मिलती है। रंगकर्म, फ़िल्म, चित्रकला, उर्दू शायरी तथा हिन्दी साहित्य के परिदृश्यों के विवेचन से इसे समृद्ध किया गया है ताकि इतिहास, कला और साहित्य की परस्पर सम्बद्धता की अन्तःक्रिया भी स्पष्ट हो सके। 1857 पर इतिहास लेखन यद्यपि दो प्रतिध्रुवों में विभक्त रहा, इसके बावजूद सन् सत्तावन की जंगे-आज़ादी को समकालीन समाजवैज्ञानिक, चिन्तक और रचनाकार जिस दृष्टि से देखते हैं, उस ऐतिहासिक प्रक्रिया का तात्पर्य जिस तर्कव्यवस्था से आलोकित करते हैं—इस पूरी पद्धति के लिहाज से इस संकलन में इरफ़ान हबीब, एजाज़ अहमद, सव्यसाची भट्टाचार्य, सूरजभान, रजत कांत रे, एस.पी. वर्मा, शीरीं मूसवी, पी.के. शुक्ला, देवेन्द्र राज अंकुर, इम्तियाज़ अहमद, अमर फ़ारूक़ी, नुज़हत काज़मी, मुहम्मद हसन, शिवकुमार मिश्र, कमलाकान्‍त त्रिपाठी, खगेन्द्र ठाकुर, विजेन्द्र नारायण सिंह, सीताराम येचुरी, नलिनी तनेजा, मनमोहन, असद ज़ैदी, संजीव कुमार आदि के आलेख ग़ौरतलब हैं। 1857 के साथ मैत्रेयी पुष्पा, कुमार अंबुज, योगेन्द्र आहूजा, दिनेश कुमार शुक्ल, सुल्तान अहमद, वंदना राग, विमल कुमार का रचनात्मक संवाद अतीत के साथ वर्तमान को भी आन्दोलित करता है। इतिहास, कला और साहित्य की घटनाओं और रचना प्रक्रियाओं का अन्तर्विरोध समझने के लिहाज़ से ही बीसवीं सदी के महान फ़्रांसीसी इतिहासकार मार्क ब्लाख की यह टिप्पणी स्मरणीय है कि ‘राजनीति, अर्थव्यवस्था और संस्कृति के क्षेत्र की परिघटनाएँ एक ही वक्र पर उपस्थित हों, यह आवश्यक नहीं है।’ इस पुस्तक के माध्यम से इसे 19वीं सदी के उत्तरार्द्ध के भारतीय इतिहास और संस्कृति के सन्दर्भ में बख़ूबी समझा जा सकता है। अंग्रेज़ी में प्रकाशित होने से पहले ही अनेक आलेखों को हिन्दी में उपलब्ध कराने के सराहनीय प्रयास के साथ 1857 की जनक्रान्ति पर अभी तक हिन्दी में प्रकाशित पुस्तकों के बीच निस्सन्‍देह यह पुस्तक अनूठी और विचारोत्तेजक है। 1857 aadhunik bhartiy itihas ki aisi parighatna hai jis par saikdon pustken likhi gai hain. Iske bavjud itihas, kala aur sahitya ke kshetr mein pichhle 150 varshon ke anusandhanon par aadharit navonmeshkari vivechnaon aur udbhavnaon se hindi-urdu bhashi samuday ki chetna mein manthan utpann karnevali pustak ka nitant abhav hai. Isi zarurat ko dhyan mein rakhkar is pustak ki sampurn samagri mein shramsadhya aur ne dhang ke sanchyan ka pryas kiya gaya hai. Is pustak mein purv prkashit samagri alptam hai—sirf san‍darbh batane ke uddeshya se. Angrezi aur hindi-urdu mein abhi tak aprkashit anek mahattvpurn aalekhon aur srijandharmi rachnaon ko vyvasthit rup mein prastut kiya gaya hai—is vyvastha mein ek vaicharik anviti ka hona svabhavik hai. Chunki anviti hi vah vidhi hai jiske madhyam se atyadhunik prakriyaon ko samajhne aur itihas se sanvad kar rahi kalatmak aur sahityik srijanshilta ke sandarbh ka khulasa karne mein madad milti hai. Rangkarm, film, chitrakla, urdu shayri tatha hindi sahitya ke paridrishyon ke vivechan se ise samriddh kiya gaya hai taki itihas, kala aur sahitya ki paraspar sambaddhta ki antःkriya bhi spasht ho sake. 1857 par itihas lekhan yadyapi do prtidhruvon mein vibhakt raha, iske bavjud san sattavan ki jange-azadi ko samkalin samajvaigyanik, chintak aur rachnakar jis drishti se dekhte hain, us aitihasik prakriya ka tatparya jis tarkavyvastha se aalokit karte hain—is puri paddhati ke lihaj se is sanklan mein irfan habib, ejaz ahmad, savysachi bhattacharya, surajbhan, rajat kant re, es. Pi. Varma, shirin musvi, pi. Ke. Shukla, devendr raaj ankur, imtiyaz ahmad, amar faruqi, nuzhat kazmi, muhammad hasan, shivakumar mishr, kamlakan‍ta tripathi, khagendr thakur, vijendr narayan sinh, sitaram yechuri, nalini taneja, manmohan, asad zaidi, sanjiv kumar aadi ke aalekh gauratlab hain. 1857 ke saath maitreyi pushpa, kumar ambuj, yogendr aahuja, dinesh kumar shukl, sultan ahmad, vandna raag, vimal kumar ka rachnatmak sanvad atit ke saath vartman ko bhi aandolit karta hai. Itihas, kala aur sahitya ki ghatnaon aur rachna prakriyaon ka antarvirodh samajhne ke lihaz se hi bisvin sadi ke mahan fransisi itihaskar mark blakh ki ye tippni smarniy hai ki ‘rajniti, arthavyvastha aur sanskriti ke kshetr ki parighatnayen ek hi vakr par upasthit hon, ye aavashyak nahin hai. ’ is pustak ke madhyam se ise 19vin sadi ke uttrarddh ke bhartiy itihas aur sanskriti ke sandarbh mein bakhubi samjha ja sakta hai. Angrezi mein prkashit hone se pahle hi anek aalekhon ko hindi mein uplabdh karane ke sarahniy pryas ke saath 1857 ki janakranti par abhi tak hindi mein prkashit pustkon ke bich nissan‍deh ye pustak anuthi aur vicharottejak hai.