Jaun Eliya Ka Jinn

Irshad Khan Sikandar

Rs. 250

अपनी ख़ास क़िस्म की शाइरी और उसे कहने के अन्दाज़ की वजह से जौन एलिया देश-विदेश में बहुत ही लोकप्रिय हुए, ख़ासकर युवाओं के बीच। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि आधुनिक उर्दू शाइरी के वे एक ‘राकस्टार’ हैं। उन्हीं के ऊपर आधारित है यह नाटक, जिसके बारे में मशहूर... Read More

Reviews

Customer Reviews

Be the first to write a review
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
0%
(0)
Description
अपनी ख़ास क़िस्म की शाइरी और उसे कहने के अन्दाज़ की वजह से जौन एलिया देश-विदेश में बहुत ही लोकप्रिय हुए, ख़ासकर युवाओं के बीच। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि आधुनिक उर्दू शाइरी के वे एक ‘राकस्टार’ हैं। उन्हीं के ऊपर आधारित है यह नाटक, जिसके बारे में मशहूर शाइर फ़रहत अहसास का कहना है, ‘‘जौन एलिया का जिन एक बनती हुई लोक कथा या लीजेंड का ड्रामाई रूपांतरण है, जो इस लिहाज़ से निहायत दिलचस्प और प्रयोगात्मक रंग-कर्म है कि यहाँ एक ज़िन्दगी के मिथक बनते जाने को, नाटक की शक्ल में एक नाटकीय आधार या आकृति देने की कोशिश की गयी है, कुछ इस तरह कि हमारे ज़माने में, हमारी आँखों के सामने, एक शख़्स की अपने ज़िन्दगी-नामे या जीवनी में से निकल कर कहानियों की दुनिया का किरदार बनने की छपटपटाहट, ख़ुद एक नाटक की शक्ल हासिल करने के लिए ज़मीन तैयार कर रही है।’’
परिचित युवा शाइर इरशाद ख़ान ‘सिकन्दर’ के लिखे इस नाटक के किरदार, उनकी ज़बान जहाँ एक ओर जौन एलिया के मिथक का निर्माण करते हैं तो वहीं दूसरी ओर यह नाटक में एक नया प्रयोग है। apnii KHaas qim kii shaa.irii aur use kahne ke andaaz kii vajah se jaun eliyaa desh-videsh me.n bahut hii lokapriy hu.e, Khaaskar yuvaa.o.n ke biich। yah kahnaa atishyokti nahii.n hogii ki aadhunik urduu shaa.irii ke ve ek ‘raakasTaar’ hain। unhii.n ke uupar aadhaarit hai yah naaTk, jiske baare me.n mash.huur shaa.ir farhat ahsaas ka kahnaa hai, ‘‘jaun eliyaa ka jin ek bantii hu.ii lok katha ya liijenD ka Draamaa.ii ruupaantraN hai, jo is lihaaz se nihaayat dilchasp aur prayogaatmak rang-karm hai ki yahaa.n ek zindgii ke mithak bante jaane ko, naaTk kii shakl me.n ek naaTkiya aadhaar ya aakriti dene kii koshish kii gayii hai, kuchh is tarah ki hamaare zamaane men, hamaarii aa.nkho.n ke saamne, ek shaKHs kii apne zindgii-naame ya jiivanii me.n se nikal kar kahaaniyo.n kii duniyaa ka kirdaar ban.ne kii chhapaTapTaahaT, KHu ek naaTk kii shakl haasil karne ke liye zamiin taiyaar kar rahii hai।’’
parichit yuva shaa.ir irshaad KHaan ‘sikandar’ ke likhe is naaTk ke kirdaar, unkii zabaan jahaa.n ek or jaun eliyaa ke mithak ka nirmaa.n karte hai.n to vahii.n duusrii or yah naaTk me.n ek nayaa prayog hai।

Jaun Eliya Ka Jinn

अपनी ख़ास क़िस्म की शाइरी और उसे कहने के अन्दाज़ की वजह से जौन एलिया देश-विदेश में बहुत ही लोकप्रिय हुए, ख़ासकर युवाओं के बीच। यह कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी कि आधुनिक उर्दू शाइरी के वे एक ‘राकस्टार’ हैं। उन्हीं के ऊपर आधारित है यह नाटक, जिसके बारे में मशहूर शाइर फ़रहत अहसास का कहना है, ‘‘जौन एलिया का जिन एक बनती हुई लोक कथा या लीजेंड का ड्रामाई रूपांतरण है, जो इस लिहाज़ से निहायत दिलचस्प और प्रयोगात्मक रंग-कर्म है कि यहाँ एक ज़िन्दगी के मिथक बनते जाने को, नाटक की शक्ल में एक नाटकीय आधार या आकृति देने की कोशिश की गयी है, कुछ इस तरह कि हमारे ज़माने में, हमारी आँखों के सामने, एक शख़्स की अपने ज़िन्दगी-नामे या जीवनी में से निकल कर कहानियों की दुनिया का किरदार बनने की छपटपटाहट, ख़ुद एक नाटक की शक्ल हासिल करने के लिए ज़मीन तैयार कर रही है।’’
परिचित युवा शाइर इरशाद ख़ान ‘सिकन्दर’ के लिखे इस नाटक के किरदार, उनकी ज़बान जहाँ एक ओर जौन एलिया के मिथक का निर्माण करते हैं तो वहीं दूसरी ओर यह नाटक में एक नया प्रयोग है। apnii KHaas qim kii shaa.irii aur use kahne ke andaaz kii vajah se jaun eliyaa desh-videsh me.n bahut hii lokapriy hu.e, Khaaskar yuvaa.o.n ke biich। yah kahnaa atishyokti nahii.n hogii ki aadhunik urduu shaa.irii ke ve ek ‘raakasTaar’ hain। unhii.n ke uupar aadhaarit hai yah naaTk, jiske baare me.n mash.huur shaa.ir farhat ahsaas ka kahnaa hai, ‘‘jaun eliyaa ka jin ek bantii hu.ii lok katha ya liijenD ka Draamaa.ii ruupaantraN hai, jo is lihaaz se nihaayat dilchasp aur prayogaatmak rang-karm hai ki yahaa.n ek zindgii ke mithak bante jaane ko, naaTk kii shakl me.n ek naaTkiya aadhaar ya aakriti dene kii koshish kii gayii hai, kuchh is tarah ki hamaare zamaane men, hamaarii aa.nkho.n ke saamne, ek shaKHs kii apne zindgii-naame ya jiivanii me.n se nikal kar kahaaniyo.n kii duniyaa ka kirdaar ban.ne kii chhapaTapTaahaT, KHu ek naaTk kii shakl haasil karne ke liye zamiin taiyaar kar rahii hai।’’
parichit yuva shaa.ir irshaad KHaan ‘sikandar’ ke likhe is naaTk ke kirdaar, unkii zabaan jahaa.n ek or jaun eliyaa ke mithak ka nirmaa.n karte hai.n to vahii.n duusrii or yah naaTk me.n ek nayaa prayog hai।