Maut ki Kitab - Khalid Jawed

Rs. 249.00

ख़ालिद जावेद उर्दू कथा-साहित्य के सशक्त हस्ताक्षर हैं| 9 मार्च, 1963 को उत्तर प्रदेश के बरेली में जन्मे ख़ालिद जावेद दर्शनशास्त्र और उर्दू साहित्य पर समान अधिकार रखते हैं| इन्होंने रूहेलखंड विश्विद्यालय में पाँच साल तक दर्शनशास्त्र का अध्यापन कार्य किया है और वर्तमान में जामिया मिल्लिया इस्लामिया में उर्दू...

Description
ख़ालिद जावेद उर्दू कथा-साहित्य के सशक्त हस्ताक्षर हैं| 9 मार्च, 1963 को उत्तर प्रदेश के बरेली में जन्मे ख़ालिद जावेद दर्शनशास्त्र और उर्दू साहित्य पर समान अधिकार रखते हैं| इन्होंने रूहेलखंड विश्विद्यालय में पाँच साल तक दर्शनशास्त्र का अध्यापन कार्य किया है और वर्तमान में जामिया मिल्लिया इस्लामिया में उर्दू के प्रोफ़ेसर हैं| इनके तीन कहानी-संग्रह और दो उपन्यास 'मौत की किताब' तथा 'ने'मतख़ाना' प्रकाशित हो चुके हैं| कहानी 'बुरे मौसम' के लिए इन्हें 'कथा-सम्मान' मिल चुका है| वर्जीनिया में आयोजित वर्ल्ड लिटरेचर कॉफ़्रेंस-2008 में इन्हें कहानी पाठ के लिए आमंत्रित किया गया| 2012 में कराची लिटरेचर फेस्टिवल में भी इन्होंने भारत का प्रतिनिधित्व किया| इनकी कहानी 'आख़िरी दावत' अमेरिका की प्रिंस्टन यूनिवर्सिटी के साउथ एशियन लिटरेचर डिपार्टमेंट के कोर्स में शामिल है| विभिन्न  पत्र-पत्रिकाओं में इनकी कहानियों का अनुवाद हिंदी, अंग्रेज़ी, जर्मन सहित अनेक भाषाओं में होता रहा है| इनकी दो आलोचना की पुस्तकें 'गैर्ब्रियल  गार्सिया मारकेज़' और 'मिलान कुंदेरा' भी प्रकाशित हो चुकी हैं|