Gaban

Premchand

Rs. 185

1931 में लिखा, ग़बन, मुंशी प्रेमचंद का सबसे अधिक लोकप्रिय उपन्यास है जो आजादी से पहले उत्तर भारत के समाज का एक बहुत ही जीवंत चित्र खींचता है। रमानाथ की पत्नी जालपा को गहनों से इतना लगाव है कि उसके लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार है।... Read More

Description

1931 में लिखा, ग़बन, मुंशी प्रेमचंद का सबसे अधिक लोकप्रिय उपन्यास है जो आजादी से पहले उत्तर भारत के समाज का एक बहुत ही जीवंत चित्र खींचता है। रमानाथ की पत्नी जालपा को गहनों से इतना लगाव है कि उसके लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार है। और अपनी पत्नी की गहनों की ख़्वाहिश को पूरा करने के लिए रमानाथ इतनी बड़ी उलझन में फँस जाता है, जिस में वह अपने परिवार की इज्जत तक को दाव पर लगा देता है। कैसे जालपा सुलझाती है उस उलझन को- इसी उधेड़-बुन की पठनीय कहानी है ग़बन। 1931 me.n likhaa, Gaban, munshii premchand ka sabse adhik lokapriy upanyaas hai jo aajaadii se pahle uttar bhaarat ke samaaj ka ek bahut hii jiivant chitr khiinchtaa hai। ramaanaath kii patnii jaalpaa ko gahno.n se itnaa lagaav hai ki uske liye vah kisii bhii had tak jaane ko taiyaar hai। aur apnii patnii kii gahno.n kii KHvaahish ko puura karne ke liye ramaanaath itnii ba.Dii uljhan me.n pha.ns jaataa hai, jis me.n vah apne parivaar kii ijjat tak ko daav par laga detaa hai। kaise jaalpaa suljhaatii hai us uljhan ko- isii udhe.D-bun kii paThniiy kahaanii hai Gaban।

Additional Information
Color

Black

Publisher Rajpal and Sons
Language Hindi
ISBN 9.78935E+12
Pages 264
Publishing Year

Gaban

1931 में लिखा, ग़बन, मुंशी प्रेमचंद का सबसे अधिक लोकप्रिय उपन्यास है जो आजादी से पहले उत्तर भारत के समाज का एक बहुत ही जीवंत चित्र खींचता है। रमानाथ की पत्नी जालपा को गहनों से इतना लगाव है कि उसके लिए वह किसी भी हद तक जाने को तैयार है। और अपनी पत्नी की गहनों की ख़्वाहिश को पूरा करने के लिए रमानाथ इतनी बड़ी उलझन में फँस जाता है, जिस में वह अपने परिवार की इज्जत तक को दाव पर लगा देता है। कैसे जालपा सुलझाती है उस उलझन को- इसी उधेड़-बुन की पठनीय कहानी है ग़बन। 1931 me.n likhaa, Gaban, munshii premchand ka sabse adhik lokapriy upanyaas hai jo aajaadii se pahle uttar bhaarat ke samaaj ka ek bahut hii jiivant chitr khiinchtaa hai। ramaanaath kii patnii jaalpaa ko gahno.n se itnaa lagaav hai ki uske liye vah kisii bhii had tak jaane ko taiyaar hai। aur apnii patnii kii gahno.n kii KHvaahish ko puura karne ke liye ramaanaath itnii ba.Dii uljhan me.n pha.ns jaataa hai, jis me.n vah apne parivaar kii ijjat tak ko daav par laga detaa hai। kaise jaalpaa suljhaatii hai us uljhan ko- isii udhe.D-bun kii paThniiy kahaanii hai Gaban।