Pratinidhi kavitayen : Kedarnath Singh

Rs. 99

केदारनाथ सिंह शायद हिन्दी के समकालीन काव्य-परिदृश्य में अकेले ऐसे कवि हैं, जो एक ही साथ गाँव के भी कवि हैं और शहर के भी। अनुभव के ये दोनों छोर कई बार उनकी कविता में एक ही साथ और एक ही समय दिखाई पड़ते हैं। शायद भारतीय अनुभव की यह... Read More

Description

केदारनाथ सिंह शायद हिन्दी के समकालीन काव्य-परिदृश्य में अकेले ऐसे कवि हैं, जो एक ही साथ गाँव के भी कवि हैं और शहर के भी। अनुभव के ये दोनों छोर कई बार उनकी कविता में एक ही साथ और एक ही समय दिखाई पड़ते हैं। शायद भारतीय अनुभव की यह अपनी एक विशेष बनावट है जिसे नकारकर सच्ची भारतीय कविता नहीं लिखी जा सकती। केदार की कविता जो पहली बार रूप या तंत्र के धरातल पर एक आकर्षक विस्मय पैदा करती है क्रमश: बिम्ब और विचार के संगठन में मूर्त होती है और एक तीखी बेलौस सच्चाई की तरह पूरे सामाजिक दृश्य पर अंकित होती चली जाती है।
केदारनाथ सिंह की कविताएँ समय में देर तक टिकनेवाली कविताएँ हैं। केदार की कविताओं की दुनिया एक ऐसी दुनिया है जिसमें रंग, रोशनी, रूप, गन्ध, दृश्य एक-दूसरे में खो जाते हैं। पर यही दुनिया है, जिसमें कविता का 'कमिटमेंट' खो नहीं जाता; वहाँ हमें कविता के मूल सरोकार, कविता की बुनियादी चिन्ता, कविता का कथ्य या सन्देश (बेशक स्थूल अर्थ में नहीं) पूरी तीव्रता के साथ ध्वनित या स्पन्दित रहता है।
केदार की कविता किसी अर्थ में एकालाप नहीं, वह हर हालत में एक सार्थक संवाद है। वह एक पूरे समय की व्यवस्था और उसकी क्रूर जड़ता या स्तब्धता को विचलित करती है। चुप्पी और शब्द के रिश्ते को वह बख़ूबी पहचानती है और उसे एक ऐसी काव्यात्मक चरितार्थता या विश्वसनीयता देती है, जिसके उदाहरण कम मिलते हैं। Kedarnath sinh shayad hindi ke samkalin kavya-paridrishya mein akele aise kavi hain, jo ek hi saath ganv ke bhi kavi hain aur shahar ke bhi. Anubhav ke ye donon chhor kai baar unki kavita mein ek hi saath aur ek hi samay dikhai padte hain. Shayad bhartiy anubhav ki ye apni ek vishesh banavat hai jise nakarkar sachchi bhartiy kavita nahin likhi ja sakti. Kedar ki kavita jo pahli baar rup ya tantr ke dharatal par ek aakarshak vismay paida karti hai krmash: bimb aur vichar ke sangthan mein murt hoti hai aur ek tikhi belaus sachchai ki tarah pure samajik drishya par ankit hoti chali jati hai. Kedarnath sinh ki kavitayen samay mein der tak tiknevali kavitayen hain. Kedar ki kavitaon ki duniya ek aisi duniya hai jismen rang, roshni, rup, gandh, drishya ek-dusre mein kho jate hain. Par yahi duniya hai, jismen kavita ka kamitment kho nahin jata; vahan hamein kavita ke mul sarokar, kavita ki buniyadi chinta, kavita ka kathya ya sandesh (beshak sthul arth mein nahin) puri tivrta ke saath dhvnit ya spandit rahta hai.
Kedar ki kavita kisi arth mein ekalap nahin, vah har halat mein ek sarthak sanvad hai. Vah ek pure samay ki vyvastha aur uski krur jadta ya stabdhta ko vichlit karti hai. Chuppi aur shabd ke rishte ko vah bakhubi pahchanti hai aur use ek aisi kavyatmak charitarthta ya vishvasniyta deti hai, jiske udahran kam milte hain.