BackBack

Puchhte Hain Wo Ki Ghalib Kaun Hai - Ghalib ke 100 She'ron Ki Vyaakhya

Explanation: Ali Shah Shoeb and Aakash 'Arsh' & Editor: Qamar Abbas Qamar

Rs. 199

ये किताब ग़ालिब के सौ अशआर और उनकी व्याख्या का संकलन है| अशआर के चयन में मशहूर के साथ-साथ कम जाने-सुने वाले अशआर शामिल करके ऐसा गुलदस्ता तैयार किया गया है जिससे उनकी शायरी के बाग़ में शामिल तमाम फूलों की ख़ुशबुओं का लुत्फ़ लिया जा सके| व्याख्या के साथ... Read More

Reviews

Customer Reviews

Based on 2 reviews
100%
(2)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
G
Gaurav Raj

Puchhte Hain Wo Ki Ghalib Kaun Hai - Ghalib ke 100 She'ron Ki Vyaakhya

N
Naeem Blogger
Ghalib best books

i like these books i like it it is very beautiful book of poetry.

Description
ये किताब ग़ालिब के सौ अशआर और उनकी व्याख्या का संकलन है| अशआर के चयन में मशहूर के साथ-साथ कम जाने-सुने वाले अशआर शामिल करके ऐसा गुलदस्ता तैयार किया गया है जिससे उनकी शायरी के बाग़ में शामिल तमाम फूलों की ख़ुशबुओं का लुत्फ़ लिया जा सके| व्याख्या के साथ ही मुश्किल अल्फ़ाज़ के अर्थ भी दिए गए हैं ताकि पाठक शेर के मूल अर्थ तक पहुँच सके और उसका आनन्द अपने तौर पर ले सके|

Puchhte Hain Wo Ki Ghalib Kaun Hai - Ghalib ke 100 She'ron Ki Vyaakhya

ये किताब ग़ालिब के सौ अशआर और उनकी व्याख्या का संकलन है| अशआर के चयन में मशहूर के साथ-साथ कम जाने-सुने वाले अशआर शामिल करके ऐसा गुलदस्ता तैयार किया गया है जिससे उनकी शायरी के बाग़ में शामिल तमाम फूलों की ख़ुशबुओं का लुत्फ़ लिया जा सके| व्याख्या के साथ ही मुश्किल अल्फ़ाज़ के अर्थ भी दिए गए हैं ताकि पाठक शेर के मूल अर्थ तक पहुँच सके और उसका आनन्द अपने तौर पर ले सके|